कान से खून निकलना नहीं है सामान्य, जानें इसके 5 कारण

कान से खून बहना कोई आम समस्‍या नहीं है, इसके पीछे गंभीर कारण हो सकते हैं, आइए जानते हैं उनके बारे में 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Jun 11, 2021Updated at: Aug 05, 2021
कान से खून निकलना नहीं है सामान्य, जानें इसके 5 कारण

कान से खून बहने का क्‍या कारण है? कान से खून आना कोई सामान्‍य बात नहीं है, इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं। ईयरड्रम में इंफेक्‍शन, चोट लगने या पर्दे फटने होने के कारण भी कान से खून आ सकता है। हमारे कानों में मौजूद ईयरड्रम, म‍िडि‍ल ईयर और बाहरी धूल या कण के बीच एक सुरक्षा कवच का काम करता है, इससे कान अंदर से सुरक्ष‍ित रहता है। अगर आपके कान से खून न‍िकल रहा है तो मतलब इनर ईयर में कोई इंफेक्‍शन है या क‍िसी अन्‍य समस्‍या के चलते ऐसा हो रहा है। अगर इंफेक्‍शन के चलते कान से खून न‍िकल रहा है तो ये आपके कान की हड्डी को नुकसान पहुंचा सकता है, कुछ केस में मरीज के सुनने की शक्‍ति चली जाती है, इसल‍िए ऐसी कोई भी समस्‍या होने पर तुरंत डॉक्‍टर को द‍िखाएं ताक‍ि सही समय पर इलाज म‍िल पाए। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की। 

ear bleeding

कान से खून बहने के कारण (Causes of ear bleeding)

1. कान में इंजरी होना (Ear Injury)

मान लीजि‍ए आप कॉटन स्‍वैब से कान साफ कर रहे हों और उसका टुकड़ा कान में चला जाए या कोई छोटी चीज कान में फंस जाए तो ये कान को चोट‍िल कर सकती है। बच्‍चों में ये समस्‍या ज्‍यादातर होती है, वे खेलते समय कोई चीज या ख‍िलौना कान में डाल लेते हैं जि‍सके चलते खून बहने लगता है। 

2. कान में इंफेक्‍शन (Ear Infection)

कान के बीच के ह‍िस्‍से यानी म‍िडि‍ल ईयर में बैक्‍टीर‍िया या वायरस चले जाने के कारण कान का इंफेक्‍शन हो सकता है। इंफेक्‍शन के चलते म‍िडि‍ल ईयर में आई सूजन के चलते कान से खून न‍िकल सकता है। अंदर से प्रेशर बनने के कारण ईयरड्रम खराब हो सकता है और खून तेजी से बाहर आ जाता है।

इसे भी पढ़ें- बच्चे ही नहीं बड़ों को भी हो सकता है कान में गंभीर इंफेक्शन, जानें इयर इंफेक्शन के 7 प्रकार और उनके लक्षण

3. बैरोट्रॉमा (Barotrauma)

जब आप स्‍कूबा डाइव करते हैं या प्‍लेन में सफर करते हैं तो आपके कानों पर अचानक से प्रेशर बनता है। इससे आपको कान में ख‍िंचाव महसूस होता है। इस खिंचाव से दर्द होता है और कान में इंजरी भी हो सकती है, इस समस्‍या को बैरोट्रॉमा कहते हैं। 

4. कान के पर्दे फटना (Torn Eardrum)

कान के पर्दे फटने पर भी कानों से खून न‍िकल सकता है। इस समस्‍या के लक्षण नजर आने पर आपको तुरंत डॉक्‍टर के पास जाना चाहिए। कान के पर्दे फटने के कई कारण हो सकते हैं जैसे- कान में चोट लगना, कान का इंफेक्‍शन, अचानक से कान पर प्रेशर पड़ना, तेज आवाज का कान में जाना आदि। कान के पर्दे फटने पर कान में सीटी जैसी आवाज और अचानक से दर्द उठ सकता है। 

5. स‍िर में चोट लगना (Head Injury)

अगर आपको कान में दर्द, कान से खून आने जैसी समस्‍या है तो ये स‍िर पर लगी चोट के कारण भी हो सकता है। अगर आपके स‍िर पर चोट लगी है तो खून बहने की समस्‍या द‍िमाग से लेकर कान तक हो सकती है, ये एक मेड‍िकल इमरजेंसी की स्‍थ‍ित‍ि है, ऐसे में तुरंत अस्‍पताल जाएं। स‍िर पर गहरी चोट लगने पर कान में दर्द के अलावा मरीज को बोलने में परेशानी होना, बेहोश होने जैसे लक्षण नजर आ सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- कानों में होती सनसनाहट (टिकलिंग) होने के क्या कारण हो सकते हैं? जाने इस समस्या के लक्षण, कारण और इलाज

कान से खून न‍िकलने पर हो सकती हैं ये गंभीर समस्‍याएं (Complications of ear bleeding)

कान से खून न‍िकलने पर इन गंभीर समस्‍याओं का सामना करना पड़ सकता है- 

  • व्‍यक्‍त‍ि को बोलने में परेशानी हो सकती है। 
  • कानों से सुनाई देना बंद हो सकता है। 
  • कानों में घंटी जैसी आवाज आ सकती है। 
  • व्‍यक्‍त‍ि अपने सोचने समझने की शक्‍त‍ि खो सकता है। 
  • स‍िर में लगातार दर्द की समस्‍या हो सकती है। 
  • चलते या बैठते समय बैलेंस बनाने में परेशानी हो सकती है। 

कान से खून बहने पर क्‍या इलाज क‍िया जाता है? (Treatment of ear bleeding)

ear bleeding treatment

  • अगर कान में कुछ चले जाने के कारण खून बह रहा है तो स‍िर टेढ़ा करें ज‍िससे अंदर गई चीज न‍िकल आए और ट्व‍िजर की मदद से उस चीज को कान से न‍िकाल लें, लेकि‍न ये इलाज केवल उस स्‍थित‍ि में करें जब मेड‍िकल सहायता उपलब्‍ध न हो।
  • कान से कोई बाहरी ऑबजेक्‍ट न‍िकालने के ल‍िए आपको डॉक्‍टर की मदद ही लेनी है। 
  • अगर कान में इंफेक्‍शन के कारण खून बह रहा है तो डॉक्‍टर आपको एंटीबायोट‍िक दवाएं दे सकते हैं। 
  • कान से खून बहने पर दर्द भी हो सकता है ज‍िसे ठीक करने के ल‍िए डॉक्‍टर पेनक‍िलर दे सकते हैं। 
  • जब तक डॉक्‍टर आपका इलाज न कर दें, कान से खून बहने पर कान को साफ कपड़े या टि‍शू से ढक कर रखें। 

हमारे कान बेहद नाजुक होते हैं, इनका ध्‍यान रखने के ल‍िए डॉक्‍टर से समय-समय पर कानों का चेकअप करवाते रहें, ताक‍ि बीमारी जल्‍द पकड़ में आ जाए और आपके कान स्‍वस्‍थ रहें। 

Read more on Other Diseases in Hindi  

Disclaimer