अपने मनपसंद काम में भी मन न लगना हो सकता है Anhedonia का संकेत, जानें क्या है ये समस्या

अपने पसंदीदा काम और किसी भी एक्टिविटी में मन न लगना एन्हेडोनिया का संकेत हो सकता है, जानें इस मानसिक समस्या के बारे में।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghUpdated at: Sep 06, 2021 16:39 IST
अपने मनपसंद काम में भी मन न लगना हो सकता है Anhedonia का संकेत, जानें क्या है ये समस्या

आज की इस भागदौड़ भरी दुनिया में लोग अपने पसंदीदा काम या एक्टिविटी को करने के लिए भी समय नहीं निकाल पाते हैं। वहीं कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिनके पास समय होते हुए भी वह अपनी पसंदीदा एक्टिविटी या काम में मन नहीं लगा पाते हैं। ऐसे इसलिए भी हो सकता है कि उस समय आपका कोई भी काम करने का मूड न हो। लेकिन जब यह समस्या बार-बार इंसान को होती है तो उसे मानसिक अवसाद की समस्या हो सकती है। पसंदीदा कामों में या पसंदीदा एक्टिविटी के साथ किसी भी काम में मन न लगना एन्हेडोनिया (Anhedonia) का संकेत हो सकता है। यह एक प्रकार की मानसिक समस्या है जिसमें इंसान का अपने काम के अलावा उसके पसंदीदा कामों में भी मन नहीं लगता है।

क्या है एन्हेडोनिया की समस्या? (What is Anhedonia?)

एन्हेडोनिया एक प्रकार की मानसिक समस्या है जिसमें इंसान को किसी भी काम में आनंद नहीं आता है। एन्हेडोनिया सिर्फ एक प्रकार का अवसाद नहीं है बल्कि यह अन्य मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं का लक्षण भी है। उदहारण के लिए अगर आपका मन क्रिकेट खेलने में लगता है तो आप उसके लिए किसी न किसी प्रकार से समय निकालने की कोशिश करते हैं। वही अगर किसी दूसरे व्यक्ति को गिटार बजाने में मजा आता है तो उसे उस काम में मन लगेगा। लेकिन जब किसी व्यक्ति के पास समय होने के बावजूद उसका मन उन पसंदीदा कामों में नहीं लगता है तो इस समस्या को एन्हेडोनिया कहा जा सकता है।

Anhedonia-Causes-Symptoms-Treatment

(image source - freepik.com)

इसे भी पढ़ें : मेंटल हेल्थ को अच्छा रखने के लिए जरूरी है गपशप (गॉसिपिंग), जानें इसके सकारात्मक प्रभाव

एन्हेडोनिया के प्रकार (Types of Anhedonia)

एन्हेडोनिया की समस्या मुख्य रूप से मानसिक समस्याओं से ग्रसित व्यक्तियों में देखी जाती है। इसे मानसिक विकारों का लक्षण भी माना जाता है। एन्हेडोनिया के मुख्य रूप दो प्रकार होते हैं।

सामाजिक एन्हेडोनिया (Social Anhedonia) - इस स्थिति में आप सामाजिक होने से कतराते हैं और अन्य लोगों के साथ किसी भी काम में दूसरों के साथ समय बिताने से दूर भागते हैं। 

शारीरिक एन्हेडोनिया (Physical Anhedonia) - इस स्थिति में आपका मन शारीरिक कामों में नहीं लगता है। शारीरिक एन्हेडोनिया की स्थिति में इंसान की शारीरिक संवेदनाएं भी खत्म हो जाती हैं। हर काम में आपको खालीपन ही पसंद आता है। इस समस्या से ग्रसित व्यक्ति को उसका पसंदीदा फूड भी स्वादिष्ट नहीं लगता है। यहां तक कि इंसान अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से भी मिलने में कतराने लगता है।

Anhedonia-Causes-Symptoms-Treatment

(image source - freepik.com)

इसे भी पढ़ें : मेडिटेशन करने पर खुद में दिखें ये 6 बदलाव तो, हो सकते हैं ये इसके नुकसान

क्यों होती है एन्हेडोनिया की समस्या? (What Causes Anhedonia?)

एन्हेडोनिया को मानसिक समस्याओं के सबसे बड़े लक्षण के रूप में जाना जाता है। यह समस्या हर उस व्यक्ति में देखने को मिल सकती है जो किसी तरह की मानसिक समस्या से पीड़ित है। विशेषज्ञों का मानना है कि यह समस्या एंटीडिपेंटेंट्स और एंटीसाइकोटिक्स अत्यधिक उपयोग से भी हो सकती है। एन्हेडोनिया की समस्या के प्रमुख कारण इस प्रकार से हैं।

  • अवसाद के कारण
  • नशे या दवाओं के अत्यधिक उपयोग से।
  • मानसिक बीमारी की फैमिली हिस्ट्री में।

एन्हेडोनिया के लक्षण (Anhedonia Symptoms)

मानसिक अवसाद या मानसिक विकारों की तरह ही एन्हेडोनिया की समस्या में भी इंसान में कई तरह के लक्षण देखने को मिलते हैं। लेकिन एन्हेडोनिया में दिखने वाले कुछ लक्षण प्रमुखता से सभी लोगों में देखे जा सकते हैं। सामाजिक और शारीरिक एन्हेडोनिया की समस्या में देखे जाने वाले प्रमुख लक्षण इस प्रकार से हैं। 

  • सामाजिक दूरी बनाना। 
  • रिश्तेदारों या दोस्तों से दूर रहना। 
  • दूसरों के प्रति नकारात्मक रहना। 
  • किसी भी काम में मन न लगना। 
  • भावनात्मक क्षमताओं की कमी। 
  • अक्सर बीमार रहना। 
  • मानसिक अस्थिरता। 
Anhedonia-Causes-Symptoms-Treatment
(image source - freepik.com)

इस समस्या के लक्षण दिखने पर मरीज को तुरंत चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए। एन्हेडोनिया की समस्या को मानसिक विकारों का सबसे प्रमुख लक्षण माना जाता है। जिसका मतलब है कि अगर आप एन्हेडोनिया की समस्या से पीड़ित हैं तो आपको मानसिक विकार भी हो सकते हैं। इसके लक्षण दिखने पर आप चिकित्सक के पास जरूर जायें। मनोवैज्ञानिक इस समस्या में दवाओं के साथ कुछ थेरेपी का सहारा लेते हैं। शुरुआत में इसके लक्षणों को पहचानकर सही समय पर डॉक्टर का परामर्श लेना इस समस्या में फायदेमंद माना जाता है। अन्यथा इसकी वजह से आपको कई अन्य गंभीर मानसिक समस्याएं हो सकती हैं। 

(main image source - freepik.com)

Read More Articles on Mind and Body in Hindi

Disclaimer