ये हैं सर्दियों में होने वाली 10 आम बीमारियां, आयुर्वेदाचार्य से जानें इन बीमारियों के लिए आसान घरेलू उपचार

सर्दियों में कई बीमारियां दस्तक देती हैं। इन बीमारियों से बचाव के लिए हमें कुछ घरेलू नुस्खे अपनाने चाहिएं। आइए एक्सपर्ट से जानते हैं इस बारे में।

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Dec 03, 2020
ये हैं सर्दियों में होने वाली 10 आम बीमारियां, आयुर्वेदाचार्य से जानें इन बीमारियों के लिए आसान घरेलू उपचार

सर्दियों के मौसम में कई समस्याएं दस्तक देनी शुरू हो जाती हैं। शरीर का तापमान अधिक और बाहर का तापमान कम होने के कारण व्यक्ति कई समस्याओं से परेशान हो जाता है। ऐसे में इन समस्याओं से बचाव की जरूरत होती है। सर्दियों में बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक सभी काफी ज्यादा परेशान रहते हैं। शुष्क हवाओं के कारण इस मौसम में स्किन फटना बहुत ही आम समस्या है। इसके अलावा सर्दी, जुकामस फ्लू इत्यादि कई अन्य समस्याएं सर्दियों में होती हैं। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से सर्दियों में होने वाली 10 बीमारियों के बारे में बताने जा रहे हैं। आइए गाजियाबाद स्वर्ण जयंती के आयुर्वेदाचार्य डॉक्टर राहुल चतुर्वेदी से जानते हैं सर्दियों में होने वाली बीमारियों और उसके बचाव के बारे में- 

खांसी-जुकाम

सर्दियों में खांसी जुकाम होना बहुत ही आम है। लेकिन अगर समय पर इसका इलाज ना हुआ तो आपको अन्य समस्याएं हो सकती हैं। जैसे- नाक बहना, कफ, गले में दर्द, कफ की समस्या इत्यादि। इन समस्याओं से बचाव के लिए आप अपने घर में कुछ घरेलू नुस्खे अपना सकते हैं। आइए आयुर्वेदाचार्य डॉक्ट राहुत चतुर्वेदी से जानते हैं इस बारे में-

सर्दियों में खांसी-जुकाम होना उपचार -आयुर्वेदाचार्य डॉ. राहुल चतुर्वेदी का कहना है कि खांसी और जुकाम की समस्या से राहत पाने के लिए काली मिर्च, लौंग इलायची, बरहड़, कच्ची हल्दी, अदरक इत्यादि गर्म चीजें लेने से आपको राहत मिलती हैं। लेकिन इन सभी चीजों का सेवन करने से पहले इसकी मात्रा का ख्याल रखें। बिना चिकित्सक की सलाह के इन सभी चीजों का सेवन करना भी आपके लिए घातक हो सकता है।

इसे भी पढ़ें - सर्दी में आप भी हैं खांसी, जुकाम और प्रदूषण से परेशान? डायटीशियन से जानें फेफड़े को डिटॉक्स करने के आसान तरीके

अस्थमा की समस्या

सर्दियों में सर्द हवाओं की वजह से अस्थमा के लक्षण काफी ज्यादा बढ़ जाते हैं। इस दौरान गले में घरघराहट और सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्याएं होने लगती है। ऐसे में अस्थमा के रोगियों ठंड के मौसम में अपना खास ख्याल रखना चाहिए। ठंडियों में हवाओं में एलर्जेंस काफी ज्यादा मौजूद होते हैं, जो अस्थमा के रोगियों के लिए खतरनाक साबित हो सकते  हैं। इस कारण झींक, खांसी और छाती में जकड़न जैसी परेशानी हो जाती है। 

अस्थमा का घरेलू उपचार -  डॉक्टर राहुल चतुर्वेदी बताते हैं कि अस्थमा के रोगियों को सर्दियों में खास ख्याल रखना होता है। बाहर निकलने से पहले हमेशा अपने हाथ, पैर और मुंह को ढककर रखें। पैरों में हमेशा मौजे पहने रहें। चिकित्सक की सलाह पर गर्म चीजों का सेवन करें। रात में सोने से पहले 1 गिलास दूध में 5-6 लहसुन की कलियां डालकर उबालें और इसे पी जाएं। यह दूध अस्थमा रोगियों के लिए फायदेमंद हो सकता है।

हाइपोथर्मिया 

हाइपोथर्मिया एक ऐसी स्थिति है, जिसमें शरीर का तापमान 35 डिग्री के नीचे चला जाता है। इस वजह से शरीर बहुत ही ज्यादा ठंडा होता है। ऐसे मरीजों को घर से बाहर निकलने या फिर पानी छूने में काफी ज्यादा ठंड लगती है। इस वजह से शरीर में थकान, बार-बार पेशाब आना औह थरथराहट जैसा महसूस होता है। इस समस्या का इलाज जल्द ना कराया गया, तो व्यक्ति की मौत हो सकती है। हाइपोथर्मिया से बचने के लिए मरीज को गर्म चीजें खानी चाहिए। 

इसे भी पढ़ें - सर्दी के मौसम में थायराइड रोगियों को किस तरह रखना चाहिए अपनी सेहत का ध्यान, जानें 5 महत्वपूर्ण टिप्स

हाइपोथर्मिया का घरेलू उपचार - डॉक्टर राहुल चतुर्वेदी बताते हैं कि हाइपोथर्मिया से ग्रसित व्यक्ति को गर्म स्थान पर रखें। उन्हें कंबल या मोटी चीजों से ढककर रखें। ऐसे व्यक्ति के पास आग जलाएं, ताकि उसे गर्मी पहुंचे। स्किन टू स्किन हीट दें। हाइपोथर्मिया के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से सलाह लेना ही इसका बचाव है। 

यूरिक एसिड बढ़ना

यूरिक एसिड की समस्या से ग्रसित लोगों को भी सर्दियों में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। सर्दियां जैसे ही शुरू होती है, उन्हें अंगूठों में दर्द की शिकायत शुरू हो जाती है। इसके अलावा अगर यूरिक एसिड शरीर में ज्यादा बढ़ जाए, तो घुटनों और जोड़ों में भी दर्द शुरू हो जाता है। इन समस्याओं से बचाव के लिए आप आयुर्वेदिक उपचार का सहारा ले सकते हैं।

यूरिक एसिड को कंट्रोल करने के घरेलू उपचार - डॉक्टर राहुल चतुर्वेदी बताते हैं कि यूरिक एसिड को हम कंट्रोल करने के कई घरेलू उपचार हैं। यदि आप यूरिक एसिड की समस्या से ग्रसित हैं, तो 1 चम्मच काला जीरा लें। इसे अच्छी तरह भूनें। अब इसे पीसकर 1 गिलास गर्म पानी से इसका सेवन करें। ध्यान रहे कि जीरा का सेवन करने से एक घंटा पहले और बाद में कुछ भी ना खाएं। 

ड्राई स्किन

आचार्य राहुल चतुर्वेदी बताते हैं कि सर्दियों में शुष्क हवाओं की वजह से स्किन काफी ड्राई हो जाती है। ड्राई स्किन सेहत पर काफी बुरा असर डाल सकती है। ऐसे में आपको स्किन ड्राई होने से पहले कुछ घरेलू उपाय अपनाने चाहिएं। 

ड्राई स्किन से बचाव के घरेलू उपाय - आचार्य राहुल बताते हैं कि रात को सोने से पहले अपने चेहरे और हाथ-पैरों को सरसो तेल से मालिश करें। इससे आपको अच्छी नींद भी आएगी। साथ ही ड्राई स्किन से भी छुटकारा मिलेगा। इसके अलावा अगर आपकी होंठ फटती है, जो नाभि में 1 बूंद तेल डालकर सोएं। यह आपके लिए फायदेमंद है। 

अर्थराइटिस

आयुर्वेदाचार्य राहुल चतुर्वेदी का कहना है कि सर्दियों में हमारा शरीर हीट को काफी ज्यादा कंवर्ज करता है। इससे हृदय और फेफड़ों में ज्यादा रक्त संचार होने लगता है। ऐसे में बांह, घुटने और कंधे की कोशिकाएं काफी ज्यादा सिकुड़ जाती है। जिसके कारण जोड़ों में दर्द और अर्थराइटिस की समस्या काफी ज्यादा बढ़ जाती है। 

अर्थराइटिस की समस्या को दूर करने के घरेलू उपाय - सर्दियों में अर्थराइटिस की समस्याओं से बचने के लिए स्वस्थ दिनचर्या को फॉलो करें। सुबह खाली पेट गर्म पानी पिएं। इसमें 1 चम्मच सेब का सिरका डालने से यह आपके लिए और भी ज्यादा फायदेमंद हो सकता है।  

इसे भी पढ़ें - वजन घटाने और मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करने में आपकी मदद करेंगी ये 6 आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां

हाई-ब्लड प्रेशर

सर्दियों में हाइपरटेंशन यानी हाई ब्लड प्रेशर की समस्या बढ़ने की काफी संभावना होती है। इसका प्रमुख कारण कम शारीरिक एक्टिविटी और अधिक खानपान है। हाई ब्लड प्रेशर बढ़ने से शरीर में कई अन्य समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए सर्दियों में हाई ब्लड प्रेशर बढ़ने से बचने के लिए नियमित रूप से योगा और एक्सरसाइज करें। 

घरेलू उपाय- हाई ब्लड प्रेशर के रोगियों को खाने में नमक की मात्रा कम रखनी चाहिए। सर्दियों में अपने शरीर को एक्टिव रखें। सुबह खाली पेट मेथी और अजवाइन का पानी आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।

ब्रेन स्ट्रोक

सर्दियों में हाई ब्लड प्रेशर बढ़ने से ब्रेन स्ट्रोक का खतरा काफी ज्यादा रहता है। खासतौर पर 50 से 60 वर्ष की उम्र के लोगों को इन दिनों काफी ज्यादा परेशानी होती है। अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज जैसी समस्याएं हैं, तो सर्दियों में अपना खास ख्याल रखें। आयुर्वेद के कुछ उपचार अपना कर आप ब्रेन स्ट्रोक के खतरे से बच सकते हैं। 

ब्रेन स्ट्रोक के खतरे से बचने के लिए घरेलू उपाय- आचार्य राहुल बताते हैं कि ब्रेन स्ट्रोक के खतरे से बचने के लिए स्वस्थ जीवनशैली अपना जरूरी है। खतरे से बचाव के लिए वजन को कम रखें। नियमित रूप से ब्लड प्रेशर की जांच कराएं। खाने में हरी सब्जियों को शामिल करें। सर्दियों में एक्सरसाइज को स्किप ना करें। 

गले में खराश 

सर्दियों में लोगों को गले में खराश की शिकायत काफी ज्यादा होती है। गले में खराश की वजह से बोलने और खाने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है। लेकिन इसकी अच्छी बात यह है कि आप घरेलू नुस्खों से गले में खराश की समस्या से निजात पा सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें -मांसपेशियों के दर्द से हैं परेशान? इन 4 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों से करें इसका इलाज

घरेलू उपाय - राहुल चतुर्वेदी बताते हैं कि गले में खराश की समस्या से निजात पाने के लिए आप कई तरह के घरेलू नुस्खे आजमा सकते हैं। अदरक और शहद का जूस सबसे असरदार माना जाता है। 1 चम्मच अदरक से जूस में 1 चम्मच शहद मिलाकर पिएं। दिन में 2-3 बार ऐसा करने से आपके गले की खराश दूर हो जाएगी।

ईयर इंफेक्शन

सर्दियों में कान में संक्रमण का खतरा काफी ज्यादा बढ़ता है। कान में दर्द, कान से मल निकलना और सिर में दर्द कान में इंफेक्शन के प्रमुख लक्षण हैं। इसके अलावा कुछ लोगों को कानों में घंटी की आवाज सुनाई देती है। इसलिए सर्दियों में कानों में होने वाले इंफेक्शन से बच कर रहें।

घरेलू उपचार - कान में संक्रमण फैलने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। कभी भी कान में सुई, माचिस की तीली जैसी नुकीली चीजें ना डालें। कान में दर्द होने पर घरेलू नुस्खे ना अपनाएं, इससे आपकी समस्या बढ़ सकती है। अगर आपको ज्यादा दर्द हो रहा है, तो कान की सिंकाई करें।  

 

 Read More Articles on Weight Management in Hindi

 

 

 

Disclaimer