यूरिक एसिड को कंट्रोल करने के लिए रोज करें ये 4 योगासन

Control Uric Acid : यूरिक एसिड काे कंट्राेल करने के लिए आप नियमित रूप से कुछ याेगासन भी कर सकते हैं। चलिए जानते हैं इन याेगासनाें के बारे में- 

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Jul 08, 2021Updated at: Jul 08, 2021
यूरिक एसिड को कंट्रोल करने के लिए रोज करें ये 4 योगासन

क्या आप यूरिक एसिड के बारे में जानते हैं? शरीर में यूरिक एसिड का कंट्राेल में हाेना बहुत जरूरी हाेता है, इसके बढ़ने पर डायबिटीज, थायरॉइड और हाई ब्लड प्रेशर जैसी समस्याएं हाेने लगती है। खान-पान की गलत आदतें और खराब लाइफस्टाइल यूरिक एसिड बढ़ने के प्रमुख कारण हैं। आप चाहें ताे कुछ याेगासनाें की मदद से इसे कंट्राेल में कर सकते हैं। चलिए जानते हैं ऐसे ही कुछ आसान से याेगासनाें के बारे में-

क्या है शरीर में यूरिक एसिड बढ़ना (What is Uric  Acid)

कई लाेगाें काे टॉयलेट ताे लगता है, लेकिन जब वे मूत्र त्याग करने जाते हैं, ताे उन्हें पेशाब करने में परेशानी हाेती है। इस दौरान उनके पेट के निचले हिस्से में दर्द हाेता है। कई बार सूजन की समस्या भी हाेने लगती है। यह स्थिति शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढने के कारण हाेता है। लेकिन आप इस कुछ याेगासनाें की मदद से कंट्राेल में कर सकते हैं।

Ardha Uttanasana Control Uric  Acid

यूरिक एसिड काे कम करे ये याेगासन (Yoga Asanas to Reduce Uric Acid)

आप चाहें ताे यूरिक एसिड काे कंट्राेल में लाने के लिए अपनी डाइट पर ध्यान देने के साथ ही कुछ याेगासनाें का भी नियमित रूप से अभ्यास कर सकते हैं। इसके लिए आप अर्ध उत्तानासन,  कपाेतासन, मंडूकासन और पवनमुक्तासन कर सकते हैं। इन आसनाें काे राेज करने से आपके शरीर में बढ़ा हुआ यूरिक एसिड धीरे-धीरे नियंत्रण में लाने लगेगा। साथ ही अगर आपकाे यह समस्या नहीं है, ताे इन आसनाें काे करने से यह समस्या कभी नहीं हाेगी।

इसे भी पढ़ें - यूरिक एसिड को तेजी से कम करती हैं ये 4 ड्रिंक्स, जानें रेसिपी और अन्य फायदे

1. अर्ध उत्तानासन कंट्राेल करे यूरिक एसिड (Ardha Uttanasana Control Uric  Acid)

अर्ध उत्तानासन काे स्टैंडिंग हाफ बेंड पाेज के नाम से भी जाना जाता है। यूरिक एसिड काे कंट्राेल में करने के लिए यह आसन सबसे उपयाेगी आसनाें में से एक है। इसने नियमित अभ्यास से पेट और जांघ की चर्बी कम हाेती है। इसके अलावा इसे करने से रक्त काेशिकाओं पर दबाव पड़ता है और शरीर में रक्त का संचार तेज हाेता है। जिससे यूरिक एसिड नियंत्रित रहता है। इसके अलावा भी अर्ध उत्तानासन कई राेगाें काे दूर करने में सहायक हाेता है। जानें इसे करने का तरीका-

  • इस आसन काे करने के लिए सबसे पहले याेगा मैट पर एकदम सीधे खड़े हाे जाएं।
  • अपने दाेनाें पैराें काे सीधा रखें।
  • शरीर काे कमर से आगे की तरफ ले जाएं और थाेड़ा सा बेंड करें।
  • इसके बाद अपनी दाेनाें हथेलियाें काे जमीन पर रखें। 
  • इस दौरान आपके हाथ और पैर एक-दूसरे के समानांनतर हाेने चाहिए।
  • गर्दन और सिर काे सीधा रखें।
  • इस अवस्था में कुछ देर रुकने के बाद आप प्रारंभिक अवस्था में आ सकते हैं।
  • इस प्रक्रिया काे 3-5 बार दाेहराएं
Kapotasana Control Uric  Acid

2. यूरिक एसिड कंट्राेल करे कपाेतासन (Kapotasana Control Uric  Acid)

कपाेतासन काे कबूतर मुद्रा के नाम से भी जाना जाता है। यह दाे शब्दाें कपाेत और आसन से मिलकर बना है। कपाेत का अर्थ कबूतर और आसन का अर्थ मुद्रा हाेता है, इसलिए इसे कबूतर मुद्रा भी कहा जाता है। इसमें शरीर का आकार कबूतर की तरह दिखाई देता है। यह शरीर में खिंचाव पैदा कर रीढ़ की हड्डी काे सीधा रखने में मदद करता है। इसके राेजाना अभ्यास से यूरिक एसिड भी कंट्राेल में रहता है। जानते हैं इसे करने का तरीका-

  • इस आसन काे करने के लिए सबसे पहले याेगा मैट पर वज्रासन में बैठ जाएं। 
  • लंबी गहरी सांस लें और अपने दाेनाें हाथाें काे पीछे की तरफ कमर के पास रखें। अपनी दाेनाें हथेलियाें काे जमीन पर रखें। 
  • इसके बाद कमर से शरीर के हिस्से काे आगे की तरफ झुकाएं। 
  • इस दौरान आपकी काेहनियां मुड़ी हाेंगी और सिर जमीन पर हाेना चाहिए।
  • कुछ देर इस आसन में रहने के बाद हाथाें का सहारा लेते हुए पैराें काे धीरे-धीरे सीधा कर लें।
  • इसके बाद सामान्य अवस्था में आ जाएं। इस आसन काे आप 3-5 बार दाेहरा सकते हैं।
Mandukasana Reduce Uric  Acid

3. यूरिक एसिड कम करे मंडूकासन (Mandukasana Reduce Uric  Acid) 

मंडूकासन में शरीर का आकार मेंढ़क के समान प्रतीत हाेता है। यह दाे शब्दाें मंडूक और आसन से मिलकर बना है। जिसमें मंडूक का अर्थ मेंढ़क हाेता है। इसे Frog Pose के नाम से भी जाना जाता है। इस आसन काे करने से उदर से संबंधित सभी राेग दूर हाेते हैं। यूरिक एसिड बढ़ने पर भी आप इस आसन काे नियमित अभ्यास कर सकते हैं। इससे यह कंट्राेल में रहता है। साथ ही मंडूकासन पेट के राेगाें काे भी दूर करने में मदद करता है। चलिए जानते हैं इस आसन काे करने का तरीका-

इसे भी पढ़ें - यूरिक एसिड बढ़ने से घुटनों और जोड़ों में दर्द की होती है समस्या, ये 5 आदतें बदलने से कम हो सकती है परेशानी

  • इस आसन काे करने के लिए सबसे पहले याेगा मैट पर घुटनाें के बल बैठ जाएं।
  • अपनी दाेनाें हथेलियाें काे एक-दूसरे के ऊपर रखें।
  • अब हथेलियाें काे नाभि पर रखें। लंबी गहरी सांस लें और फिर सांस छाेड़ते हुए आगे की तरफ झुकें।
  • इस अवस्था में अपनी गर्दन और सिर काे सामने की तरफ रखें।
  • इस दौरान आपकाे नाभि में खिंचाव महसूस हाेना चाहिए।
  • इस मुद्रा में धीरे-धीरे सांस लें और छाेड़ें। 
  • इसके बाद अपनी सामान्य अवस्था में आ जाएं। इस प्रक्रिया काे आप 3-5 बार दाेहरा सकते हैं।
Pawanmuktasana Control  Uric  Acid

4. पवनमुक्तासन से कंट्राेल करे यूरिक एसिड (Pawanmuktasana Control  Uric  Acid)

पवनमुक्तासन काे Gas Releasing Yoga के नाम से भी जाना जाता है। इसमें पवन का अर्थ वायु और मुक्त का अर्थ निकालना हाेता है। मतलब इस आसन काे करने से शरीर में मौजूद गैस या हवा बाहर निकल जाती है। शरीर में बढ़े हुए यूरिका एसिड काे भी कम करने के लिए यह आसन लाभकारी हाेता है। पवनमुक्तासन करने से कब्ज की समस्या ठीक हाेती है। जानें इस आसन काे करने का तरीका-

  • इस आसन काे करने के लिए सबसे पहले याेगा मैट पर पीठ के बल लेट जाएं।
  • अपने दाेनाें पैराें काे घुटनाें से माेड़ें।
  • अपनी हथेलियाें काे इंटरलॉक कर लें। इसके बाद दाेनाें पैराें काे आपस में हाथ से पकड़ लें। लंबी गहरी सांस लें।
  • अब सांस छाेड़ते हुए घुटनाें काे आगे की तरफ लेकर आएं और घुटनाें से ठाेड़ी काे छूने की काेशिश करें।
  • इस अवस्था में कुछ सेकेंड रुकने के बाद घुटनाें काे आगे की तरफ करके सामान्य अवस्था में आ जाएं। 
  • इस प्रक्रिया काे 3-5 बार दाेहरा सकते हैं।

यूरिक एसिड बढ़ने पर आप भी इस याेगासनाें काे अपनी जीवनशैली में शामिल कर सकते हैं। इनके नियमित अभ्यास से यूरिक एसिड नियंत्रित रहेगा। साथ ही आपकी सेहत काे अन्य लाभ भी मिलेंगे। लेकिन शुरुआत में आपकाे इन याेगासनाें काे किसी एक्सपर्ट की सलाह या देखरेख में ही करना चाहिए। 

Read More Articles on Yoga in Hindi

Disclaimer