यूरिक एसिड बढ़ने से घुटनों और जोड़ों में दर्द की होती है समस्या, ये 5 आदतें बदलने से कम हो सकती है परेशानी

यूरिक एसिड बढ़ने पर जोड़ों, खासकर घुटनों और तलवों में बहुत तकलीफ होती है। सर्दियों में यूरिक एसिड कंट्रोल करने के लिए 5 आदतें बदलनी बहुत बहुत जरूरी है

Monika Agarwal
विविधWritten by: Monika AgarwalPublished at: Sep 14, 2020Updated at: Dec 02, 2020
यूरिक एसिड बढ़ने से घुटनों और जोड़ों में दर्द की होती है समस्या, ये 5 आदतें बदलने से कम हो सकती है परेशानी

शरीर में यूरिक एसिड बढ़ने के बाद बहुत सी स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां बढ़ने लगती हैं शरीर में अचानक से इस एसिड के बढ़ने की बहुत सी बातों पर निर्भर करता है। बढ़े हुए यूरिक एसिड की वजह से गाउट वह गठिया जैसे रोग हो सकते हैं। कुछ लोगों को गाउट अथवा गठिया ठीक करने के लिए दवाइयों कि जरूरत पड़ती है। परन्तु डाइट व लाइफस्टाइल से जुड़े बदलाव भी आप की काफी सहायता कर सकते हैं। यूरिक एसिड कम करने से गठिया का दर्द कम हो सकता है। हालांकि यूरिक एसिड से जुड़ी समस्या केवल लाइफस्टाइल से ही नहीं बल्कि कुछ अन्य फैक्टर्स पर भी आधारित होती हैं। इसलिए आप एक बार इस बारे में अपने डॉक्टर से अवश्य बात करें। आइए जानते हैं आप कैसे यूरिक एसिड की मात्रा पर नियंत्रण कर कर सकते हैं।

URIC

अल्कोहल की मात्रा कम करें (low Intake Of Alcohol)

यदि आप का यूरिक एसिड बढ़ा हुआ है तो आप को प्यूरिन युक्त खाद्य पदार्थों जैसे फैटी मीट और शेलफिश से बचना चाहिए। साथ ही अल्कोहल, खासकर बीयर का सेवन कम करें- क्योंकि यह आपके यूरिक एसिड के स्तर को बढ़ा सकता है। परन्तु कुछ चीजें जैसे चेरी, काफी व विटामिन सी से युक्त चीजें आप के लिए फायदेमंद हैं । इनके साथ साथ आप को बहुत सारा पानी भी पीना चाहिए। अंदर से हाइड्रेटेड होना आप के लिए आवश्यक है, क्योंकि हाइड्रेटेड रहने से यूरिक एसिड व अन्य हानिकारक टॉक्सिन शरीर से बाहर निकल जाते हैं।

इसे भी पढ़ेंः तलवों में जलन के साथ झनझनाहट होना शरीर में बढ़े यूरिक एसिड लेवल का है संकेत, जानें इसे कम करने के आसान टिप्स

URIC ACID

अपने शरीर के वजन को संतुलित रखें (Weight Management)

दरअसल मोटापा आप के मेटाबोलिक सिंड्रोम होने को सम्भावना बढ़ा देता है। यह आप का बीपी व कोलेस्ट्रॉल बढ़ा कर आप के हृदय रोगों को सम्भावना भी बढ़ाता है। यदि आप ओवर वेट है तो आप के शरीर में यूरिक एसिड भी ज्यादा बनता है। जिससे गठिया की सम्भावना बढ़ती है। यदि आप भूखे रह कर व तेजी से वजन कम करते हैं तो भी आप के शरीर में अधिक यूरिक एसिड बन सकता है। इसलिए एक निर्धारित समय में ही अपना वजन कम करने की कोशिश करें।

विटामिन सी सप्लीमेंट ट्राई करें (Vitamin C )

विटामिन सी के सप्लीमेंट लेने से आप के शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा कम हो जाती है और आप को गाउट अटैक्स से भी राहत मिलती है। अध्ययन आप को गाउट के दौरान विटामिन सी सप्लीमेंट लेना सुझाते हैं क्योंकि यह आप के शरीर से यूरिक एसिड कम करते है।

इसे भी पढ़ेंः यूरिक एसिड के मरीजों के लिए क्‍या है ज्‍यादा बेहतर, ग्रीन टी या मिल्क टी?स्थ वजन बनाए रखें

शुगर खाना कम करें (Less Sugar Intake)

आप के शरीर में उपलब्ध अधिक यूरिक एसिड का एक कारण शुगर भी हो सकती है। यदि आप एडेड शुगर व रिफाइंड शुगर को अधिक खाते हैं तो आप के शरीर में यूरिक एसिड बढ़ जाता है। इसलिए आप को गाउट अटैक्स पड़ने की अधिक सम्भावना होती है। अतः कुछ भी मीठी चीज खाने से पहले उस चीज के पैकेट का लेबल जरूर चैक करें और उसमें एडेड शुगर की मात्र देखें।

कुछ हर्बल व डाइट्री सप्लीमेंट लें (Herbal Supplements)

यह माना जाता है कि कुछ हर्बल चीजें आप को यूरिक एसिड की समस्या से बचा सकती हैं। जैसे कि हल्दी यूरिक एसिड से होने वाली शारीरिक सूजन को कम करती है। ब्रोमेलिन जोकि अनानास के बीजों में पाया जाता है वह भी इस समस्या में लाभकारी है। परन्तु आप हर्बल सप्लीमेंट्स लेने से पहले अपने डॉक्टर से पूछ सकते हैं।

कुछ समय के लिए आप यूरिक एसिड बनने की समस्या को दवाइयों द्वारा ठीक कर सकते हैं। पर इन उपरलिखित लाइफस्टाइल बदलावों की सहायता से आप इसे कुछ हद तक ठीक कर सकते हैं।यदि डाइट की बात करें तो आप को एक हेल्दी डाइट लेनी चाहिए।

Read More Articles On Other Diseases In Hindi

Disclaimer