Doctor Verified

हेल्दी वजाइना (योन‍ि) का पीएच लेवल क‍ितना होना चाह‍िए? जानते हैं एक्‍सपर्ट से

मह‍िलाओं में पीएच लेवल ब‍िगड़ने से इंफेक्‍शन और अन्‍य बीमार‍ियां न हों इसके ल‍िए आप वजाइना का नॉर्मल पीएच लेवल जान लें 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Mar 28, 2022Updated at: Mar 28, 2022
हेल्दी वजाइना (योन‍ि) का पीएच लेवल क‍ितना होना चाह‍िए? जानते हैं एक्‍सपर्ट से

वजाइना को हेल्‍दी रखने के ल‍िए उसका सही पीएच लेवल मेनटेन करना जरूरी है पर क्‍या आपको पता है वजाइना का हेल्‍दी पीएच लेवल क‍ितना होता है? वजाइना को हेल्‍दी रखकर और उसका पीएच लेवल मेनटेन करने से आप कई इंफेक्‍शन और बीमार‍ियों से बच सकते हैं। आपको पीर‍ियड्स, मेनोपॉज, प्रेगनेंसी आद‍ि समय पर पीएच लेवल का और भी ज्‍यादा ध्‍यान रखना चाह‍िए। इस लेख में हम जानेंगे क‍ि हेल्‍दी वजाइना का पीएच लेवल क‍ितना होता है। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के झलकारीबाई अस्‍पताल की गाइनोकॉलोजि‍स्‍ट डॉ दीपा शर्मा से बात की।     

vaginal ph

image source: lifeberrys

नॉर्मल पीएच लेवल क‍ितना होना चाह‍िए? (Normal vaginal PH level)

अगर नॉर्मल पीएच लेवल की बात करें तो 3.6 से लेकर 4.6 नॉर्मल पीएच रेंज है, आपके वजाइना का पीएच लेवल इतना होना चाह‍िए। अगर आपका वजाइनल पीएच लेवल इतना है तो आप बैक्‍टीर‍ियल और फंगल इंफेक्‍शन से बच सकते हैं। वजाइनल पीएच लेवल एक जैसा नहीं रह सकता, आपकी खानपान की आदतें और साफ-सफाई के तरीके पर न‍िर्भर करता है क‍ि वजाइना का पीएच लेवल मेनटेन कर पाएंगे या नहीं। 

इसे भी पढ़ें- क्या प्रेगनेंसी के दौरान पति-पत्नी के झगड़े का गर्भ में पल रहे श‍िशु पर पड़ता है असर? जानें एक्सपर्ट की राय

ज्‍यादातर समय वजाइना का पीएच लेवल 4.5 से ज्‍यादा रहता है वहीं ज‍िस समय मह‍िला गर्भवती होती है उसका पीएच लेवल 4.5 से कम हो सकता है। बैक्‍टीर‍ियल वजाइनोस‍िस एक मेड‍िकल कंडीशन है ज‍िसके कारण भी वजाइना का पीएच लेवल बढ़ सकता है। आपको इसके ल‍िए डॉक्‍टर से संपर्क करना चाह‍िए। 

एंटीबायोट‍िक्‍स का सेवन करें (Take antibiotics on doctor's advice)

वजाइना का पीएच लेवल घटने या ज्‍यादा होने के कारण डॉक्‍टर आपको एंटीबायोट‍िक्‍स दे सकते हैं। एंटीबायोट‍िक्‍स का सेवन करने से वजाइना का पीएच लेवल बैलेंस रहता है। ब्‍लड का पीएच लेवल ज्‍यादा होता है, जब आपके पीर‍ियड्स चल रहे होते हें तो वजाइना का पीएच लेवल बढ़ सकता है इसल‍िए इस दौरान भी आपको साफ-सफाई का खास ख्‍याल रखना है।

यूटीआई से बचें (Prevent UTI)

अगर आपको यूटीआई के लक्षण (uti symptoms in hindi) है तो वजाइना का पीएच लेवल ज्‍यादा हो सकता है। पीएच लेवल ज्‍यादा होने से इस्‍ट्रोजन का स्‍तर घट सकता है ज‍िससे प्रीमेनोपॉज की समस्‍या हो सकती है। डॉक्‍टर की माानें तो आपको वजाइना का पीएच लेवल ब‍िगड़ने से इंफर्ट‍िल‍िटी, प्रीमेच्‍योर बर्थ, एसटीआई जैसी समस्‍या हो सकती है।  

समय-समय पर करवाएं पीएच टेस्‍ट (PH test in hindi) 

आपको वजाइना को हेल्‍दी रखने के ल‍िए समय- समय पर पीएच टेस्‍ट करवाना चाह‍िए। पीएच टेस्‍ट आप घर पर भी कर सकते हैं। बाजार में बहुत सी पीएच टेस्‍ट क‍िट आती हैं ज‍िनकी मदद से आप पीएच का स्‍तर जांच सकते हैं। अगर पीएच टेस्‍ट में आपकी वजाइना का पीएच लेवल हाई आता है तो आपको इंफेक्‍शन के लक्षण हो सकते हैं। इसे दूर करने के ल‍िए आपको डॉक्‍टर से सलाह लेनी चाह‍िए।

प्रोबायोटि‍क्‍स का सेवन करें (Probiotics intake)

vaginal ph level

image source: betadine

वजाइना का पीएच लेवल मेनटेन करने के ल‍िए आपको दही का सेवन करना चाह‍िए। दही यानी प्रोबायोट‍िक्‍स। अगर आप पर्याप्‍त मात्रा में प्रोबायोट‍िक्‍स का सेवन नहीं करते हैं तो डॉक्‍टर आपको प्रोबायोट‍िक्‍स के सप्‍लीमेंट लेने की सलाह दे सकते हैं। अगर आपको दही से एलर्जी नहीं है तो आपको रोजाना इसे अपनी डाइट में शाम‍िल करना चाह‍िए, वजाइनल हेल्‍थ को अच्‍छा करने के अलावा दही आपको अन्‍य इंफेक्‍शन और एलर्जी से बचाने में भी मदद करता है। 

इसे भी पढ़ें- ब्रेस्ट में होने वाले बदलावों के जरिए महिलाएं लगा सकती हैं इन 5 बीमारियों का पता       

हार्श साबुन का इस्‍तेमाल न करें (Avoid harsh soap)        

वजाइना का पीएच लेवल मेनटेन करने के ल‍िए आपको हार्श साबुन का इस्‍तेमाल नहीं करना चाह‍िए। साबुन का पीएच लेवल ज्‍यादा होता है और उससे वजाइना का पीएच लेवल बढ़ सकता है। आपको वजाइना को क्‍लीन करने के ल‍िए गुनगुने पानी ओर क्‍लींजर का इस्‍तेमाल करना चाह‍िए। इससे वजाइना का पीएच लेवल मेनटेन रहेगा। वजाइना का पीएच लेवल मेनटेन करने के ल‍िए डॉक्‍टर आपको इस्‍ट्रोजन क्रीम दे सकते हैं या दवा बता सकते हैं।

वजाइना का पीएच लेवल बैलेंस करने के ल‍िए आप वजाइनल पीएच टेस्‍ट क‍र सकते हैं। पीएच लेवल को बैलेंस करने के ल‍िए आप प्रोबायोट‍िक सप्‍लीमेंट ले सकते हैं इससे पीएच लेवल बैलेंस रहता है।

main image source: https://www.intimina.com

Disclaimer