Expert

40 की उम्र के बाद वजन बढ़ने से रोकना है तो शुरू करें ये 5 आदतें, वजन रहेगा कंट्रोल

Ways To Avoid Weight Gain: 40 की उम्र के बाद लोगों का वजन बढ़ने लगता है, यहां हम आपको इसे रोकने के लिए 5 उपाय बता रहे हैं।

Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarPublished at: Apr 08, 2022Updated at: Apr 08, 2022
40 की उम्र के बाद वजन बढ़ने से रोकना है तो शुरू करें ये 5 आदतें, वजन रहेगा कंट्रोल

बढ़ती उम्र के साथ वजन बढ़ना (Weight Gain With Age In Hindi) बहुत आम है। स्वास्थ्य विशेषज्ञ बताते हैं जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, आपका मेटाबॉलिज्म धीमा होने लगता है। तो ऐसे में जब आप अपनी मध्यम उम्र में पहुंचते हैं, तो आपका वजन बढ़ने लगता है। हालांकि इसके लिए कई कारण जिम्मेदार हो सकते हैं जैसे धीमा मेटाबॉलिज्म, शारीरिक गतिविधियों की कमी और अस्वास्थ्यकर फूड्स का सेवन। ये सभी मध्यम आयु वर्ग के लोगों में वजन बढ़ने और स्वास्थ्य समस्याओं का कारण (Causes Of Weight Gain With Age In Hindi) बन सकते हैं। तो ऐसे में शरीर के स्वस्थ वजन को बनाए रखने के लिए मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करना (How To Boost Metabolism In Hindi) महत्वपूर्ण है।

अब सवाल यह है कि बढ़ती उम्र के साथ अपने वजन को कंट्रोल में रखने के लिए आप क्या कर सकते हैं? जैसा कि हम सभी जानते हैं कि शरीर के स्वस्थ वजन को बनाए रखने के लिए नियमित सही डाइट को फॉलो करना और एक्सरसाइज करना जरूरी है, लेकिन अपने मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करना भी उतना ही जरूरी है। इस लेख में हम आपके साथ बढ़ती उम्र के साथ वजन को कंट्रोल में रखने के लिए 5 टिप्स शेयर कर रहे हैं (Ways To Avoid Weight Gain With Age In Hindi)।

40 की उम्र के बाद वजन कंट्रोल करने के उपाय (Ways To Avoid Weight Gain With Age In Hindi)

1. ऐसे फूड्स खाएं जो आपके मेटाबॉलिज्म को तेज करें (Foods That Can Boost Metabolism In Hindi)

धीमे मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करने के लिए ग्रीन टी (Green Tea To Boost Metabolism) फायदेमंद साबित हो सकती है। अध्ययनों पाया गया है कि दिन में 4 कप ग्रीन टी पीने से शरीर का वजन और सिस्टोलिक ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद मिल सकती है। ग्रीन टी में पाया जाने वाला एपिगैलोकैटेचिन गैलेट (EGCG) वसा के ऑक्सीकरण को बढ़ाने में मदद करता है और खर्च होने वाली में लगभग 4% की वृद्धि करता है। इसके अलावा मछली और काली मिर्च भी आपके शरीर से अतिरिक्त चर्बी को जलाने में मदद करेंगे। मछली में ओमेगा-3 फैटी एसिड होते हैं, जो भूख को कम करने में मदद करते हैं, जबकि शिमला मिर्च, हैबनेरोस और जलेपीनो जैसी गर्म मिर्च में पाए जाने वाले कैप्साइसिन शरीर में अधिक गर्मी पैदा करने और अधिक कैलोरी जलाने में मदद करते हैं।

2. पर्याप्त पानी पिएं

हम में से ज्यादातर लोग यह नहीं जानते हैं कि पानी आपके मेटाबॉलिज्म को बूस्ट (Drink Water To Boost Metabolism) करने में मदद कर सकता है। साथ ही भोजन कुछ समय पहले पानी पीने से आपको भूख भी कम लगती है और आप कम खाते हैं। शोध में यह पाया गया है कि आधा लीटर पानी पीने से एक घंटे तक आपके मेटाबॉलिज्म को 25% तक बूस्ट किया जा सकता है। जिससे यह कैलोरीज को तेजी से बर्न करने में मदद करता है।

इसे भी पढें: 50 की उम्र के बाद वजन घटाने और पेट की चर्बी कम करने के लिए अपनाएं ये डाइट

3. अपने रुटीन से चिपके रहें

जब आप पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं तो इसके चलते भी आपका वजन बढ़ सकता है। साथ ही ज्यादा खाने से भी आपका वजन बढ़ सकता है। अगर आप एक अच्छी नींद नहीं लेते हैं, तो आपके शरीर को समय के साथ जागने और भूख महसूस करने के लिए अतिरिक्त ऊर्जा की आवश्यकता होती है। जिसके चलते आप जरूरत से ज्यादा खाते हैं और आपका वजन बढ़ता है।  तो ऐसे में यह सुनिश्चित करें कि आप ब्रेकफास्ट स्किप नहीं करते हैं। यह दिन का सबसे महत्वपूर्ण भोजन है, क्योंकि यह आपके मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करता है और इसे पूरे दिन सक्रिय रखता है। साथ ही नाश्ते के लिए विटामिन और फाइबर से भरपूर फूड्स का सेवन करें, जैसे नट्स और फलों के साथ दलिया, या एक आमलेट।

इसे भी पढें: अच्छी नींद न लेने से भी बढ़ता है वजन, जानें वेट लॉस के लिए गहरी नींद क्यों है जरूरी

4. एक्टिव रहें

एक गतिहीन जीवनशैली जीवनशैली कई स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म दे सकती है। साथ ही इसके चलते आपके शरीर का वजन भी बढ़ सकता है। लंबे समय तक बैठे या लेटे रहना, एक्सरसाइज न करना आपकी सेहत को जोखिम में डाल सकता है। अपनी दिनचर्या में रोजाना पैदल चलना शामिल करें। साथ ही अपने शरीर को अच्छे आकार में रखने, स्वस्थ रहने और शरीर में फैट जमा होने के जोखिम को कम करने के लिए सप्ताह में कम से कम 3 बार एक्सरसाइज जरूर करें।

5. डॉक्टर से परामर्श करें

मध्यम आयु में वजन बढ़ना स्वास्थ्य समस्याओं का संकेत हो सकता है जैसे कि थायराइड या एड्रेनल ग्लैंड डिसऑर्डर। खासकर, थायराइड ग्लैंड मेटाबॉलिज्म को धीमा कर सकता है जिससे वजन बढ़ता है। अगर आप स्वस्थ रहना चाहते हैं और चाहते हैं कि आपका मेटाबॉलिज्म को ठीक से काम करे, तो साल में एक बार अपने एंडोक्रिनोलॉजिस्ट या फैमिली डॉक्टर से जरूर मिलें और अपने एंडोक्राइन सिस्टम का टेस्ट कराएं।

Disclaimer