Thyroid And Anxiety: थायरॉइड ग्रंथि में सूजन बन सकती है बेचैनी और चिंता का कारण

हाल में शोधकर्ताओं ने चिंता और थायरॉइड के बीच एक लिंक पाया है। यदि आपकी थायरॉइड ग्रंथि में सूजन है, तो आप चिंता के लक्षण म‍हसूस कर सकते हैं। 

Sheetal Bisht
Written by: Sheetal BishtUpdated at: Sep 11, 2020 10:27 IST
Thyroid And Anxiety: थायरॉइड ग्रंथि में सूजन बन सकती है बेचैनी और चिंता का कारण

चिंता महसूस होना एक सामान्य बात है, जो किसी भी व्‍यक्ति को किसी भी समय हो सकती है। लेकिन अगर आप मानते हैं कि आपकी चिंता का कोई एकमात्र कारण है, तो ऐसा नहीं है। चिंता के कई कारण हैं और उनमें से किसी एक के कारण यह ट्रिगर हो सकती है। हाल में शोधकर्ताओं ने चिंता का एक नया कारक थायरॉइड ग्रंथि में सूजन को पाया है। जी हां, आइए चिंता और थायरॉइड के बीच के संबंध को समझने के लिए इस लेख को आगे पढ़ें। 

थायरॉइड ग्रंथि और चिंता एक-दूसरे से कैसे जुड़े हैं?

जैसा कि आप जानते होंगे कि हार्मोनल उतार-चढ़ाव आंतरिक स्वास्थ्य समस्याओं की को पैदा कर सकता है। ठीक ऐसे ही तनाव, चिंता और अन्य विकारों जैसे मनोवैज्ञानिक समस्‍याओं को भी हार्मोन द्वारा ट्रिगर किया जाता है। आमतौर पर, ये कोर्टिसोल यानि तनाव हार्मोन से जुड़े होते हैं। लेकिन वैज्ञानिकों ने पाया है कि थायरॉइड ग्रंथि द्वारा उत्पादित थायरोक्सिन हार्मोन भी चिंता का कारण बन सकता है। थायरॉइड ग्रंथि के कार्य की जांच करके, एंग्‍जायटी डिसऑर्डर के जोखिम को निर्धारित किया जा सकता है। इस प्रकार शोधकर्ताओं का मानना है कि थायरॉइड की सूजन एंग्‍जायटी अटैक का कारण बन सकती है। 

इसे भी पढ़ें: शरीर मे विटामिन डी के स्‍तर से पता लगाया जा सकता है आपकी कुछ स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं के जोखिम का अनुमान : शोध

Thyroid And Anxiety

क्‍या कहती है रिसर्च?

हाल में हुए इस अध्‍ययन में शोधकर्ताओं के अनुसार, थायरॉइड ग्रंथि में सूजन संभावित रूप से चिंता यानि एंग्‍जायटी का कारण बन सकती है। ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि थायरॉइड कार्य एंग्‍जायटी डिसऑर्डर से जुड़े हैं और थायरॉइड ग्रंथि में सूजन चिंता और अन्य मानसिक विकारों के लिए एक अंतर्निहित जोखिम कारक है। थायरॉइड ग्रंथि थायरोक्सिन (T4) और ट्राईआयोडोथायरोनिन (T3) हार्मोन का उत्पादन करती है, जो कई कार्यों को नियंत्रित करती है। इस ग्रंथि में ऑटोइम्यून इंफ्लेमेशन या सूजन संभव है और यह कुछ लक्षण संकेत दे सकती है। हालांकि, खानपान में बदलाव की मदद से थायरॉइड को कंट्रोल किया जा सकता है। 

कैसे किया गया शोध 

थायरॉइड और चिंता के बीच संबंध खोजने के लिए, शोधकर्ताओं ने 50 से अधिक लोगों में थायरॉइड कार्यों की जांच की, जो चिंता और पैनिक अटैक का सामना करते थे। शोधकर्ताओं ने पाया कि चिंता से ग्रस्‍त अधिकांश रोगियों में थायरॉइड ग्रंथि में ध्यान देने योग्य सूजन थी। थायरॉइड सूजन के लिए दवाएं देने पर, उनके चिंता का स्तर भी गिरावट देखी गई। 

इसे भी पढ़ें: वजन घटाने वाली कीटो डाइट और इंटरमिटेंट फास्टिंग पहुंचा सकती है आपके हृदय स्‍वास्‍थ्‍य को नुकसान : शोध

Thyroid Gland Inflammation

डॉ. जूलिया ओनोफ्रिचुक कहते हैं, '' इन निष्कर्षों से संकेत मिलता है कि एंडोक्राइन सिस्टम चिंता में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। डॉक्टरों को थायरॉयड ग्रंथि और बाकी अंतःस्रावी तंत्र के साथ-साथ तंत्रिका तंत्र पर भी विचार करना चाहिए। 

इस प्रकार, हार्मोनल असंतुलन और शरीर में सूजन के कारण भी चिंता हो सकती है। यदि आप लंबे समय तक चिंता से ग्रस्त हैं, तो आप एक बार मनोचिकित्सक से परामर्श जरूर लें। 

Read More Article on Health News In Hindi 

Disclaimer