Doctor Verified

स्लीप एपनिया (सोते समय सांस में रुकावट) का समय पर इलाज न कराने से हो सकती हैं ये 6 परेशानियां

Sleep Apnea: स्लीप एपनिया नींद से जुड़ी एक समस्या है। अगर स्लीप एपनिया का समय पर इलाज न किया जाए, तो इससे शरीर में कई परेशानियां पैदा हो सकती है।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Apr 15, 2022Updated at: Apr 15, 2022
स्लीप एपनिया (सोते समय सांस में रुकावट) का समय पर इलाज न कराने से हो सकती हैं ये 6 परेशानियां

Untreated Sleep Apnea Symptoms:  स्लीप एपनिया एक ऐसी स्थिति है, जिसमें सोते समय बार-बार सांस  रुक जाती है। यह समस्या तब होती है, जब किसी व्यक्ति का शरीर उसे फिर से सांस लेने के लिए जगाता है। स्लीप एपनिया अच्छी नींद में रुकावट पैदा करती है। सुनने में भले ही यह एक सामान्य समस्या लग सकती है, लेकिन अगर इसे समय रहते ठीक न किया जाए तो परेशानियां बढ़ सकती है। स्लीप एपनिया डायबिटीज, हृदय रोग आदि का कारण बन सकता है। स्लीप एपनिया में व्यक्ति को नींद की कमी के साथ ही कई अन्य परेशानियों का भी सामना करना पड़ सकता है। 

स्लीप एपनिया क्या होता है (Sleep Apnea Meaning in Hindi)

कामिनेनी अस्पताल, हैदराबाद के सीनियर पल्मोनोलॉजिस्ट डॉक्टर मोहम्मद वसीम (Dr Mohd Vaseem,  Senoir Pulmonologist, Kamineni Hospitals, Hyderabad) बताते हैं कि स्लीप एपनिया नींद से जुड़ी एक समस्या है। यह समस्या तब होती है, जब रात को सोते समय वायुमार्ग अवरुद्ध (Airway Blocked) हो जाता है। स्लीप एपनिया (Sleep Apnea Meaning) की स्थिति में जब कोई व्यक्ति सोते हुए सांस लेता है, तो तेज खर्राटा ले सकता है। मोटापा और हाई ब्लड प्रेशर स्लीप एपनिया के मुख्य कारण (Sleep Apnea Causes) हैं। स्लीप एपनिया की वजह से शरीर में कई परेशानियां बढ़ सकती है।

स्लीप एपनिया के लक्षण (sleep apnea symptoms in hindi)

सांस लेने में रुकावट, सोते समय तेज खर्राटे लेना, थकान लगना, दिन के समय अधिक नींद आना, नींद पूरी न होना, ध्यान लगाने में कमी आदि स्लीप एपनिया के लक्षण (Sleep Apnea ke Lakshan in Hindi) माने जाते हैं।

स्लीप एपनिया से हो सकती हैं ये परेशानियां (Untreated Sleep Apnea Symptoms)

1. सांस की कमी

स्लीप एपनिया आपके श्वसन प्रणाली को प्रभावित कर सकता है। सोते समय शरीर को ऑक्सीजन से वंचित करने से स्लीप एपनिया अस्थमा और क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज के लक्षणों को बढ़ा सकता है। समय पर इलाज न किया जाए तो, स्लीप एपनिया की वजह से आप सांस की कमी महसूस कर सकते हैं। इस स्थिति में आपको हैवी एक्सरसाइज करने में भी परेशानी हो सकती है।

2. डायबिटीज का जोखिम

स्लीप एपनिया वाले लोगों में इंसुलिन प्रतिरोध विकसित होने की संभावना अधिक होती है। स्लीप एपनिया एक ऐसी स्थिति है, जिसमें कोशिकाएं इंसुलिन नहीं लेती हैं। इससे शरीर में रक्त शर्करा का स्तर बढ़ जाता है। इस स्थिति में टाइप 2 डायबिटीज का जोखिम बढ़ सकता है। इसलिए डायबिटीज से बचाव के लिए स्लीप एपनिया का समय पर इलाज जरूरी है। 

इसे भी पढ़ें - किन लोगों को है ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया का ज्यादा खतरा? डॉक्टर से जानें इसके लक्षण और कारण

sleep apnea

3. हृदय रोगों का खतरा

स्लीप एपनिया हृदय को भी प्रभावित कर सकता है। अगर आपको लंबे समय से स्लीप एपनिया है, तो इसका उपचार जरूरी हो जाता है। स्लीप एपनिया को मेटाबॉलिक सिंड्रोम से भी जोड़ा गया है। स्लीप एपनिया हृदय रोगों का कारण बन सकता है। इस स्थिति में ब्लड प्रेशर और बैड कोलेस्ट्रॉल लेवल हाई हो सकता है।

4. लिवर को नुकसान

अगर आपको लंबे समय से स्लीप एपनिया यानी सोते समय सांस में रुकावट की समस्या है, तो आपको लिवर से जुड़ी समस्याओं का भी सामना करना पड़ सकता है। स्लीप एपनिया का इलाज न कराना फैटी लिवर का कारण बन सकता है। इसके साथ ही जिन लोगों को स्लीप एपनिया है, उनमें लिवर पर निशान और लिवर एंजाइम के सामान्य से अधिक स्तर होने की संभावना होती है।

5. स्ट्रोक का जोखिम बढ़ाए स्लीप एपनिया

अगर आपको स्लीप एपनिया है, तो आपको असामान्य हृदय गति की संभावना हो सकती है। स्लीप एपनिया स्ट्रोक के जोखिम को भी बढ़ाता है। यह हृदय पर दबाव बढ़ाता है। स्लीप एपनिया वाले लोगों में हृदय रोगों का खतरा अधिक रहता है।

इसे भी पढ़ें - हार्ट की सेहत में गड़बड़ होने पर दिखते हैं ये 11 लक्षण, बिल्कुल न करें नजरअंदाज

6. सुन्नता और झुनझुनी

सेंट्रल स्लीप एपनिया भी स्लीप एपनिया का एक प्रकार है। सेंट्रल स्लीप एपनिया से पीड़ित व्यक्ति का मस्तिष्क सांस को नियंत्रित करने वाली मांसपेशियों को संकेत भेजने में विफल हो सकता है, इस स्थिति में सांस लेने में कठिनाई हो सकती है। शरीर में सुन्नता और झुनझुनी अनुपचारित स्लीप एपनिया के लक्षण हो सकते हैं। यानी स्लीप एपनिया न्यूरोलॉजिकल समस्याओं का भी कारण बन सकता है।

इनके अलावा सुबह के समय सूखा मुंह, गले में खराश, सिरदर्द, ध्यान लगाने में दिक्कत और चिड़चिड़ापन स्लीप एपनिया के सामान्य लक्षण हो सकते हैं। अगर आपको स्लीप एपनिया का कोई भी लक्षण नजर आए, तो आपको इसके लिए डॉक्टर से जरूर संपर्क करना चाहिए।

(Image Source: Freepik)

Disclaimer