पैरों से जुड़ी इन 10 बीमारियों को न करें नजरअंदाज, बन सकती हैं परेशानी का कारण

Common food diseases in Hindi : पैरों की इन 10 बीमारियों को नजरअंदाज करने से बचें और इन्हें गंभीरता से लें। 

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Apr 15, 2022Updated at: Apr 15, 2022
पैरों से जुड़ी इन 10 बीमारियों को न करें नजरअंदाज, बन सकती हैं परेशानी का कारण

पैरों की बीमारियां हम में से ज्यादातर लोगों को परेशान करती है। ये कभी भी और किसी को भी हो सकती है। पैरों की बीमारियों को लेकर सबसे आम बात ये है कि यह आम जीवनशैली से जुड़ी रहती है और ये चलने-फिरने और काम-काज सबको प्रभावित करती है। ऐसे में जरूरी ये है कि आप पैरों से जुड़ी बीमारियों के बारे में जानें और उससे बचाव का उपाय करें। तो, आप हम आपको पैरों से जुड़ी 10 बीमारियों के बारे में बताएंगे जो कभी भी आपको परेशान कर सकती है। साथ ही इनके कारणों, लक्षणों और उपचारों के बारे में भी जानेंगे। 

insidefootdiseasesinhindi

पैरों में होने वाली 10 बीमारियां-10 common foot diseases in hindi 

1. पैरों में फफोले होना (Blisters)

पैरों में फफोले होना बेहद ही आम बात है। दरअसल, ये पसीना या फिर लंबे समय तक पैरों में नमी रहने के कारण हो सकता है। दरअसल,  पसीने से तर पैरों में छाले होने की संभावना अधिक होती है। वे अक्सर लंबे समय तक चलने या दौड़ने के बाद दिखाई देते हैं। तो, कई बार खराब फिटिंग वाले जूते-चप्पल पहनने से भी ये समस्या हो जाती है। 

2. कॉर्न्स (Corns)

कॉर्न्स तलवे में अक्सर निकल आते हैं। ये डेड सेल्स के जमा होने से बनते हैं। ये आम तौर पर दर्द रहित होते हैं। ये अक्सर खराब फिटिंग वाले जूतों के कारण हो सकते हैं। लंबे समय तक पैरों में ये बने रहने से ये दर्दनाक हो सकते हैं और इसे सर्जरी की भी जरूरत हो सकती है।  ऐसे में इसे जल्दी ठीक करें। 

3. एथलीट फुट (Athlete’s foot)

एथलीट फुट त्वचा का एक फंगल संक्रमण है, जो आमतौर पर पैर की उंगलियों के बीच पाया जाता है। हालांकि, संक्रमण फैल सकता है और खुजली और यहां तक कि दर्द भी पैदा कर सकता है। ये एक प्रकार का फंगल इंफेक्शन ही है जो कि जिम, शॉवर या पूल के गंदे पानी से फैल सकता है। साथ ही अगर आप नंगे पैर घूमते हैं तब भी ये आपको पेरशान कर सकता है। एथलीट फुट के कारण पैरों में खुजली दरारें, फफोले और छीलने लगते हैं। ये स्थिति आमतौर पर चौथे और पांचवें पैर की उंगलियों के बीच शुरू होती है, फिर फैलती है। ऐसे में जरूरी ये है कि एक एंटीफंगल पाउडर या लोशन का इस्तेमाल करें। 

4. नाखून का अंदर की ओर बढ़ना (Ingrown toenails)

नाखून का अंदर की ओर बढ़ना अक्सर बुरी तरह से फिट होने वाले जूते के कारण हो सकता है। खास कर कि जूते का दबाव जो ऊपर से बहुत संकीर्ण या बहुत तंग हो, पैर की उंगलियों पर अतिरिक्त दबाव डाल सकता है। ऐसे में नाखून अंदर की ओर बढ़ कर परेशान कर सकता है। इस परेशानी में जरूरी ये है कि आप पोडियाट्रिस्ट या आर्थोपेडिक सर्जन को दिखाएं और सही इलाज की मदद से इसे ठीक करें। 

इसे भी पढ़ें : सेरेब्रल पाल्सी के रोगी की घर पर देखभाल कैसे करें? डॉक्टर से जानें जरूरी बातें और सावधानियां

5. बनियन (Bunions)

बनियन (Bunions) ज्यादातर महिलाओं में होता है। ये खराब फिटिंग के कारण पहने जाने वाले जूते-चप्पलों की वजह से होता है।  लेकिन ज्यादातर मामलों में ये हाई हील्स के कारण होता है। इसमें पैरों की हड्डी बढ़ने लगती है और पैरों की असामान्यताएं गांठ के रूप में विकसित हो जाती है। इसमें आपको अपने डॉक्टर को दिखाना चाहिए, साथ ही हाई हील्स पहनने से बचना चाहिए।  

inside_bunions

6. प्‍लांटर फेशिआइटिस (Plantar fasciitis)

प्‍लांटर फेशिआइटिस एड़ी दर्द का सबसे आम कारण है। ये स्थिति तब होती है जब पैर के तलवे पर सूजन हो जाती है। यह लिगामेंट पैर के आर्च को सपोर्ट करते हैं और मोटापा  और तंग मांसपेशियों के कारण कई बार ये परेशानी हो जाती है। प्लांटर फैसीसाइटिस वाले व्यक्ति को एड़ी के नीचे दर्द का अनुभव होता है। यह दर्द आमतौर पर सुबह सबसे पहले बिस्तर से उठते समय अधिक होता है। ज्यादा होने पर ये सूजन का कारण बनता है, जिसे कम करने के लिए स्टेरॉयड इंजेक्शन की सिफारिश की जाती है।

7. डायबिटीक न्यूरोपैथी (Diabetic Neuropathy)

ये डायबिटीज के मरीजों में ज्यादा होती है। ये हाई ब्लड शुगर के कारण होता है, जिसमें कि पैरों के न्यूरॉन्स मरने लगते हैं। डायबिटिक न्यूरोपैथी के लक्षणों में सुन्नता, झुनझुनी और पैरों में दर्द शामिल हैं, जो आमतौर पर बढ़ सकती है। ऐसे में डॉक्टर को दिखा कर हाई ब्लड शुगर से बचने की कोशिश करें। 

इसे भी पढ़ें : क्‍या है ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर? जानें इसके लक्षण, कारण और इलाज

8. चिलबेन (Chilblains)

चिलबेन सर्दियों में ज्यादा होता है। इसमें पैर लाल हो जाते हैं और उंगलियां सूज जाती हैं। कई बार तो ये इतना दर्दनाक होता है कि आपको चलने में दिक्कत हो सकती है। इसमें पैरों की खुजली और दर्द बढ़ जाता है। 

9. हील स्पर (Heel Spur)

हील स्पर कैल्शियम के ज्यादा बढ़ने से है जो एड़ी की हड्डी और पैर के आर्च के बीच विकसित होती है। इसमें पैरों की मांसपेशियों में खिंचाव महसूस होता है। ये गठिया, शरीर के अतिरिक्त वजन बढ़नेऔर बुरी तरह से फिट या खराब हो चुके जूते पहनने के कारण हो सकता है। 

10. गाउट (Gout)

गाउट गठिया का एक सामान्य और जटिल रूप है जो किसी को भी प्रभावित कर सकता है। इसमें अक्सर आपके बड़े पैर के अंगूठे में दर्द होता है। साथ ही पैरों में अलग-अलग जोड़ों पर भी दर्द हो सकता है।

तो, ये पैरों की 10 बीमारियों जो कभी भी और किसी को भी हो सकता है। इसलिए आपको इसके बारे में जानना चाहिए और इसके लक्षणों को पहचानते ही इसका इलाज करवाना चाहिए। 

all images credit: freepik

Disclaimer