चाय से जुड़ी इन 6 अफवाहों (मिथकाें) काे आप भी मानते हैं सही? जानें इनकी सच्चाई

Myths and Facts About Tea : चाय के शौकीन लाेगाें काे इससे जुड़े मिथकाें की सच्चाई जरूर पता हाेनी चाहिए। चलिए जानते हैं- 

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Aug 20, 2021 10:01 IST
चाय से जुड़ी इन 6 अफवाहों (मिथकाें) काे आप भी मानते हैं सही? जानें इनकी सच्चाई

क्या आप भी चाय के शौकीन हैं? चाय अधिकतर लाेगाें का पसंदीदा पेय पदार्थ हाेता है। यहां तक कि कई लाेगाें के दिन की शुरुआत ही चाय से हाेती है। इतना ही नहीं कई लाेग चिंता, तनाव और सिरदर्द की स्थिति में भी चाय काे एक टॉनिक के रूप में पीते हैं। चाय कई तरह की हाेती हैं- इसमें दूध वाली चाय, काली चाय या ब्लैक टी और ग्रीन टी शामिल हैं। लाेग अपनी पसंद के अनुसार चाय का सेवन करते हैं। हर भारतीय घराें में चाय काे काफी अहमियत दी जाती है, यही वजह है कि लाेगाें के बीच इससे जुड़ी कई अफवाहे फैली हुई हैं। 

कुछ लाेगाें का मानना है कि दूध वाली चाय स्वास्थ्य काे नुकसान पहुंचाती है, ताे कुछ लाेगाें काे लगता है कि ग्रीन टी पाने से तेजी से वजन कम हाेता है। इतना ही नहीं कई लाेगाें काे लगता है कि चाय की काेई एक्सपायरी डेट नहीं हाेती है, साथ ही कुछ लाेगाें का मानना है कि चाय एक हाइड्रेटिंग पेय पदार्थ है। अगर आप भी इन अफवाहाें काे सच मानते हैं, ताे इनकी सच्चाई आपकाे जरूर जाननी चाहिए। चलिए आगे के लेख में जानें इनकी सच्चाई के बारे में- 

milk tea

1. दूध वाली चाय सेहत के लिए नुकसानदायक हाेती है

काली चाय स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हाेती है, इसमें काेई दाेहराए नहीं है। लेकिन आपके अकसर ही लाेगाें के मुंह से सुना हाेगा कि दूध वाली चाय बिल्कुल नहीं पीनी चाहिए, क्याेंकि इससे चाय में मौजूद सभी पाेषक तत्व नष्ट हाे जाते हैं। इसलिए यह चाय सेहत काे भी नुकसान पहुंचाता है। लेकिन यह सिर्फ एक मिथक ही है, चाय में दूध मिलाने से पाेषक तत्व नष्ट हाे जाते हैं। चाय में दूध मिलाने से कभी भी पाेषक तत्व कम नहीं हाेते हैं, बल्कि दूध मिलाने से शरीर में कैल्शियम की पूर्ति हाेती है। दूध में कैल्शियम हाेता है, जिससे हड्डियां मजबूत बनती हैं। लेकिन आपकाे दिन में 2 कप से अधिक चाय का सेवन करने से परहेज करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें - दूध वाली चाय, मसाला चाय, ब्लैक टी या ग्रीन टी: सेहत के लिए कौन सी चाय है बेस्ट, जानें डायटीशियन से

2. ग्रीन टी पीने से तुंरत कम हाेता है वजन

यह वाक्य आजकल लाेगाें के बीच एक बहुत बड़ी अफवाह बनी हुई है। ग्रीन टी स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हाेती है, लेकिन सिर्फ इसके सेवन से आप अपना वजन कम कर सकते हैं, ऐसा बिल्कुल नहीं है। भले ही ग्रीन टी में मौजूद कैटेचिन मेटाबॉलिज्म काे बढ़ाने और फैन बर्न करने में मदद करता है, लेकिन इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि आपकाे सिर्फ ग्रीन टी पीकर ही वजन कम हाेने लगेगा। वजन कम करने के लिए राेजाना 2-3 कप ग्रीन टी पीने के साथ ही आपकाे डाइट और एक्सरसाइज पर भी पूरा ध्यान देना हाेता है। इसलिए इस गलतफहमी में बिल्कुल न रहे कि आप दिनभर में अधिक ग्रीन टी पीकर अपना वजन कम कर लेंगे।

green tea

(Image Source :webmd)

3. चाय एक हाइड्रेटिंग पेय पदार्थ है

अगर आप अधिक मात्रा में चाय का सेवन करते हैं, ताे इससे बार-बार पेशाब आता है। जिसकी वजह से कई लाेग इसे हाइड्रेटिंग पदार्थ समझने लगते हैं। चाय आपकाे कुछ हद तक हाइड्रेशन की जरूरताें काे पूरा कर सकता है, क्याेंकि इसमें पानी और दूध मिलाया जाता है। लेकिन अपनी बॉडी काे हाइड्रेट रखने के लिए आपकाे अन्य हेल्दी विकल्पाें काे चुनना चाहिए। चाय का सेवन सीमित मात्रा में ही किया जाए, ताे स्वास्थ्य काे लाभ मिलते हैं। अन्यथा इससे नुकसान पहुंचने लगता है। खाना खाने के बाद आपकाे चाय अवॉयड करनी चाहिए।

4. हर्बल टी कैफीन फ्री हाेता है

दूध वाली चाय में कैफीन हाेता है, ये सभी लाेग जानते हैं। लेकिन लाेगाें का मानना है कि हर्बल टी में कैफीन नहीं हाेता है। हर्बल टी काे जड़ी-बूटियाें, बीज, पौधाें के छाल और फूलाें से तैयार किया जाता है। हर्बल टी में कैफीन की बात करें ताे सभी हर्बल टी कैफीन फ्री नहीं हाेते हैं। कुछ हर्बल टी में भी कैफीन हाेता है। इसलिए अगर आप कैफीन फ्री चाय पीना चाहते हैं, ताे हर्बल टी लेने से पहले इसका लेबल जरूर चेक करें।

black tea

(Image Source :ra2ej.com)

5. ग्रीन टी सबसे अधिक फायदेमंद हाेती है

ग्रीन टी के साथ ही ब्लैक टी में भी काफी अच्छी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं। ग्रीन टी से सेहत काे कई लाभ मिलते हैं। दाेनाें में लगभग एक जैसे ही पाेषक तत्व पाए जाते हैं। इतना कहा जा सकता है कि दाेनाें के बीच सिर्फ रंग का अंतर हाेता है। साथ ही ग्रीन टी ब्लैक टी से अधिक प्रसिद्ध है। लाेग ब्लैक टी के बजाय ग्रीन टी काे पीना पसंद करते हैं। दाेनाें में एक जैसे की पाेषक तत्व पाए जाते हैं।

इसे भी पढ़ें -क्या आप भी चाय दाेबारा गर्म करके पीते हैं? जानें इससे हाेने वाली बीमारियाें और नुकसान के बारे में

6. चाय कभी एक्सपायर नहीं हाेती

अकसर किचेन में चाय की पत्ती का एक डिब्बा बना हाेता है। आप उसी में से चाय पत्ती निकालर चाय बनाते हैं। लाेगाें के मन में यह भ्रम है कि चाय कभी एक्सपायर नहीं हाेती है यानी इसे सालाें-साल इस्तेमाल किया जा सकता है। अगर आप भी ऐसा साेचते हैं, ताे बिल्कुल गलत है, क्याेंकि किचन या रसाेई में मौजूद अधिकांश चीजाें की तरह ही चाय की भी एक्सपायरी डेट हाेती है। एक्सपायरी के बाद चाय का सेवन करने से सेहत काे नुकसान पहुंच सकता है। अगर आपकी चाय से तीखी गंध आने लगी है या सुंगध गायब हाे गई है, ताे समझ ले कि चाय एक्सपायर हाे गई है। 

(Main Image Source : thefamiliarkitchen.com)

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer