Expert

गले की खराश का आयुर्वेदिक इलाज हैं ये 10 जड़ी-बूटियां, एक्सपर्ट से जानें इस्तेमाल का तरीका

Ayurvedic Remedies For Sore Throat: गले में खराश के लिए एंटीबायोटिक का इस्तेमाल सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है, जानें गले की खराश का आयुर्वेदिक इलाज।

Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarPublished at: Apr 22, 2022Updated at: Apr 22, 2022
गले की खराश का आयुर्वेदिक इलाज हैं ये 10 जड़ी-बूटियां, एक्सपर्ट से जानें इस्तेमाल का तरीका

हम में ज्यादातर लोग आए दिन गले में खराश (Sore Throat ) की समस्या का सामना करते रहते हैं। गले में खराश से लोगों को खाना पीना तक मुश्किल हो जाता है। क्योंकि गले में खराश की वजह से आपको गले में सूजन और दर्द जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। अक्सर लोग गले की खराश से राहत पाने के लिए एंटीबायोटिक दवाओं का सहारा लेते हैं। जबकि ऐसे कई नुस्खे हैं मौजूद जिनकी मदद से गले की खराश से छुटकारा पाया जा सकता है। जैसा कि हम सभी अच्छी तरह से जानते हैं कि एंटीबायोटिक दवाओं के कई दुष्प्रभाव (Side effects Of Antibiotics In Hindi) भी देखने को मिल सकते हैं। तो ऐसे में बेहतर है कि आप नैचरली इन समस्याओं से राहत पाने की कोशिश करें।

अब सवाल यह उठता है कि आप गले में खराश की समस्या से कैसे राहत पा सकते हैं? आयुर्वेदिक चिकित्सक डॉ. दिक्सा भावसार सवलिया (Dr Dixa Bhavsar Savaliya) बीएएमएस आयुर्वेद की मानें तो गले की खराश से राहत पाने के लिए आयुर्वेद में कई उपाय (Ayurvedic Remedies For Sore Throat in Hindi) मौजूद हैं। यहां तक कि इनमें से ज्यादातर उपाय आपकी रसोई में मौजूद हैं। यहां हम आपको गले की खराश से छुटकारा पाने के लिए डॉ. दिक्सा की सुझाई 10 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों और उनके इस्तेमाल के तरीके (Ayurvedic Herbs For Sore Throat Tips To Use In Hindi) के बारे में बता रहे हैं।

आइए पहले जानते हैं गले में खराश क्या है? (Sore Throat Meaning In Hindi)

गले में खराश की समस्या बहुत ही आम स्थिति है। इस स्थिति में आपको कुछ खाते समय या पीते समय निगलने में परेशानी होती है। साथ गले में दर्द की समस्या होती है। इस स्थिति को गले में खराश या सोर थ्रोट कहा जाता है (Sore Throat Meaning In Hindi)। इसके लिए कई कारण जिम्मेदार हो सकते हैं जैसे सर्दी-जुकाम, खांसी, या गले में सूजन।

जब किसी व्यक्ति को खाते समय कुछ भी निगलने में, पानी पीते समय गले में दर्द होता है, तो उसे गले में खराश कहा जाता है। आमतौर पर, गले में खराश को गले का दर्द भी कहा जाता है, यह सर्दी लगने या जुकाम के कारण हो सकता है। इसके अलावा खांसी की वजह से भी यह समस्या हो सकती है। आमतौर पर गले में खराश एंटीबायोटिक दवाओं, गरारे करने या अन्य घरेलु नुस्खों से ठीक हो जाती है, लेकिन जब यह समस्या इन तरीकों से भी ठीक न हो तो यह गंभीर समस्या साबित हो सकती है, जिसकी वजह से कुछ लोगों को बोलने या कुछ खाने में परेशानी हो सकती है।

गले की खराश से छुटकारा पाने के लिए 10 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां (Ayurvedic Remedies For Sore Throat And Cough In Hindi)

1. हल्दी और नमक के पानी से गरारे करें

इसके लिए आपको  250-300 लेना है। उसके बाद आपको इसमे 1 चम्मच हल्दी और आधा चम्मच नमक डालना है। अब इसे 5 मिनट के लिए  उबालें। इसे थोड़ा ठंडा करें और जब पानी थोड़ा गुनगुना रह जाए तो इससे गरारे करें। आप दिन में 3-4 बार गरारे कर सकते हैं। इससे आपको गले में खराश से तुरंत राहत मिलेगी, और गले में सूजन कम होगी।

2. यष्टिमधु या मुलेठी और शहद

मुलेठी में कई औषधीय गुण मौजूद होते हैं साथ ही मुलेठी को इसके एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटीबायोटिक गुणों के लिए जाना जाता है। गले की खराश से छुटकारा पाने के लिए 1 चम्मच मुलेठी का चूर्ण लें और इसमें शहद मिलाएं। इसे दिन में दो बार पानी की तरह चूसें। इसके अलावा आप इस मिश्रण को गर्म पानी में डालकर दिन में दो बार गरारे भी कर सकते हैं।

3. आंवला का रस और शहद

आंवला में कई जरूरी पोषक तत्व मौजूद होते हैं साथ ही यह विटामिन सी का एक बेहतरीन स्रोत है। जब इसका शहद के साथ सेवन किया जाता है तो यह गले की समस्याओं जैसे गले में सूजन, दर्द, खराश से राहत पाने में मदद करता है। 15-20 ML आंवले के रस में 1 चम्मच शहद मिलाएं और दिन में दो से तीन बार इसका सेवन करें।

इसे भी पढें: ज्योतिष्मती (मालकांगनी) तेल शरीर की इन 8 समस्याओं को करे दूर, ऐसे करें इस्तेमाल

4. मेथी की चाय

मेथी को इसकी पोषण सामग्री के लिए जाना जाता है। यह सोडियम, जिंक, फॉस्फोरस, फॉलिक एसिड, आयरन कैल्शियम मैग्नीशियम, पोटेशियम के साथ ही कई जरूरी विटामिन और मिनरल्स का बेहतरीन स्रोत है। मेथी की चाय गले की समस्याओं से राहत पाने में भी मदद करती है। 1 चम्मच मेथी को 250 मिलीलीटर पानी में 5 मिनट तक उबालें, और इसे छानकर घूंट-घूंट कर पीएं।

5. दालचीनी की चाय

1 गिलास पानी में आधा चम्मच दालचीनी का पाउडर या दालचीनी कि छड़ी डालें और उसे  5 मिनट तक उबालें। इसे छान लें और इसे थोड़ा ठंडा होने दें। गुनगुना रह जाने पर इसमें थोड़ा शहद और नींबू मिलाएं। इसे घूंट-घूंट कर पिएं।

6. तुलसी की चाय

तुलसी की चाय पीने से हमारे शरीर को कई लाभ मिलते हैं, यह आपकी इम्युनिटी को बूस्ट करने में भी मदद करती है। तुलसी की चाय बनाने के लिए आपको बस 4-5 तुलसी के पत्ते लेने हैं और उन्हें थोड़े से पानी में उबालना है। आपकी चाय तैयार है। आप चाहें तो इसमें शहद, अदरक भी मिला सकते हैं।

7.  दूध में सौंठ का पाउडर

गले की खराश से राहत पाने के लिए सौंठ वाला दूध बेहद फायदेमंद है। अगर आप गले में खराश सी महसूस कर रहे हैं रात को सोने से पहले 1 गिलास गुनगुने दूध में सौंठ का पाउडर मिलाकर इसका सेवन करें। यकीन मानिए, गले को शांत करने के लिए यह एक बेहतर उपाय है।

8. अदरक की चाय

एक बर्तन में एक कप पानी डालें, अब इसमें एक इंच अदरक का टुकड़ा डालें और 3 से 4 मिनट तक उबालें, आपकी अदरक की चाय तैयार है। इसे छान लें और धीरे-धीरे घूंट-घूंट कर इसका आनंद लें। इससे गले के साथ-साथ आंतों की सूजन को दूर करने में भी मदद मिलती है।

9. शहद और नींबू पानी

शहद का सेवन खांसी और गले में दर्द में बहुत फायदेमंद होता है, वहीं नींबू विटामिन सी में हाई होता है जिससे यह गले की सूजन को कम करने में मदद करता है। गले की खराश का इलाज करने के लिए एक गिलास में थोड़ा गर्म पानी डालें, उसके बाद इसमें आधा नींबू और थोड़ा शहद मिलाएं, फिर इसे पी लें।

10. गर्म पानी

गर्म पानी का सेवन करने से गले की सिकाई होती है, साथ ही इससे गले की सूजन को कम करने में मदद मिलती है। यह गले में दर्द और गले की खराश से छुटकारा पाने में भी मदद करता है। अगर आप गले की समस्याओं से परेशान हैं आप पूरे दिन गुनगुने पानी को घूंट-घूंट करके पी सकते हैं।

इसे भी पढें: प्रीमेन्स्ट्रूअल सिंड्रोम (PMS) से छुटकारा दिलाएंगे ये 8 आयुर्वेदिक उपाय

नोट- अगर आपको इन घरेलू नुस्खों से गले की खराश में आराम नहीं मिलता है तो ऐसे में आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। जिससे कि वह आपको उचित  इलाज प्राप्त हो सके।

Disclaimer