खुशहाल और स्वस्थ जीवन के लिए आज से ही लाइफस्टाइल में करें ये 6 बदलाव, दूर रहेंगी बीमारियां

अपनी जीवन शैली में आप जितना बदलाव करेंगे वह आपके और आपके परिवार के लिए स्वस्थ होगा। बेहतर स्वास्थ्य से आप व आपका परिवार सुरक्षित रह सकता है।

Monika Agarwal
तन मनWritten by: Monika AgarwalPublished at: Sep 25, 2021
खुशहाल और स्वस्थ जीवन के लिए आज से ही लाइफस्टाइल में करें ये 6 बदलाव, दूर रहेंगी बीमारियां

आपने कहावत तो सुनी होगी कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है। अगर आप स्वस्थ और खुश रहना चाहते हैं तो आपको अपना लाइफस्टाइल भी बदलना होगा। हेल्दी लाइफस्टाइल के लिए बस छोटे-छोटे बदलावों को अपनाएं। तब आपको बहुत ही कम स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। हो सकता है सुनने में आपको यह बात अजीब लगे लेकिन यह आपके शरीर व आपके दिमाग की हेल्थ के लिए बहुत ही जरूरी है। क्योंकि हमें अपने शरीर को एक संतुलित हालत में रखने के लिए हेल्दी डाइट अपनाकर बुरी आदतें त्यागनी होंगी। साथ ही रोजाना एक्सरसाइज को भी अपने डेली रूटीन का हिस्सा बनाना होगा। इस तरह आपका कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने का , डायबिटीज होने का और हृदय रोगों का रिस्क कम होता है। रोजाना अपनी लाइफ में निम्न छोटे-छोटे बदलावों को जगह दें और एक स्वस्थ जीवन पायें।

1. दोपहर में है मीठे की जगह फाइबर युक्त खायें (Take High Fibre Snack Instead Of Sweets)

दोपहर में लंच करने के बाद आपका जरूर कुछ न कुछ मीठा खाने का मन करता होगा और आप इस क्रेविंग को पूरा करने के लिए पेस्ट्री, आइस क्रीम या चॉकलेट खाते होंगे। जो आपकी सेहत के लिए काफी नुकसान दायक होती है। लेकिन जैसे ही आपका ऐसा खाने का मन होता है तो आपको फाइबर से युक्त कोई चीज खा लेनी चाहिए। ताकि आपका पेट भरा रह सके। आप इस दौरान मूंगफली, नट्स, खीरा, गाजर, चुकंदर आदि खा सकते हैं।

fiber rich foods

Image Credit- Everydayhealth

2. बैठने की जगह घूम घूम कर करें बातें (Walk When You Talk)

अगर आप किसी से मिलने जा रहे हैं और काफी लंबी मीटिंग है तो इतने समय तक केवल बैठे ही न रहें। बल्कि थोड़ा बहुत घूम फिर कर बात कर सकते हैं। फोन पर बात कर रहे हैं तो आप वॉक करते हुए बात कर सकते हैं। अगर यह एक कैजुअल मीटिंग है तो आप पार्क आदि में मिल कर भी राउंड लगा सकते हैं। ताकि आपका शरीर एक्टिव रहे और वॉकिंग से भी आपको काफी लाभ मिल सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: आपके सोने का तरीका बताता है आपकी मानसिक सेहत का हाल, जानें 5 स्लीपिंग पैटर्न और इनका मेंटल हेल्थ पर प्रभाव

3. टीवी देखने के बाद 10 मिनट मेडिटेशन और योग करें (Ten Minutes Meditation After Watching TV)

अगर आपकी काफी लंबे समय तक टीवी देखने की या मोबाइल आदि गैजेट की आदत है तो आप इसे देखते हुए योगासन कर सकते हैं। इसके अलावा आप को इनमें से शुरुआत में केवल 10 या 5 मिनट कम कर देने हैं और उसकी जगह आप को कुछ समय तक मेडिटेशन करना है। इस आदत से आपका मन शांत रहेगा और आपकी मेंटल हेल्थ काफी अच्छी रहेगी।

4. सोशल मीडिया स्क्रॉल करने की बजाए कुछ देर ज्यादा नींद लें (Don't Scroll Social Media Too Much)

अगर आपकी भी सोशल मीडिया पर बहुत लंबे समय तक स्क्रॉल करने की आदत है तो आप उस आदत को बदल कर अच्छी नींद निकाल सकते हैं। इससे आपकी आंखों को भी आराम मिलेगा, आपकी गर्दन आदि और शरीर भी रिलैक्स होगा और सबसे अच्छी बात तो यह होगी कि आप अपनी नींद भी पूरी कर सकेंगे।

इसे भी पढ़ें: अच्छी याददाश्त और स्वस्थ दिमाग के लिए घर पर करें ये 4 एक्टिविटीज, मिलेंगे ढेर सारे फायदे

5. अल्कोहल को आप नींबू पानी से रिप्लेस कर सकते हैं (Replace Alcohol With Lemon Water)

अगर आपकी अल्कोहल पीने की आदत है तो यह आपके शरीर और खास कर आपके लीवर के लिए बिल्कुल भी हेल्दी नहीं है। इसलिए आप को अल्कोहल को किसी हेल्दी चीज के साथ रिप्लेस कर देना चाहिए, जैसे नींबू पानी पीना आपके लिए फायदेमंद होता है। इसके लिए आप ठंडे ठंडे पानी में नींबू और थोड़ी चीनी मिला कर उससे एक हाइड्रेटिंग और डिटॉक्स ड्रिंक बना कर पी सकते हैं जो आपके लिए काफी हेल्दी होगी।

lemon water

Image Credit- Greenerideal

6. अधिक कैलोरी खाने से हैं परेशान तो धीरे धीरे खाना शुरू करें (Eat Slowly And Control More Calories Intake)

अगर आप जल्दी जल्दी खाना खाते हैं तो कुछ ही समय बाद आप को दोबारा से भूख लगनी शुरू हो जाती है। आप लगातार कुछ न कुछ खाते ही रहते हैं। जिससे आपका कैलोरी इनटेक काफी अधिक बढ़ जाता है। इससे आप और अधिक मोटे और बीमारियों के रिस्क में आ सकते हैं। इससे बचने के लिए आपको धीरे धीरे खाना खाना चाहिए ताकि खाना पच भी आराम से सके और आपको लंबे समय तक भूख ही न लगे।

तो यह थी कुछ आदतें जो आपको हेल्दी लाइफस्टाइल चुनने में मदद कर सकती हैं। ये आदतें आपकी जिंदगी को पूरी तरह परिवर्तित कर सकती है।

Read More Articles on Mind & Body in Hindi

Disclaimer