कान में तेल डालना चाहिए या नहीं? जानें कान में तेल डालने के नुकसान

Side Effects Of Putting Oil In Ear In Hindi: कान में तेल डालने से कान से जुड़ी कई समस्याएं हो सकती हैं। आइए जानते हैं कान में तेल डालने के नुकसान

Priya Mishra
Written by: Priya MishraUpdated at: Nov 24, 2022 13:25 IST
कान में तेल डालना चाहिए या नहीं? जानें कान में तेल डालने के नुकसान

अक्सर लोग कान में दर्द या खुजली होने पर कान में तेल डाल लेते हैं। आपने अपनी दादी-नानी से भी कान में तेल डालने की सलाह सुनी होगी। कई लोगों की यह धारणा होती है कि कान में तेल डालने से कान का मैल आसानी से निकल आता है। कई लोग कान की छोटी-मोटी परेशानियों के इलाज के लिए कान में तेल डाल लेते हैं। लेकिन, एक्सपर्ट्स के मुताबिक कान में तेल नहीं डालना चाहिए। कान में तेल डालने से कान में संक्रमण हो सकता है। इतना ही नहीं, कान में तेल डालने से कान का पर्दा भी खराब हो सकता है। हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, कान में कभी भी कच्चा तेल नहीं डालना चाहिए। अगर आप भी कान में कच्चा तेल डालते हैं, तो इसके साइड-इफेक्ट्स जान लें। आइए, जानते हैं कान में तेल डालने के नुकसान (Kaan Me Tel Daalne Ke Nuksan)

कान में तेल डालना चाहिए या नहीं? 

हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, कान में तेल नहीं डालना चाहिए। दरअसल, तेल में कई तरह के बैक्टीरिया मौजूद होते हैं, जिससे कान में संक्रमण पैदा हो सकता है। कान में तेल डालने से कान से जुड़ी कई समस्याएं हो सकती हैं। कान में तेल डालने के कारण कान में लंबे समय तक नमी बनी रहती है। ऐसे में, धूल और प्रदूषण के कारण कान में गंदगी से मैल जमने लगता है, जो संक्रमण पैदा कर सकता है। 

कान में तेल डालने के नुकसान

परमानेंट हियरिंग डिसेबिलिटी

कान में कच्चा तक डालने से अपनी सुनने की क्षमता प्रभावित हो सकती है। दरअसल, कान में तेल डालने से ऑटोमाइकोसिस की बीमारी हो सकती है, जिसके कारण आपको परमानेंट हियरिंग डिसेबिलिटी की समस्या हो सकती है। यानी आप हमेशा के लिए अपनी सुनने की क्षमता को खो सकते हैं। इसलिए, कान में कभी भी कच्चा तेल नहीं डालना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: कान में इंफेक्शन होने पर नजर आते हैं ये 5 लक्षण, बरतें सावधानी

कम सुनाई देने की समस्या

कई लोग कान से जुड़ी परेशानियों के उपचार के लिए कान में तेल डाल लेते हैं। लेकिन, कान में तेल डालने से कान के पर्दे को नुकसान हो सकता है। कान में तेल डालने से कान का पर्दा फट सकता है, जिससे बहरे हो सकते हैं। कान में दर्द या कम सुनाई देने जैसी समस्याएं होने पर हमेशा डॉक्टर से ही इलाज करवाएं। 

Oil-In-Ear

पस की शिकायत

कई माएं अपने छोटे बच्चे को नहलाने के तुरंत बाद उनके कान में तेल डाल देती हैं। लेकिन, इससे शिशु के कान में पस की शिकायत हो सकती है। दरअसल, नहाने के बाद कान में नमी होती है। ऐसे में नहाने के तुरंत बाद कान में तेल डालने पर तेल और पानी एक साथ जमा हो जाता है, जिसके कारण पस बन सकता  है।

बढ़ सकती है कान की गंदगी

कई लोग कान का मैल निकालने के लिए कान में तेल डालते हैं। लेकिन, इसकी वजह से कान में नमी रहती है और धूल-मिट्टी के कारण कान में गंदगी जमा हो सकती है। इससे कान का मैल बाहर निकलने के बजाय अंदर ही जमा हो सकता है। इससे कान में गांठ की समस्या भी हो सकती है।

कान के पर्दे को हो सकता है नुकसान

अगर आपके कान का पर्दा फटा हुआ है, तो भूलकर भी कान में कोई तेल न डालें। कान में तेल डालने से मैल कान के पर्दे से अंदर जा सकता है। इससे आपके कान के पर्दे को और ज्यादा नुकसान हो सकता है। कान सें तेल डालने से आपके कान में दर्द और खुजली हो सकती है। कान से जुड़ी किसी भी समस्या के लिए हमेशा डॉक्टर की सलाह से इलाज करें। 

इसे भी पढ़ें: कान में इंफेक्शन होने पर अपनाएं ये 5 घरेलू उपाय

Side Effects Of Putting Oil In Ear In Hindi: कान में तेल डालने से कान से जुड़ी कई समस्याएं हो सकती हैं। ऐसे में, बेहतर होगा कि आप कान में कोई भी परेशानी होने पर कान के डॉक्टर को दिखाएं। कभी भी खुद घर में कान में तेल डालकर उपचार न करें।

Disclaimer