Doctor Verified

कान में इंफेक्शन होने पर नजर आते हैं ये 5 लक्षण, बरतें सावधानी

Kaan Mein Infection Ke Lakshan: कान में संक्रमण होने पर कई लक्षण नजर आते हैं। इनकी पहचान करें और तुरंत इलाज शुरु करें नहीं, तो तकलीफ बढ़ सकती है।

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Sep 27, 2022 12:57 IST
कान में इंफेक्शन होने पर नजर आते हैं ये 5 लक्षण, बरतें सावधानी

Ear Infection Symptoms: कान में गंदगी, बीमारी या क‍िसी अन्‍य कारण से संक्रमण हो जाता है। संक्रमण के कारण शरीर के बाक‍ि अंग भी प्रभाव‍ित हो सकते हैं। कान में संक्रमण होने के कारण स‍िर में दर्द की समस्‍या हो सकती है। संक्रमण के कारण बुखार का लक्षण भी देखने को म‍िलता है। अगर आप समय पर इलाज नहीं करवाएंगे, तो कान में संक्रमण के कारण नींद और भूख प्रभाव‍ित हो सकती है।

कान में संक्रमण होने पर लक्षण एक या दोनों कानों में हो सकते हैं। अगर संक्रमण दोनों कानों में हुआ है, तो समस्‍या गंभीर हो सकती है। कान में संक्रमण दर्दनाक हो सकता है क्‍योंक‍ि इससे ईयरड्रम पर दबाव बढ़ता है। संक्रमण क‍िसी भी उम्र में हो सकते हैं और उनके प्रभाव शरीर पर अलग-अलग होते हैं। इस लेख में हम आपको कान में संक्रमण होने के लक्षणों के बारे में बताएंगे। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।    

ear infection symptoms

1. कान में दर्द होना 

कान में पानी चले जाने के कारण, फंगल इंफेक्‍शन हो जाता है। इसके कारण कान में तेज दर्द हो सकता है। कान में पानी चले जाने से कई बार कान सुन्न भी हो जाते हैं। गले में संक्रमण होने का बुरा असर कान पर पड़ सकता है। इस दौरान आपको गले की खराश के साथ कान में दर्द या सूजन महसूस हो सकती है।

इसे भी पढ़ें- बेहतर सुनने की क्षमता के लिए अपने कान का रखें विशेष ध्यान, डाइट में अपनाएं ये 6 चीजें  

2. कान में खुजली होना

कान के पर्दे में क‍िसी तरह की परेशानी होने पर कान में खुजली हो सकती है। आप स‍िगरेट जोन में ज्‍यादा रहते हैं, तो स‍िगरेट का धुंआ आपके कानों को प्रभाव‍ित कर संक्रमण का कारण बन सकता है। संक्रमण के कारण तेज खुजली हो सकती है।     

3. सुनाई न देना 

कान में फंगल इंफेक्‍शन के कारण बैक्‍टीर‍िया पैदा हो सकते हैं ज‍िससे कान में संक्रमण फैल जाता है। ऐसा कान में गंदगी के कारण हो सकता है। कान में गंदगी के कारण ब्‍लॉकेज बन जाता है और आपको सुनने में परेशानी हो सकती है।  

4. कान से पस न‍िकलना 

कान से पस न‍िकलने के कई कारण हो सकते हैं। न‍िमोन‍िया, हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा, यूस्टेशियन ट्यूबों में रुकावट के कारण कान से पस न‍िकल सकता है। अगर जन्‍म से आपको कान से जुड़ी कोई समस्‍या है, तो संक्रमण परेशान कर सकता है। तापमान और ऊंचाई में पर‍िवर्तन के कारण भी कई बार कान में संक्रमण हो जाता है।

5. कान में भारीपन महसूस होना 

अगर आपके कान में मैल जमा है, तो आपको कान में भारीपन महसूस हो सकता है। घाव या फुंसी होने पर भी भारीपन महसूस हो सकता हे। कान में पानी या शैंपू चले जाने से भी भारीपन हो सकता है। साइनस की परेशानी बढ़ने पर भी ऐसा होता है।    

कान में इंफेक्‍शन से बचने के तरीके

  • मॉनसून के दौरान कान में इंफेक्‍शन की समस्‍या आम हो जाती है। कान के संक्रमण से बचने के ल‍िए कान को साफ रखें और उसमें पानी न जाने दें। 
  • हर द‍िन नहाने के बाद, कान को तौल‍िए के साफ कोने से साफ करें।
  • कान को साफ करने के ल‍िए ईयरबड का ज्‍यादा इस्‍तेमाल न करें। 
  • कान गंदे होने पर, घरेलू उपाय अपनाने के बजाय, डॉक्‍टर के पास जाकर ईयर क्‍लीन‍िंग करवाएं।
  • क‍ि‍सी भी तरह के संक्रमण से बचने के ल‍िए हर 6 महीने में एक बार ईएनटी व‍िशेषज्ञ से जांच जरूर करवाएं।

कान में संक्रमण के लक्षण: अगर आपके कान में क‍िसी भी तरह का इंफेक्‍शन है तो, कान में दर्द, खुजली, सूजन, सुनाई न देना, पस न‍िकलना, कान में भारीपन महसूस हो सकता है।  

Disclaimer