कोरोना की जांच के लिए नई टेस्ट किट तैयार, सभी वैरिएंट की हो सकेगी जांच

कोरोना संक्रमण की जांच के लिए वैज्ञानिकों ने नई टेस्ट किट CoVarScan तैयार की है, इसकी सहायता से कोविड के सभी वैरिएंट की जांच हो सकती है।

Prins Bahadur Singh
Written by: Prins Bahadur SinghPublished at: Jul 05, 2022Updated at: Jul 05, 2022
कोरोना की जांच के लिए नई टेस्ट किट तैयार, सभी वैरिएंट की हो सकेगी जांच

वैज्ञानिकों ने कोविड-19 संक्रमण की जांच के लिए वैज्ञानिकों ने एक नई टेस्ट किट तैयार की है, जिससे कोरोना के सभी वैरिएंट की जांच की जा सकेगी। अमेरिका के साउथवेस्टर्न यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने कोरोना संक्रमण की जांच के लिए एक नई टेस्ट किट CoVarScan तैयार की है, जिससे यह पता चल सकेगा कि आप कोरोना संक्रमित हैं या नहीं। इस टेस्ट किट के जरिए जांच में यह भी पता चल सकेगा कि आप कोरोना के किस वैरिएंट से संक्रमित हैं। अभी तक कोरोना की जांच के लिए इस तरह की कोई भी टेस्ट किट मौजूद नहीं थी, जिसके जरिए यह पता चल सके कि आप कोरोना के किस वैरिएंट से संक्रमित हैं। CoVarScan किट की टेस्टिंग के दौरान वैज्ञानिकों ने 4 हजार से ज्यादा सैंपल का परीक्षण किया है।

कोरोना के सभी वैरिएंट का चल सकेगा पता (CoVarScan To Detect All Covid Variants)

अमेरिका के यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास (यूटी) साउथवेस्टर्न मेडिकल सेंटर के वैज्ञानिकों द्वारा डेवलप इस टेस्ट किट की सहायता से कोरोना वायरस के अलग-अलग वैरिएंट की आसानी से जांच की जा सकेगी। इससे पहले कोरोना के अलग-अलग वैरिएंट की जाँच के लिए जीनोम सीक्वेंसिंग का सहारा लिया जाता है। इस तरीके से जांच करने में समय भी ज्यादा लगता है और इसका खर्च भी ज्यादा है। टेस्ट किट तैयार करने सहायक प्रोफेसर और अध्ययन के वरिष्ठ लेखक जेफरी सोरेले ने कहा कि कोरोना संक्रमण की जांच के लिए यह टेस्ट किट, मार्केट में दूसरी टेस्ट किट की तरह ही प्रभावी है। CoVarScan की विशेषता यह है कि इससे जांच में कोरोना के सभी वैरिएंट का पता चल सकता है। वैज्ञानिक CoVarScan एक गेम-चेंजिंग टेस्ट मान रहे हैं।

New Covid Test CoVarScan To Detect Covid

इसे भी पढ़ें: मोटे हों या पतले Covid Vaccine सभी पर प्रभावी, लैंसेट की स्टडी में किया गया दावा

कितनी सटीक टेस्टिंग कर सकती है CoVarScan किट? (CoVarScan Test Kit Efficacy in Hindi)

वैज्ञानिकों के मुताबिक जीनोम सीक्वेंसिंग की तुलना में CoVarScan किट 96 प्रतिशत ज्यादा संवेदनशील है और 99 प्रतिशत अधिक प्रभावी है। इस टेस्ट किट से जांच के दौरान कोरोना के डेल्टा, ओमिक्रोन, म्यू और लैम्ब्डा वैरिएंट की पहचान आसानी से होती है और ओमिक्रोन के नए सब वैरिएंट BA.2 का भी पता चल सकता है। वैज्ञानिकों के मुताबिक अगर भविष्य में कोरोना के नए वैरिएंट आते हैं तो इस टेस्ट किट में 20 से 30 और वैरिएंट को पहचानने के लिए न हॉटस्पॉट जोड़े जा सकते हैं।

भारत में भी कोरोना के अलग-अलग वैरिएंट की जांच के लिए जीनोम सीक्वेंसिंग तकनीक का सहारा लिया जाता है। ऐसे में CoVarScan टेस्ट किट के मार्केट में आने से कोरोना की जांच में काफी लाभ मिलेगा। गौरतलब हो, भारत में कोरोना संक्रमण के नए मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक भारत में बीते 24 घंटे के दौरान कोरोना के 13 हजार 86 नए मामले दर्ज किये गए हैं, और 19 लोगों की मौत हुई है। देश में कोरोना के एक्टिव मामले भी बढ़कर 1 लाख 14 हजार हो गए हैं।

(Image Courtesy: Freepik.com)

 
Disclaimer