डायबिटीज के मरीजों में दिख रहे हैं कोरोना के ये 3 नए लक्षण

डायबिटीज रोगियों में कोरोना के कुछ ऐसे लक्षण नजर आ रहे हैं, जो कोरोना से संक्रमित दूसरे लोगों में कम देखने को मिल रहे हैं। चलिए जानते हैं इनके बारे मे

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Jun 03, 2021
डायबिटीज के मरीजों में दिख रहे हैं कोरोना के ये 3 नए लक्षण

देश में कोरोना वायरस (Coronavirus in India) के मामलों में लगातार कमी हो रही है। इस समय देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर (Covid Second Wave) चल रही है। दूसरी लहर में कोरोना वायरस के कई नए म्यूटेंट (New Mutants) ने भी दस्तक दी है, जिसकी वजह से इसके लक्षणों में लगातार बदलाव नजर आते रहे हैं। कोरोना वायरय होने पर अकसर लोगों में गले में खराश, सूखी खांसी, बुखार, सांस लेने में तकलीफ और बदन दर्द जैसे लक्षण नजर आते हैं। लेकिन इस बार उल्टी, डायरिया और निमोनिया जैसे लक्षण कोरोना के मरीजों में नजर आ रहे हैं। 

दरअसल, कोरोना की दूसरी लहर में कुछ लोगों में इसके नए लक्षण नजर आ रहे हैं। लेकिन ये लक्षण ज्यादातर डायबिटीज या हाई ब्लड शुगर (Diabetes or High Blood Sugar) के रोगियों में ही नजर आ रहे हैं। हाई ब्लड शुगर होने पर मरीजों में निमोनिया, स्किन रैशेज और छाती में दर्द होना भी कोरोना के लक्षण हो सकते हैं। ऐसे में अगर आप डायबिटीज रोगी हैं, तो इन लक्षणों पर भी आपको गौर करना होगा। अगर स्किन रैशेज हो, तो इसे भी नजरअंदाज न करें। 

rashes

1. स्किन पर रैशेज होना (Skin Rash)

वॉकहार्ट हॉस्पिटल, मुंबई सेंट्रल के डायबिटोलॉजिस्ट डॉक्टर अल्तमश शेख (Diabetologist Dr Altamash Shaikh Wockhardt Hospital, Mumbai Central) बताते हैं कि डायबिटीज रोगियों में स्किन पर रैशेज भी कोरोना वायरस का एक लक्षण हो सकता है। ऐसे में अगर आप डायबिटीज पेशेंट हैं और आपको स्किन पर रैशेज हो रहे हैं, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। ब्लड शुगर लेवल ज्यादा होने पर अकसर लोगों में ये लक्षण नजर आ रहे हैं। हाई ब्लड शुगर की वजह से स्किन ड्राय हो रही है, जिससे स्किन रैशेज की समस्या होती है। इसमें स्किन इंफेक्शन के साथ ही त्वचा पर रेड स्पॉट्स भी दिखाई देते हैं। लेकिन जरूरी नहीं है कि यह लक्षण सिर्फ डायबिटीज रोगी में ही देखने को मिले, दूसरे लोगों में भी कोरोना होने पर स्किन रैश के लक्षण नजर आ सकते हैं।

इसे भी पढ़ें - कोविड से रिकवरी के बाद डायबिटीज रोगी कमजोरी दूर करने के लिए अपनाएं ये डाइट टिप्स

कोरोना की दूसरी लहर में अकसर त्वचा से जुड़े लक्षण जैसे रैशेज, सूजन और एलर्जी के मामले सामने आ रहे हैं। इसके साथ ही इसका असर नाखूनों पर भी देखने को मिल रहा है। इस स्थिति में डायबिटीज के रोगियों को अपनी त्वचा का खास ध्यान रखने की जरूरत होती है। त्वचा में थोड़ा सा बदलाव आने पर तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए।  

breat

2. निमोनिया (Pneumonia)

डॉक्टर अल्तमश शेख बताते हैं कि कोरोना से संक्रमित डायबिटीज मरीजों में निमोनिया के भी लक्षण देखने को मिल रहे हैं। कोरोना और निमोनिया बेहद गंभीर स्थिति होती है। डायबिटीज मरीजों को कोरोना और निमोनिया दोनों का रिस्क बहुत ज्यादा है। हाई ब्लड शुगर लेवल से कोरोना तेजी से पूरे शरीर में फैलता है, जिससे जोखिम ज्यादा बढ़ जाता है। इस दौरान मरीज को सांस से जुड़ी दिक्कते हो सकती है। ऐसे में आपको अपनी सेहत का ध्यान रखने की बहुत जरूरत होती है। इस स्थिति को बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें।

इसे भी पढ़ें - किस ब्लड ग्रुप वाले लोगों को होता है डायबिटीज का अधिक खतरा, डॉक्टर से जानें इसके बारे में

3. ऑक्सीजन सैचुरेशन लेवल कम होना (Low Oxygen Saturation Level)

कोरोना की दूसरी लहर में हैप्पी हाइपोक्सिया (Happy Hypoxia) के भी मामले सामने आ रहे हैं। हैप्पी हाइपोक्सिया वह स्थिति होती है, जब शरीर में ऑक्सीजन सैचुरेशन लेवल कम (Low Oxygen Saturation Level) हो जाता है, लेकिन इसका पता मरीज को नहीं चल पाता है। फिर अचानक से मरीज की तबियत बिगड़ती है और मरीज गंभीर हो जाता है। डायबिटीज या हाई ब्लड शुगर के मरीजों में इसका सबसे ज्यादा खतरा रहता है। इसकी वजह से कोरोना से संक्रमित डायबिटिक्स को सीने में दर्द और सांस लेने में भी दिक्कत हो सकती है।

कोरोना के दूसरी लहर में ये सारे लक्षण भी सामने आए हैं। अगर आप डायबिटीज पेशेंट हैं, तो आपको इन लक्षणों को बिल्कुल भी नजरअंदाज नहीं करने चाहिए। शुरुआत में ही इन लक्षणों पर गौर करें और तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट करें।

Read More Articles on Diabetes in Hindi

Disclaimer