क्या आपको पता है पानी पीने का सही तरीक? मलाइका अरोड़ा से जानिए पानी पीने के बेसिक रूल्स

पानी हमारे शरीर के लिए खाना खाने से भी ज्यादा जरूरी है। पर पानी पीते समय हमें इसके कुछ आयुर्वेदिक नियमों का जरूर पालन करना चाहिए।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Jun 16, 2020
क्या आपको पता है पानी पीने का सही तरीक? मलाइका अरोड़ा से जानिए पानी पीने के बेसिक रूल्स

पानी हमारे शरीर के कई कारणों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। हमारा शरीर मूल रूप से 50-70% पानी से बना है। साइंस की भाषा में समझें, तो हमारे शरीर में खून में 83% पानी होता है, मांसपेशियां 75% पानी से बनी होती हैं, हड्डियां 22% पानी से बनी होती हैं और हमारा मस्तिष्क 74% पानी से ही भरा होता है। वहीं कोशिकाओं और ऊतकों को हाइड्रेट करने के लिए शरीर के सभी अंगों द्वारा पानी की ही आवश्यकता होती है। पानी शरीर के तापमान को ही नियंत्रित नहीं करता है, बल्कि पानी का सेवन शरीर की विभिन्न प्रक्रियाओं जैसे श्वास, पसीना, खनिजों और पोषक तत्वों के अवशोषण आदि में भी मददगार है। पर बहुत कम ही लोगों को पता है कि पानी पीने का सही तरीका (right way to drink water) क्या है? हालही में अभिनेत्री मलाइका अरोड़ा ने इंस्टाग्राम पर पानी पीने के सही तरीके के बारे में लोगों को याद दिलाया। उन्होंने इस दौरान पानी पीने के बेसिक रूल्स बताएं (How to drink water)

insidewaterdrinkingrules

मलाइका अरोड़ा ने अपने एक मिनट के वीडियो में बताया है कि फिटनेस और स्वास्थ्य के लिए पानी पीना बेहद जरूरी है और इससे ज्यादा जरूरी है पानी पीने का सही तरीका। अभिनेत्री मलाइका अरोड़ा ने कहा, पानी पाने के लिए हमेशा बैठने और धीरे से पानी पीने का तरीका अपनाएं। वीडियो में उन्होंने कहा कि सभी को बैठकर पानी पीना चाहिए। इसको पीने के लिए खड़े होना और तेजी से पानी पीना सही तरीका नहीं है।

इसे भी पढ़ें : आयुर्वेद के बारे में कितना जानते हैं आप? इन 10 सवालों के जवाब दें और खुद परखें अपना आयुर्वेदिक ज्ञान

पानी पीने का गोल्डन रूल है ‘Sit And Sip’

मलाइका बताती हैं कि घर पहुंचते ही हम सभी को पानी पीने की आदत होती है। हमने कभी इस पर विचार नहीं किया कि हम इसे सही तरीके से कर रहे हैं या नहीं। विज्ञान के अनुसार, जब आप खड़े होते हैं और पानी पीते हैं तो आपका शरीर पानी से पर्याप्त पोषक तत्वों को अवशोषित करने में सक्षम नहीं होता है। ऐसा करना आपको कई स्वास्थ्य समस्याओं के जोखिम में भी डालता है। तो, सही तरीके से पानी का सेवन करना आवश्यक है। ऐसे में आयुर्वेद आपको धीरे-धीरे पानी पीने और बैठने की सलाह देता है।

दरअसल जब आप खड़े होते हैं और पानी पीते हैं, तो यह एक सीधी गले के साथ पूरे शरीर के प्रणाली से गुजरता है। यह वास्तव में शरीर के सभी अंगों तक नहीं पहुंचता है और प्रणालियों को चोट पहुंचाता है। ये शरीर के सभी विषाक्त पदार्थों, जिन्हें हटाया जाना चाहिए था, उसकी जगह ये गुर्दे और मूत्राशय में जमा हो जाते हैं। इसके अलावा, खड़े होकर पानी पीसे आपकी प्यास नहीं बुझती। इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि आराम करें, बैठें और अपना पानी धीरे-धीरे पिएं।

इसे भी पढ़ें : आयुष विभाग का दावा, 7 चीजों से बने खास आयुर्वेदिक काढ़े से कोरोना को रोकने में सफलता, 90 लोगों पर दिखा असर

पानी पीने का आयुर्वेदिक रूल्स

  • -पानी पीने के लिए कभी भी खड़े होने की तुलना में बैठना सही है। यह पानी के उचित और कुशल अवशोषण और वितरण में मदद करता है।
  • -पानी को छोटे घूंटों में पीना चाहिए और एक सांस में बड़ी मात्रा में नहीं लेना चाहिए, क्योंकि यह रक्त, गैस्ट्रिक जूस को रोकने में मदद करता है।
  • -हमेशा गर्म पानी या कमरे के तापमान का पानी पीना चाहिए और बर्फ का ठंडा पानी पीने से बचें। क्योंकि लंबे समय तक ठंडा पानी पीने से कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। यह पाचन को परेशान करेगा और गंभीर कब्ज, दिल से जुड़ी परेशानियां, गुर्दे की विफलता का कारण भी बन सकता है।
  • -जब भी आपको प्यास लगे तो पानी पी लें। जब भी आपका शरीर आपसे पानी मांगेगा, तो आपके पानी का दैनिक सेवन पूरा हो जाएगा। 
  • -आपके मूत्र का रंग इंगित करेगा कि आप पर्याप्त रूप से हाइड्रेटेड हैं या नहीं। अगर यह गहरे पीले रंग का है तो इसका मतलब है कि आपको अपने शरीर को हाइड्रेट करने के लिए बहुत सारा पानी पीने की जरूरत है।
  • -अगर आपका शरीर पर्याप्त रूप से हाइड्रेटेड नहीं है, तो होंठ भी शुष्क और काले हो जाएंगे।
  • -भोजन और पानी के सेवन के बीच लगभग 45 मिनट का अंतर होना फायदेमंद है। अगर भोजन के तुरंत बाद किसी को प्यास लगी हो, तो उसे नाश्ते के बाद ताजे फलों का रस, दोपहर के भोजन के बाद छाछ और रात के खाने के बाद दूध का सेवन कर सकता है।

Read more articles on Ayurveda in Hindi

Disclaimer