ये 5 संकेत बताते हैं कि आपके मस्तिष्क (Brain) को तुरंत है पानी की जरूरत, संकेत पहचानें और पिएं 1 ग्लास पानी

अगर आपको काम करते हुए या पढ़ते हुए ये 5 संकेत दिखें, तो समझ लें आपके मस्तिष्क को तुरंत थोड़ा आराम और 1 ग्लास पानी की जरूरत है।

Anurag Anubhav
Written by: Anurag AnubhavUpdated at: Jan 19, 2021 17:35 IST
ये 5 संकेत बताते हैं कि आपके मस्तिष्क (Brain) को तुरंत है पानी की जरूरत, संकेत पहचानें और पिएं 1 ग्लास पानी

पानी हमारे जीवन के लिए जरूरी है। हमारे शरीर के हर एक अंग के लिए पानी बहुत जरूरी है। शरीर में पानी की कमी कई अंगों को प्रभावित करती है। पानी की कमी से डिहाइड्रेशन हो जाता है और इसका असर पाचन तंत्र, किडनी, लिवर आदि पर तो पड़ता ही है, लेकिन पानी की कमी का सबसे पहले असर आपके मस्तिष्क (Brain) पर देखा जाता है। बिना पानी के मस्तिष्क कोशिकाएं सिकुड़ने लगती हैं, बिल्कुल वैसे ही जैसे कोई फल सूखता जाता है। कोशिकाओं के सिकुड़ने के कारण मस्तिष्क का आकार बदलने लगता है और मस्तिष्क ठीक से काम नहीं कर पाता है।

अब चूंकि मस्तिष्क हमारे शरीर का कंट्रोल सेंटर है, इसलिए मस्तिष्क का काम करना बेहद जरूरी है, अन्यथा अन्य अंग भी ठीक से काम नहीं कर पाएंगे। आपके मस्तिष्क को जब पानी की जरूरत होती है, तो वो कुछ संकेत देता है। आमतौर पर रोजमर्रा के जीवन में हम कई ऐसे संकेत महसूस तो करते हैं, लेकिन नजरअंदाज कर देते हैं।
चूंकि आजकल सर्दियां हैं और सर्दियों में लोग कम पानी पीते हैं। इसलिए हम आपको बता रहे हैं 5 ऐसे संकेत, जिसका अर्थ है कि आपके मस्तिष्क को तुरंत पानी की जरूरत है। इन संकेतों के दिखते ही आप बिना देरी किए 1 ग्लास पानी जरूर पी लें, ताकि मस्तिष्क सामान्य हो सके।

drinking water

1. आंखों के आगे कुछ सेकेंड के लिए अंधेरा छाना

कई बार जब आप काम में बिजी होते हैं, तो आपको पानी पीने की भी फुरसत नहीं मिलती है। लेकिन इसी बीच अगर आपको आंखों के आगे 1 सेकेंड से भी कम समय के लिए अंधेरे जैसा छाए जैसा कैमरे का फ्लैश देखने के बाद होता है, तो आप समझ लें कि ये इस बात का इशारा है कि आपके मस्तिष्क को अभी तुरंत पानी की जरूरत है। ऐसा संकेत दिखने पर आपको तुरंत काम छोड़कर एक ग्लास पानी पीना चाहिए। जब आप ध्यान से काम कर रहे होते हैं, तो आपकी आंखों को कंट्रोल करने वाला मस्तिष्क का हिस्सा सबसे सक्रिय होता है। जब मस्तिष्क को थोड़ा रेस्ट या पानी की जरूरत होती है, तो ब्रेन एक्टिविटी अचानक रुकती है और आपको अंधेरा दिखाई देता है।

इसे भी पढ़ें: क्या गर्मी में भी गर्म पानी पीना सुरक्षित है? जानें हॉट सीजन में गर्म पानी पीने के फायदे और नुकसान

2. दिमाग ठीक से न चलना

कई बार आप किसी काम के दौरान किसी समस्या को सुलझाने का भरसक प्रयास करते हैं, लेकिन आपको महसूस होता है कि आपका मस्तिष्क ठीक से काम नहीं कर रहा है। वहीं पढ़ाई के दौरान कई बार सामने लिखी हुई चीज आप हर बार गलत पढ़ते हैं। ये भी स्लो ब्रेन एक्टिविटी का संकेत है। अगर आपके साथ ऐसा हो तो समझ लें कि मस्तिष्क को तुरंत थोड़ा रेस्ट और पानी की जरूरत है। आप 1 ग्लास पानी पिएं और 2-3 मिनट आंख बंद करके बैठ जाइए। फिर आप पाएंगे कि आपका ब्रेन ज्यादा बेहतर तरीके से समस्या को सुलझा रहा है।

3. चीजों या बात को तुरंत भूल जाना

डिहाइड्रेशन यानी पानी की कमी आपके ब्रेन फंक्शन को पूरी स्पीड से काम करने से रोकती है। यही कारण है कि कई बार आप बिल्कुल आसान सी बात को 5-10 मिनट बाद ही भूल जाते हैं। वैसे तो ये समस्या किसी मानसिक बीमारी का भी संकेत हो सकती है, जिसे शॉर्ट टर्म मेमोरी लॉस कहते हैं। लेकिन अगर ऐसा कभी-कभार होता है, खासकर जब आप पढ़ाई या ऑफिस से संबंधित कोई चीज याद कर रहे हों, तो समझ लें कि आपको पानी की जरूरत है।

water while work

4. सिरदर्द

सिरदर्द एक आम समस्या है, जिसे हम कभी भी पानी की कमी से जोड़कर नहीं देखते। कारण यह है कि हमें सिखा दिया गया है कि सिरदर्द हो, तो दर्द निवारक गोली खा लो। कई बार आपको वास्तव में दर्द निवारक गोली की नहीं, बल्कि सिर्फ पानी की जरूरत होती है क्योंकि सिरदर्द का मूल कारण ही पानी की कमी होती है। ऐसे में गोली खाने के लिए जब आप पानी पीते हैं, तो आपको आराम मिल जाता है और आपको लगता है कि गोली ने असर किया है। इसलिए काम करते हुए या पढ़ाई के दौरान जब आप अपने ब्रेन का ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हों, तब अगर आपको सिरदर्द होता है, तो सबसे एक ग्लास हल्का ठंडा पानी पिएं। ऐसे समय में सिरदर्द का कारण मस्तिष्क में ऑक्सीजन की कमी हो सकती है और पानी में ऑक्सीजन भी होता है।

इसे भी पढ़ें: वजन घटाए, इम्यूनिटी बढ़ाए और शरीर में जमा गंदगी को बाहर निकालेगा रोजाना 1 कप मूंग दाल का पानी

5. निगेटिव मूड

मस्तिष्क ही हमारे मन को भी कंट्रोल करता है। इसलिए कई बार शरीर के अलावा मन में दिखने वाले विकार भी पानी की कमी का संकेत हो सकते हैं। पानी की कमी से न्यूरोट्रांसमीटर्स और हार्मोन्स ठीक से काम नहीं करते हैं, इसलिए अगर आपके मस्तिष्क को पानी की कमी हुई तो संभव है कि आप नकारात्मक तरीके से सोचने लगें। इसलिए जब भी आपके मन में नकारात्मकता आए, तो 1 ग्लास पानी पिएं और ब्रेन को थोड़ा रेस्ट दें।

Read More Articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer