बाल झड़ने और रूसी के कारण आप भी कर रहें इस तेल का इस्तेमाल? जानें कैसे खराब कर सकता है ये आपके सुंदर बाल

कैस्टर ऑयल का इस्तेमाल लोग बालों की लंबाई बढ़ाने के लिए करते हैं, पर जरूरी नहीं कि ये हर तरह के बालों के लिए भी उतना ही फायदेमंद हो।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Aug 12, 2020Updated at: Aug 12, 2020
बाल झड़ने और रूसी के कारण आप भी कर रहें इस तेल का इस्तेमाल? जानें कैसे खराब कर सकता है ये आपके सुंदर बाल

अरंडी का तेल, जिसे कैस्टर ऑयल (Castor Oil) भी कहा जाता है, ये पोषक तत्व से भरपूर ऐसा वनस्पति तेल है जिसे लोग खाने और लगाने दोनों के लिए इस्तेमाल करते हैं। भारत समेत पूरी दुनिया में कॉस्मेटिक और औषधीय प्रयोजनों के लिए इसका व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाता है। अरंडी का तेल में अच्छी मात्रा में फैटी एसिड होता है, जिसके कारण ये बालों की जड़ों को आवश्यक प्रोटीन औरपोषक तत्व प्रदान करते हैं और सूजन को रोकते हैं। पर ऐसा हमेशा नहीं होता । दरअसस कुछ स्थितियों में बालों में अंरडी तेल लगाना आपको दोगुना नुकसान पहुंचा सकता है। वो कैसे आइए हम आपको बताते हैं इसके बारे में।

insidecastoroil

बालों में कब इस्तेमाल न करें अरंडी का तेल (Castor Oil Side Effects in Hindi)?

1. डैंड्रफ होने पर 

अरंडी का तेल यानी कि कैस्टर ऑयल एंटी-फंगल और एंटी-बैक्टीरियल मुद्दों से निपटने में उपयोगी है क्योंकि इसमें एंटीऑक्सिडेंट होते हैं और स्कैल्प के पीएच को संतुलित करते हैं। पर रूसी या सेबोरहाइक ड्रमाइटिस (seborrheic dermatitis) की सूजन से पीड़ित लोगों के लिए, यह वास्तव में बैकफायर हो सकता है और अधिक परेशान कर सकता है। ऐसी त्वचा की स्थिति और एलर्जी का कारण बनने वाला फंगस वास्तव में तेलों में लिपिड पर फीड करता है और इसलिए इसके ऊपर अरंडी का तेल लगाने से स्थिति और खराब हो सकती है। इससे बाल और तेजी से झड़ सकता है।

इसे भी पढ़ें : Hair fall remedy: बालों के झड़ने से परेशान हैं आप? रुजुता दिवेकर से जानें इससे निजात पाने का कारगर तरीका

2. पैची स्कैल्प में

अरंडी का तेल प्रकृति में बहुत कसैले होने के नाते, त्वचा में जलन पैदा कर सकता है। बहुत से लोग इस वजह से भी इसके इस्तेमाल से बचते हैं। इससे बालों में सूखापन, संवेदनशीलता और यहां तक कि बालों का भी नुकसान हो सकता है। दरअसल डर्मेटाइटिस जर्नल में प्रकाशित अध्ययन की मानें, तो इसके कारण स्कैल्प पर डर्मेटाइटिस विकसित हो सकता है। वहीं जिन लोगों की पैची स्कैल्प है, उनके लिए भी ये बहुत फायदेमंद नहीं है, ये इसे और सेंसिटिव बना सकता है। इस तरह अरंडी का तेल सभी प्रकार की त्वचा के लिए नहीं है। यह सलाह दी जाती है कि अगर आप अपने बालों पर अरंडी का तेल लगाने जा रहे हैं, तो आपको अपनी कोहनी पर इसे लगाकर त्वचा पर इसकी प्रतिक्रिया का जांच करनी चाहिए।

insidehairwash

3. ऑयली बालों के लिए

अरंडी का तेल वास्तव में गाढ़ा होता है और यह एक बार लगाने के बाद खोपड़ी को बहुत चिकना बना देता है। वहीं जिनके स्कैल्प पहले से ही ऑयली हैं, उनके लिए इसका इस्तेमाल करना इसे और खराब कर सकता है। वहीं आपको बाल धोने में भी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। वहीं अगर आप अरंडी के तेल को धोने के लिए जरूरत से ज्यादा शैंपू का इस्तेमाल करेंगे, तो आपके बाल और खराब हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : झड़ चुके बालों को दोबारा पाने और बालों को घना बनाने के लिए घर पर बनाएं ये खास हेयर ग्रोथ ऑयल, जानें तरीका

अगर आप बालों में अरंडी के तेल इस्तेमाल करने के बारे में सोच भी रहे हैं, तो इसे सीध इस्तेमाल न करें। इसकी जगह अगर आप इसे किसी और तेल के साथ मिला कर इस्तेमाल करें, तो बालों के लिए नुकसानदेह नहीं होगा। अरंडी के तेल के साथ समस्या आमतौर पर आती ही तब है जब आप इसे सीधे लगा लेते हैं, बिना सोचे कि इसका नुकसान भी हो सकता है। इसलिए अगर आप अपने स्कैल्प की त्वचा के प्रकार के बार में नहीं जानते हैं, तो आपको हमेशा इसे नारियल के तेल या बादाम के तेल के साथ मिलाकर ही अरंडी के तेल का इस्तेमाल करना चाहिए।

Read more articls on Hair-Care in Hindi

Disclaimer