क्या सभी हर्बल और नैचुरल दवाएं सच में सेफ होती हैं? जानें इनके प्रयोग से जुड़ी जरूरी बातें

अगर आप भी जड़ी-बूटियों को एकदम सुरक्षित मानते हैं और लंबे समय तक इनका उपयोग करते हैं, तो बाद में आपको इनसे नुकसान भी हो सकता है। 

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Jun 04, 2021
क्या सभी हर्बल और नैचुरल दवाएं सच में सेफ होती हैं? जानें इनके प्रयोग से जुड़ी जरूरी बातें

क्या आप भी अपनी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को ठीक करने के लिए हर्बल दवाइयों यानी जड़ी-बूटियों (Herbal Medicine or Herbs) का उपयोग करते हैं। अगर हां, तो इनका उपयोग करने से पहले भी आपको डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी होता है। हर्बल उपचार दवा के रूप में उपयोग किए जाने वाले पौधे होते हैं। इसलिए अकसर लोग अपनी बीमारी को ठीक करने के लिए इनका उपयोग करते हैं। कई लोग सोचते हैं कि बीमारी को ठीक करने के लिए पौधों का उपयोग करना दवा लेने से ज्यादा सुरक्षित होता है। लेकिन अगर लंबे समय तक इनका उपयोग किया जाए, तो इनसे भी शरीर को नुकसान हो सकता है।

herbas

क्या जड़ी-बूटियां दवाएं हैं? (Herbs Are Not Medicines)

जड़ी-बूटियां दवाइयां नहीं होती हैं। इसलिए हम अकसर किसी भी हर्ब्स के फायदे जानकर उसका सेवन करना शुरू कर देते हैं। लेकिन इनका सेवन करने से पहले आपको हमेशा डॉक्टर की सलाह लेनी जरूरी होती है। क्योंकि बहुत ज्यादा मात्रा में इनके सेवन से स्वास्थ्य को गंभीर नुकसान भी पहुंच सकता है। आम दवाइयों की तरह ही इनका अधिक सेवन भी नुकसानदायक हो सकता है। इसलिए जड़ी-बूटियों का उपयोग करते समय भी आपको सतर्क रहने की जरूरत होती है। हर्बल उपचार एक तरह का डाइट सप्लीमेंट होता है, इन्हें दवाइयों में शामिल नहीं किया जाता है। जड़ी-बूटियों को दवाइयों की तरह विनियमित नहीं किया जाता है। भले ही जड़ी-बूटी दवाइयां नहीं होती है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप असीमित मात्रा में इनका सेवन कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें - Ayurvedic Herbal Waters: इन जड़ी बूटियों को पानी में मिलाकर पीने से होते हैं अनेक फायदे

जड़ी-बूटियां के नुकसान (Side Effects of Herbs)

जड़ी-बूटियां भले ही प्राकृतिक होती हैं, लेकिन इसका ये मतलब बिल्कुल नहीं है कि इनसे शरीर को कोई नुकसान नहीं होगा। अत्याधिक मात्रा और गलत तरीके से जड़ी-बूटियों का सेवन करने से शरीर को नुकसान भी पहुंच सकता है। इसलिए बाकि दवाइयों की तरह ही जड़ी-बूटियों का सेवन भी डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए। लंबे समय तक प्राकृतिक चीजों के सेवन के भी साइड इफेक्ट नजर आ सकते हैं। कई ऐसी हर्ब्स होती हैं, जिनके ज्यादा सेवन से शरीर को फायदों की जगह नुकसान होने लगते हैं। जैसे-

  • - कावा एक जड़ी-बूटी है। इसका इस्तेमाल चिंता, अनिद्रा, मेनोपॉज यानी रजोनिवृत्ति के लक्षणों और अन्य दूसरी बीमारियों को ठीक करने के लिए किया जाता है। तनाव और चिंता में इसका उपयोग करना फायदेमंद माना जाता है। कई लोग अपनी इस समस्या को ठीक करने के लिए इसका प्रयोग भी करते आ रहे हैं। लेकिन लंबे समय तक इसके सेवन से लीवर को नुकसान पहुंच सकता है। इसलिए अगर आप भी इस जड़ी-बूटी का प्रयोग कर रहे हैं, तो तुरंत बंद कर दें और इसके सेवन के लिए पहले डॉक्टर की सलाह लें।
herbs
  • - इन दिनों लोग अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए धड़ल्ले से अश्वगंधा का सेवन कर रहे हैं। इसका उपयोग शारीरिक कमजोरी को दूर करने के लिए किया जाता है। साथ ही सर्दी-जुकाम होने पर भी इसका सेवन करना फायदेमंद माना जाता है। लेकिन अगर इसका सेवन लंबे समय तक किया जाए, तो इससे डायरिया की समस्या हो सकती है। साथ ही इसकी ज्यादा डोज लेने से उल्टी और जी मिचलाने जैसे दुष्प्रभाव भी देखने को मिल सकते हैं। 
  • - अकसर लोग पेट में गैस और कब्ज की समस्या होने पर त्रिफला का सेवन करना शुरू कर देते हैं। कई लोग तो कब्ज से छुटकारा पाने के लिए इसे रोज लेते हैं। लंबे समय तक इसका उपयोग करते रहते हैं, ऐसे में आपकी कब्ज की समस्या तो ठीक हो सकती है। लेकिन इसके अत्याधिक सेवन से शरीर को दूसरी स्वास्थ्य समस्याएं भी हो सकती है। त्रिफला का अधिक डोज लेने से डायरिया की समस्या हो सकती है। साथ ही ब्लड प्रेशर के मरीजों को इससे नुकसान पहुंच सकता है। लंबे समय तक इसे लेने से ब्लड प्रेशर में फ्लक्चुएशन शुरू हो जाता है। इतना ही नहीं यह अनिद्रा का कारण भी बन सकता है।

इसी तरह से कई ऐसी जड़ी-बूटियां और नैचुरल दवाएं हैं, जिनके सेवन से हमारी कई स्वास्थ्य समस्याएं ठीक होती है। लेकिन अगर इन्हें बिना डॉक्टर की सलाह के या लंबे समय तक उपयोग में लाया जाए तो गंभीर दुष्प्रभाव भी देखने को मिल सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें - हॉर्सटेल (सांप घास) जड़ी-बूटी से बालों, त्वचा और हड्डी की कई समस्याओं में मिलता है लाभ, जानें इसके 7 फायदे

ये लोग न करें जड़ी-बूटियों का उपयोग (People Should Not Use Herbs)

  • - बच्चों को जड़ी-बूटियां यानी हर्बल सप्लीमेंट देने से बचें।
  • - अगर आप पहले से ही किसी बीमारी की दवाएं ले रहे हैं, तो भी इसके उपयोग से बचें।
  • - अगर आपकी सर्जरी होने वाली है या हो चुकी है तो भी इनका इस्तेमाल न करें।
  • - अगर आप गर्भवती हैं तो आपAyurvedic Herbal Waters: इन जड़ी बूटियों को पानी में मिलाकर पीने से होते हैं अनेक फायदेको भी जड़ी-बूटियों का सेवन नहीं करना चाहिए। 
  • - स्तनपान कराने वाली महिलाएं हर्बल दवाएं लेने से बचें।

लंबे समय तक जड़ी-बूटियों के सेवन से भी कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं पैदा हो सकती है। भले ही जड़ी-बूटियां दवाइयां नहीं होती हैं, लेकिन फिर भी इनका सेवन बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं करना चाहिए। आम दवाइयों की तरह ही हबर्ल दवाइयों के भी दुष्प्रभाव नजर आ सकते हैं। 

Read More Articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer