वर्कआउट के बाद बॉडी स्ट्रेचिंग क्यों है जरूरी? जानें एक्सपर्ट से

वर्कआउट के बाद स्ट्रेचिंग करना बहुत जरूरी होता है। इससे शरीर को कई तरह से फायदे मिलते हैं। जानें इनके बारे में

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: May 26, 2021
वर्कआउट के बाद बॉडी स्ट्रेचिंग क्यों है जरूरी? जानें एक्सपर्ट से

अगर आप फिटनेस कॉन्शियस (Fitness Conscious) हैं, तो नियमित रूप से एक्सरसाइज या वर्कआउट (Exercise or Workout) जरूर करते होंगे। इससे आपकी फिटनेस बरकरार रहती है और आप एकदम फिट, हेल्दी नजर आते हैं। लेकिन क्या आप वर्कआउट के बाद स्ट्रेचिंग (Stretching After Workout) करते हैं? अगर नहीं, तो आपको इसे भी अपनी जीवनशैली में जरूर शामिल करना चाहिए। क्योंकि वर्कआउट के बाद स्ट्रेचिंग करना बेहद अहम होता है, यह आपके वर्कआउट रूटीन का ही एक हिस्सा होता है। ऐसे में इसे कभी भी स्किप न करें। योबिक्स वर्कआउट की फाउंडर और फिटनेस ट्रेनर डॉक्टर कविता नालवा (Yobics Workout Founder and Fitness Trainer Dr Kavita Nalwa) बता रही हैं, क्यों जरूरी है वर्कआउट के बाद स्ट्रेचिंग करना-

stretching

दरअसल, कई लोग हैवी वर्कआउट तो करते हैं और उससे पहले स्ट्रेचिंग भी करते हैं, लेकिन वर्कआउट के बाद स्ट्रेचिंग के स्टेप को अवॉयड कर देते हैं। जबकि ऐसे करने से आपको वर्कआउट के पूरे फायदे नहीं मिल पाते हैं। अगर आपको एक्सरसाइज या वर्कआउट के सभी फायदे लेने हैं, तो इसके बाद अपनी बॉडी को स्ट्रेच जरूर करें। हैवी वर्कआउट के बाद शरीर में गर्मी हो जाती है, जिससे शरीर को नुकसान हो सकता है। ऐसे में इसे रिलैक्स करने के लिए आप स्ट्रेचिंग कर सकते हैं। आप चाहें वर्कआउट जिम में करें या घर पर करें, इसके बाद स्ट्रेचिंग जरूर करें। 

क्यों जरूरी है वर्कआउट के बाद स्ट्रेचिंग (Importance of Stretching After Workout)

वर्कआउट या एक्सरसाइज के बाद स्ट्रेचिंग करना बहुत जरूरी होता है। इससे मांसपेशियां रिलैक्स होती हैं और उन्हें आराम मिलता है। इसके साथ ही स्ट्रेचिंग करने से बॉडी फ्लैक्सिबल होती है, यह शरीर के खराब पॉश्चर को भी ठीक करने में मददगार होता है। इसलिए आपको हर रोज वर्कआउट के बाद भी बॉडी को स्ट्रेच जरूर करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें - कैसे करें क्रॉसफिट एक्सरसाइज? जानें इसके फायदे और सावधानियां

फ्लैक्सिबिटी बढ़ाने के लिए (Increase Flexibility)

वर्कआउट के बाद अगर आप स्ट्रेचिंग नहीं करते हैं, तो इसे करना शुरू कर दें। क्योंकि यह आपकी बॉडी की फ्लैक्सिबिटी बढ़ाने के लिए बेहद जरूरी है। वर्कआउट के बाद आपकी बॉडी गर्म होती है, जिससे आप आसानी से स्ट्रेचिंग कर सकते हैं। स्ट्रेचिंग से मसल्स रिलैक्स होती हैं और आपकी फ्लैक्सिबिटी बढ़ती है, क्योंकि बॉडी को जितना स्ट्रेच किया जाता है उतना ही उसका लचीलापन बढ़ता है। इसलिए अगर आप अपनी बॉडी को फ्लैक्सिबल बनाना चाहते हैं, तो एक्सरसाइज के बाद स्ट्रेचिंग को अपने रूटीन में जरूर शामिल करें।

मांसपेशियों को आराम दिलाने के लिए (Relax the Muscles)

हैवी वर्कआउट या एक्सरसाइज के बाद हम काफी ज्यादा थक जाते हैं। ऐसे में अगर इसके बाद बॉडी को अच्छे से स्ट्रेच कर लिया जाए, तो इससे मसल्स रिलैक्स हो जाती हैं। स्ट्रेचिंग करने से मांसपेशियों को आराम मिलता है और उनमें दर्द की शिकायत नहीं होती है। अगर आप वर्कआउट के बाद स्ट्रेचिंग नहीं करते हैं, तो आपको मांसपेशियों में दर्द की समस्या हो सकती है। यह मांसपेशियों की अकड़न को दूर करता है और शरीर को आराम देता है।

stretching

तनाव कम करने के लिए (Reduce Stress)

हार्ड वर्कआउट करने के बाद आप अकसर थक जाते हैं। इसके बाद आपको कुछ करने का मन नहीं करता होगा। लेकिन आपको इसके बाद स्ट्रेचिंग को कभी भी स्किप नहीं करना चाहिए, यह आपकी वर्कआउट रूटीन का एक जरूरी हिस्सा होता है। एक्सरसाइज के बाद स्ट्रेचिंग करने से तनाव को भी कम किया जा सकता है। स्ट्रेचिंग से टाइट मसल्स लूज हो जाती हैं, जिससे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है। इससे एंडॉर्फिन हार्मोन रिलीज होता है, जिससे आपको खुशी और शांति मिलती है। यह आपके मूड को बेहतर बनाने में भी मदद करता है।

नर्वस सिस्टम को रिलैक्स करने के लिए (Relax Nervous System)

हैवी वर्कआउट के बाद स्ट्रेचिंग करने से नर्वस सिस्टम रिलैक्स महसूस करता है। इसलिए आपको इसे अपनी जीवनशैली में जरूर शामिल करना चाहिए। आप अपने नर्वस सिस्टम को शांत करने और आराम दिलाने के लिए वर्कआउट के बाद 10-15 सेकेंड के अलग-अलग तरह की स्ट्रेचिंग कर सकते हैं। इससे आपके शरीर में ब्लड क्लॉट्स भी नहीं पड़ेगे। आपको एकदम अच्छा और रिलैक्स फील होगा। 

कंपन को दूर करने के लिए (Remove Vibration)

अकसर आप अपनी फिटनेस को मेंटेन रखने के लिए हैवी वर्कआउट या एक्सरसाइज का सहारा लेते हैं। लेकिन कई बार हैवी वर्कआउट के बाद शरीर में एक कंपन सी महसूस होने लगती है, ऐसे में अगर आप वर्कआउट के बाद स्ट्रेचिंग करेंगे तो आपको यह समस्या नहीं होगी। स्ट्रेचिंग कंपन की समस्या को दूर करने में मददगार होती है। अगर आपको भी ऐसा कुछ महसूस होता है, तो एक्सरसाइज के बाद स्ट्रेचिंग करना शुरू कर दें।

इसे भी पढ़ें - फिट रहने के लिए 45 साल से ऊपर की महिलाएं रोज करें ये 4 एक्सरसाइज

पॉश्चर को ठीक करने के लिए (Perfect Posture)

लंबे समय से एक ही जगह पर बैठे रहने से कई लोगों का बॉडी पॉश्चर खराब हो जाता है। ऐसे में इसे ठीक करने के लिए आप वर्कआउट के बाद स्ट्रेचिंग के स्टेप को फॉलो कर सकते हैं। स्ट्रेचिंग आपके पॉश्चर को ठीक करने में मददगार होता है। यह पीठ के निचले हिस्से की मसल्स, छाती और कंधों को स्ट्रेच करता है, जिससे रीढ़ की हड्डी सीधी और मजबूत रहती है। स्ट्रेचिंग करने से आपके उठने, बैठने के तरीकों में भी अच्छा बदलाव होता है। 

stretching

पीठ के दर्द को कम करने के लिए (Relief in Back Pain)

जब आप वर्कआउट के बाद स्ट्रेचिंग नहीं करते हैं, तो मसल्स रिलैक्स नहीं हो पाती हैं। जिससे अकसर शरीर के कई हिस्सों में दर्द होने लगता है। इनमें पीठ का दर्द सबसे सामान्य होता है। लेकिन अगर वर्कआउट के बाद स्ट्रेचिंग की जाए, तो इससे पीठ और उसके निचले हिस्से के दर्द को पूरी तरह से ठीक किया जा सकता है। इससे शरीर में रक्त का प्रवाह बेहतर होता है और शरीर का ललीचापन बढ़ता है।

इन तरीकों से कर सकते हैं स्ट्रेचिंग

  • - पीठ को स्ट्रेच करने के लिए आप सबसे पहले खड़े हो जाएं। अब हल्का सा पीछे की तरफ झुकें। अपने हाथों को लोअर बैक पर रखें और मसल्स को स्ट्रेच करें। इससे आपको पीठ के दर्द में आराम मिलेगा।
  • - अपने हाथों को स्ट्रेच करने के लिए आप अपने दोनों हाथों को सिर के ऊपर उठाएं। दोनों हाथों को जोड़कर और एड़ी उठाकर तेजी से स्ट्रेच करें। इसे आप 5-7 बार कर सकते हैं। इससे हाथों की मसल्स रिलैक्स हो जाती हैं।
  • - कमर को स्ट्रेच करने के लिए आप पैरों को कंधों के बराबर चौड़ाई में खोल लें। अपने दोनों घुटनों को हल्का सा मोड़ें। अब आप आगे की तरफ झुकें और अपने दोनों हाथों को घुटनों पर रखें। अपने मसल्स को स्ट्रेच करने की कोशिश करें।

अगर आप भी एक्सरसाइज करने के बाद स्ट्रेचिंग नहीं करते हैं, तो अब से इसे अपने वर्कआउट रूटीन का हिस्सा जरूर बना लें। क्योंकि स्ट्रेचिंग करने से शरीर को कई तरह से फायदे मिलते हैं। आप चाहें तो इसके बारे में जानने के लिए अपने फिटनेस एक्सपर्ट से भी सलाह ले सकते हैं।

Read More Articles on Exercise and Fitness in Hindi

Disclaimer