इन 13 कारणों से सो जाते हैं आपके पैर, जानें वर्क फ्रॉम होम के दौरान इस परेशानी से कैसे पाएं निजात

वर्क फ्रॉम होम में (work from home) लंबे समय तक कंप्यूटर पर बैठने और बॉडी मूवमेंट कम होने की वजह से पैरों में सो जाने या झनझनाहट की समस्या बढ़ रही है।

Meena Prajapati
Written by: Meena PrajapatiUpdated at: Feb 02, 2021 09:00 IST
इन 13 कारणों से सो जाते हैं आपके पैर, जानें वर्क फ्रॉम होम के दौरान इस परेशानी से कैसे पाएं निजात

क्या आप भी वर्क फ्रॉम होम (work from home) पर हैं। क्या आपको भी लंबे समय तक कंप्यूटर पर एक ही पोजिशन में बैठकर ऑफिस का काम करना पड़ता है। लंबे समय बैठकर काम करने से क्या आपके भी पैरों में झुनझुनी या पैरों के सो जाने की समस्या हो रही है। यह परेशानियां आपको क्यों हो रही हैं इनके उपाय क्या हैं, इसके बारे में जानने के लिए हमने बरेली जिला अस्पताल में कंसल्टेंट फिजिशियन डॉ. वागीश वैश से बात की।  डॉ. वागीश वैश की मानें, तो  पैरों के सो जान के कई कारण (causes of feet numbness) जिनमें सबसे बड़ा कारण है शारीरिक गतिविधियों की कमी। इसी तरह इसके पीछे कई और कारण भी हैं, तो आइए जानते हैं  क्यों सो जाते हैं हमारे पैर और इस परेशानी से बचने के घरेलू उपाय क्या है (what are the home remedies for feet numbness)? 

inside_workfromhomefoot2

क्यों बढ़ रही पैरों के सो जाने की समस्या (causes of feet numbness)

1. कोरोना ने बदला लाइस्टाइल 

ये तो सच है कि कोरोना ने किसी की जिदंगी पर सकारात्मक तो किसी पर नकारात्मक असर डाला है। लेकिन  सेहत पर इसका नकारात्मक असर पड़ा है। कोविड-19 के चलते ही कांच से चमकते दफ्तरों पर आज ताले लगे हैं और घर दफ्तर बन गए हैं। दफ्तर में कुर्सी, टेबल, आरामदायक रोशनी और काम का माहौल होता है। लेकिन घर तो घर जैसा होता है। घर में दफ्तर का काम करने की सुव्यवस्थित व्यवस्था न होने के कारण किसी भी अवस्था में बैठकर घंटों ऑफिस का काम करना पड़ता है। कभी आलती-पालती मारकर काम करते हैं तो कभी घंटों पैर कुर्सी से नीचे लटके रहते हैं जिससे पैर सो जाते हैं।

2. ब्लड सर्कुलेशन के बहाव में कमी (Reduced blood circulation)

डॉक्टर वागीश के मुताबिक जब तक लोग दफ्तर जा रहे थे तब उनके काम के घंटे तय थे लेकिन घर से काम करने के दौरन इन काम के घंटों में इजाफा हुआ जिससे शरीर में समस्याएं भी बढ़ी हैं। डॉक्टर बताते हैं कि घंटों बैठे रहने से ब्लड सर्कुलेशन में कमी आती है जिससे पैरों में झनझनाहट होने लगती है।

3. नर्वस सिस्टम में कमजोरी 

डॉक्टर के मुताबिक अगर पैरों में बार झनझनाहट हो रही है तब यह नर्वस सिस्टम में कमजोरी (weakness of nervous system) का कारण भी सकता है। इसके लिए डॉक्टर से भी सलाह ली जा सकती है।

4. लंबे समय तक बैठे रहना

कोरोना से पहले लोगों को इतना काम नहीं करना पड़ता था जितना कोरोना के दौरान करना पड़ा। डेडलाइन से पहले असानमेंट जमा करने का तनाव साथ ही काम की गुणवत्ता भी बनी रहे, इसका भी ख्याल एम्प्लॉइज को रखना पड़ता है। यही वजह है कि उन्हें घंटों काम करना पड़ रहा है। लंबे समय तक एक ही अवस्था में बैठन से पैरों की नसें बहुत समय तक दबी रहती हैं जिससे वहां खून जमने लगता है और पैर सो जाते हैं।

inside_workfromhomefoot3

5. एक्सरसाइज में कमी

ये कोई नई बात नहीं है कि कोरोना में काम के घंटे बढ़ने के कारण निजी जीवन पर असर पड़ा है। पहले लोग एक्सरसाइज के लिए थो़ड़ा समय निकाल लेते थे लेकिन अब वो भी नहीं मिल पा रहा है। जिस वजह से केवल पैरों में सोने की समस्या ही नहीं, गर्दन में दर्द, लोअर बैक में दर्द जैसी समस्याएं भी सामने आ रही हैं।

6. नसों के सिकुड़ने से

डॉक्टर के मुताबिक कुछ लोग कई-कई घंटे तक घर से काम कर रहे हैं और ऊपर से सर्दी का मौसम है जिससे नसें सिकुड़ जाती हैं, जिससे बारीक आर्टरी तक खून नहीं पहुंच पाता, इस वजह से सुन्नपन की समस्या हो रही है।

7. खराब जीवनशैली :  खराब जीवनशैली के कारण भी हमारे पैरों में सुन्नपन बढ़ती है।

8. डायबिटीज :  जिन लोगों को मधुमेह की समस्या है और शुगर लेबल ज्यादा है तो उन्हें भी यह समस्या होती है।

9. रक्त वाहिनी: रक्त वाहिनी (blood vessels) में संरचनात्मक कमी या थक्का बन जने के कारण भी पैरों में झुनझुनी होती है।

10. विटामिन की कमी:  शरीरब में बी12 की कमी, कैल्शियम, मैग्नेशियम की कमी के कारण भी पैर सुन्न हो जाते हैं।

11. कार्पल टनल सिंड्रोम :  डॉक्टर के मुताबिक कार्पल टनल सिंड्रोम में कलाई की नसों में दबाव पड़ता है जिसकी वजह से शुरुआत में हाथ सुन्न हो सकते हैं।

12. रीढ़ की हड्डी में दबाव: दोनों टांगों में सुन्नपन रीढ़ की हड्डी में नसों पर दबाव बढ़ जाने की वजह से होता है।

13. धूम्रपान करना:  डॉक्टर वागीश के मुताबिक अगर कोई व्यक्ति धूम्रपान अधिक करता है तब भी उसे पैरों में झनझनाहट की समस्या हो सकती है।

इसे भी पढ़ें : मास्क के भीतर छीकें या इसके बाहर? एक्सपर्ट से जानें मास्क में छींकने, खांसने और उबासी लेने का सही तरीका

इस परेशानी से बचने के घरेलू उपाय (what are the home remedies for feet numbness)? 

1. एक्सरसाइज करें

एक्सरसाइज सबसे आसान तरीका है खुद को स्वस्थ रखने का, लेकिन आसान तरीके हम अपनाते कहां हैं। तो अब देर मत करिए रोजाना एक्सरसाइज करिए। व्यायाम करने से शरीर में खून का बहाव ठीक रहता है। जिससे पैरों तक खून पहुंचाने वाली नसें एक्टिव रहती हैं और रक्त संचार के बहाव में कमी नहीं आती और पैर सोते नहीं हैं।

2. पैरों की मालिश करें

कई घंटे पैरों के कुर्सी के नीचे लटके रहने से पैरों में नीचे खून का जमाव होने लगता है या बैठ कर काम करने से पैरों की नसें लंबे समय तक दबी रहती हैं, जिससे पैर सुप्तावस्था में चले जाते हैं। ऐसी परेशानी अगर बार-बार हो रही है तो पैरों की मालिश करें। जिससे खून का बहाव ठीक होगा और यह परेशानी बार-बार नहीं होगी। हालांकि डॉक्टर यह भी कहते हैं कि वैसे तो यह समस्या कई बार खुद ही ठीक हो जाती है, लेकिन अगर नैचुरल रेमेडिज से असर नहीं हो रहा है, समस्या ज्यादा हो रही है तो डॉक्टर के पास जाएं।

3. डाइट ठीक करें

पैरों के सुन्नपन की समस्या से निजात पाने के लिए डाइट में हरी पत्तेदार सब्जियां और आयरन वाले खाद्य पदार्थों को शामिल करना जरूरी है। डाइट ठीक होगी तो केवल पैरों की समस्या ही नहीं पूरा शरीर स्वस्थ रहेगा।

inside_workfromhomefoot1

4. नॉन वेज कम खाएं 

डॉक्टर के मुताबिक ऐसे खाद्य पदार्थ जिनमें फैट ज्यादा होता है उन्हें वे लोग कम खाएं जिन्हें पैरों के सो जाने की समस्या ज्यादा होती है। दरअसल नॉन वेज में फैट ज्यादा होता है जो आर्टरी में जम जाता है जिससे खून का बहाव कम हो जाता है। 

इसे भी पढ़ें : कितना संभव है कुष्ठ रोग (Leprosy) के लिए घेरलू उपाय, जानें क्या है इसका सही इलाज।

5. पैरों के नीचे रखें तकिया

पैरों में सुन्नपन की समस्या अमूमन थोड़ी देर के लिए ही होती है लेकिन अगर ये परेशानी बार-बार हो रही है तो इरिटेट करने लग जाती है। बहुत बार पैरों को बार-बार हिलाना पड़ता है इससे काम पर भी असर पड़ता है। इसलिए डॉक्टर बताते हैं कि अगर रात को सोते समय पैरों के नीचे तीन से चार तकिया रख लिए जाएं तो इससे बहुत आराम मिलता है। तकिया रखकर सोने से पैरों में सूजन, दर्द और सुन्नपन सभी में आराम मिलता है। तकिया इस तरीके से रखें कि पैर 45 डिग्री के एंगल में रहें, ऐसा करने से जो खून नीचे बचा है वो ऊपर आएगा। जिससे सूजन कम होगी और दर्द कम होगा। 

6. नमक का गर्म पानी 

नमक के गर्म पानी से पैरों की सिंकाई करने से भी खून का बहाव ठीक होता है। जिससे पैरों के सुन्नपन की समस्या में तुरंत आराम मिलता है।

पैरों में सुन्नपन या झनझनाहट (numbness) के कई अन्य गंभीर कारणों से भी हो सकते हैं लेकिन प्रमुख कारण खून का संचार और नर्वस सिस्टम की कमजोरी है, जिसे आपको दूर करना होगा। इसके साथ ही आप पैरों में बार-बार सो जाने की समस्या न हो उसके लिए डॉक्टर के बताए ये उपाय अपना सकते हैं।

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer