मास्क के भीतर छीकें या इसके बाहर? एक्सपर्ट से जानें मास्क में छींकने, खांसने और उबासी लेने का सही तरीका

अगर मास्क पहनकर छींकते हैं तो मास्क गीला हो जाता है और उतार देने पर ये दूसरो को संक्रमण फैला सकता है। इसलिए छींक, खांसी और उबासी लेते वक्त सर्तक रहें

Meena Prajapati
Written by: Meena PrajapatiPublished at: Feb 01, 2021Updated at: Feb 02, 2021
मास्क के भीतर छीकें या इसके बाहर? एक्सपर्ट से जानें मास्क में छींकने, खांसने और उबासी लेने का सही तरीका

मो. जावेद अनवर को बचपन से छींकने की समस्या है। वे कहते हैं कि पहले मुझे इससे कोई खास समस्या नहीं होती थी, लेकिन जब से कोरोना आया है तब से मुझे मेरी छींक की समस्या परेशान करने लगी है। 23 साल के जावेद कहते हैं कि पिछले दिनों उनकी बाइक खराब हो गई जिससे उन्हें मेट्रो से ऑफिस जाना पड़ा, लेकिन वे इस बात को लेकर बहुत कन्फ्यूज हुए कि उन्हें जब छींक आ रही है तब वे मास्क के भीतर छीकें या बाहर। अगर मास्क के भीतर छीकेंगे तो मास्क गीला हो जाएगा और बाहर छीकेंगे तो बाकी लोगों को दिक्कत होगी। ऐसी असमंजस में पड़कर जावेद ने मेट्रो में जाना बंद कर दिया और बाइक से ही ऑफिस जाने लगे। मास्क के भीतर छीकें या बाहर यह कन्फ्युजन केवल जावेद को नहीं है बल्कि ज्यादातर लोगों को है। मास्क में कैसे छीकें, खासें और उबासी लें, इसके बारे में हमने बात की मैक्स अस्पताल में रियुमेटोलोजी डिपार्टमेंट के डायरेक्टर पी.डी. रथ और अपोलो अस्पताल के पल्मोनॉलोजिस्ट निखिल मोदी से।

inside_facemaskcough2

मास्क में कैसे छींके, खांसे, उबासी लें (How to sneeze, cough when wearing a face mask )

जैसे जावेद को मास्क के भीतर छींकने को लेकर कन्फ्युजन थी वैसे ही बहुत से लोगों को है। इसका नतीजा यह होता है कि बहुत बार लोग मास्क उतारकर छींकते हैं लेकिन यह सही तरीका नहीं है। ऐसा करने से कोरोना तो फैलेगा ही साथ ही वायरल बीमारियां भी फैलेंगी। डॉक्टरों ने इसी कन्फ्यूजन को दूर करने के लिए कुछ उपाय बताए हैं।

1. वायरल होने पर घर से बाहर न निकलें

अगर आपको मालूम है कि आपको सर्दी, खांसी, जुकाम का वायरल है तो घर से बाहर न निकलें। घर पर रहकर ही इलाज करें। इससे यह वायरल दूसरों को नहीं फैलेगा। अगर आपको घर से बाहर निकलना ही पड़ रहा है तो मास्क पहन कर निकलें।

2. खांसते, छींकते या उबासी लेते वक्त मास्क न उतारें

डॉक्टरों के मुताबिक कोरोना से बचाव के लिए मास्क बहुत जरूरी है। इसलिए अगर मास्क पहनने के बाद आपको छींक, खांसी या उबासी आती है तो मास्क को उतारें नहीं। अगर मास्क उतार देंगे तो वह वायरस दूसरों को भी फैलेगा। और जैसा कहा जा रहा है कि कोरोना हवा में भी फैलता है इसलिए आपकी छींक के कण हवा में न फैलें इसलिए भी जरूरी है कि छींकते वक्त आप मास्क न उतारें।

3. एक्सट्रा मास्क रखें

छींकने से अगर मास्क गीला हो गया है तो दूसरे मास्क का इस्तेमाल करें। गीले मास्क में एफीकेसी (efficacy) कम हो जाती है। इसलिए हमेशा अपने पास दो चार मास्क एक्सट्रा रखें। गीला मास्क न पहनें। डॉक्टर निखिल मोदी के अनुसार मास्क के अंदर कॉटन होता है जो अमूमन गीलापन सोख लेता है लेकिन अगर छींकने से मास्क गीला हो गया है तो उसे ज्यादा देर न पहनें। 

4. कोहनी का इस्तेमाल करें

अगर गलती से किसी ने मास्क नहीं पहना है तो छींकते, खांसते वक्त कोहनी का इस्तेमाल करें। इससे छींक से निकले किटाणु दूसरों तक नहीं पहुंचेंगे। 

5. रूमाल रखें 

बहुत से लोगों के मुंह से बात करते समय थूक निकलता है, ऐसे लोगों को मुंह पर रूमाल रखकर बात करनी चाहिए। क्योंकि संक्रमण थूक से भी फैलता है। 

6. टिशु करेगा मदद

पहले मास्क पहनना उन्हीं लोगों को जरूरी था जिन्हें कोरोना का संक्रमण है, लेकिन अब यह सभी के लिए अनिवार्य है। इसलिए जिन लोगों को बार-बार छींक आती है वे पब्लिक प्लेस पर मास्क तो पहने ही साथी ही साथ में एक्सट्रा टिशु रखें। ताकि छींक आने पर उसका इस्तेमाल किया जा सके।

7. साबुन से हाथ धोएं (wash hands with soap)

अच्छी आदतों में शामिल है कि जब भी आप छींकते हैं उसके तुरंत बाद साबुन से हाथ धोएं, ऐसा करने से संक्रमण आपके हाथों के जरिए मुंह तक नहीं जाएगा। इस तरह आप किसी अन्य बीमारी से बच सकते हैं। 

inside_facemaskcough4

इसे भी पढ़ें : इन आसान तरीकों से पहचानें कि आपके द्वारा इस्‍तेमाल किया जाने वाला फेस मास्‍क सही है या नहीं

क्यों जरूरी है मास्क (why mask is important)?

1. ट्रांसमीशन को रोकता है

विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना की वैक्सीन आ जाने के बाद भी हैंड सेनिटाइजर, सोशल डिस्टेंसिंग, साबुन से हाथ धोना और मास्क पहनने जरूरी है। हम जानते हैं की कोरोना एक संक्रमित व्यक्ति से दूसरे स्वस्थ व्यक्ति में फैलता है। यह कोई व्यक्ति अगर वायरस से इनफैक्टिड है तो उसके छींकने या खांसने से दूसरे व्यक्ति को भी हो जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक मास्क ट्रांसमीशन को रोकता है जिससे लोगों की जिंदगी बच रही है।

2. दूसरों को बचाता है

डॉ रथ के मुताबिक हम मास्क केवल खुद के लिए नहीं पहनते हैं बल्कि दूसरों के लिए पहनते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी सभी को मास्क पहनना मेनडेटरी (mask is madatory for everyone) कर दिया है। संक्रमित और स्वस्थ दोनों व्यक्तियों को मास्क पहनना जरूरी है।  

3. प्रदूषण से बचाता है

मास्क केवल कोरोना से ही नहीं बल्कि प्रदूषण से भी बचाव करता है। बहुत से शोधों में मालूम हुआ है कि कई देशों में मास्क पहनने से मृत्यु दर में कमी आई।

4. किटाणुओं को रोकता है

हम जब छींकते, खांसते, या थूकते हैं तब हमारे मुंह और नाक से किटाणु दूसरों तक पहुंचते हैं। जिससे यह वायरस किसी स्वस्थ व्यक्ति को भी हो सकता है। मास्क पहनने से किटाणु दूर तक नहीं जाते और दूसरों की व अपनी जिंदगी बच जाती है। 

5. टीबी से बचाव 

कोरोना से पहले टीबी के मरीजों को मास्क पहनने की हिदायत दी जाती थी, जिसे आज भी टीबी के मरीजों को अपनाना पड़ता है। मास्क केवल कोरोना से ही नहीं बचा रहा है बल्कि टीबी से भी बचाताा है। इसे पहनने से संक्रमण दूसरों तक नहीं फैलता है।

6. इनफ्लुएंजा से बचाता है

कोरोना के चलते सभी को ज्यादा सावधानियां बरतनी पड़ रही हैं। इसलिए लोगों को हर जगह मास्क पहनना पड़ रहा है। मास्क फ्लू से बचाने का एक कारण हो सकता है। डॉक्टर रथ के मुताबिक जब से लोगों ने मास्क लगाना शुरू किया है तब से हमारे पास इन्फ्लुएंजा के मामले कम आए हैं।

इसे भी पढ़ें : क्या आपको भी जल्दी-जल्दी होने लगी है गले में खराश की समस्या? इसका कारण हो सकती है मास्क पहनने में ये बड़ी गलती

कुछ जरूरी बातें (some important facts)

1. अगर आपको छींक आ रही है तो कहीं दूर जाकर छीकें। ताकि दूसरों को यह संक्रमण न फैले।

2. मास्क के अंदर उबासी लेने से अगर बदबू आ रही है तो ओरल हाइजीन को मेंटन (maintain oral hygiene) करें। 

3. मास्क पहनना आदत में शामिल करें।

4. डॉक्टर के मुताबिक मास्क पहनने से साइड इफैक्ट नहीं होता।

5. भीड़ में कम बात करें। डॉक्टर रथ के मुताबिक अगर पब्लिक प्लेस में हैं और भीड़ ज्यादा है तो साइन लैंग्वेज का इस्तेमाल करें।

6. मास्क को नाक तक उतारकर बात न करें। मुंह और नाक मास्क से ढके हों। 

7. अगर दूर दूर तक कोई नहीं है तो वहां मास्क उतार दें। 

8. एक मास्क को बार-बार न पहनें। डिस्पोजल मास्क एक बार के इस्तेमाल के बाद फेंक दें। घर में कपड़े से बने मास्क को गर्म पानी में धोकर दो से तीन बार ही यूज करें। ज्यादा दिन उस मास्क को इस्तेमाल न करें। डॉक्टर 

डॉ. निखिल के मुताबिक कपड़े के मास्क को बार-बार धोने से कपड़े के रेशे टूट जाते हैं। जिससे उसका प्रभाव कम हो जाता है। इसके बाद मास्क के बाहरी हिस्से को न छुएं। इससे वायरस के कण हमारे मुंह पर आ जाते हैं।  अगर आपको एलर्जी से जुकाम हो रहा है तो अपने डॉक्टर के पास जाएं और  मास्क का इस्तेमाल करने के बाद उसे सड़क पर न फेकें, उसे ठीक से डस्टबीन में फेंक दें।

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer