बारिश के मौसम में वायरल बीमारियों से बचने के लिए पिएं ये आयुर्वेदिक चाय

Herbal Tea Benefits in Monsoon : मॉनसून में ये स्पेशल आयुर्वेदिक चाय पीने से आपकी सेहत को कई लाभ मिल सकते हैं। इससे आपका इम्यून सिस्टम मजबूत रहता है।

Dipti Kumari
Written by: Dipti KumariPublished at: Jul 18, 2022Updated at: Jul 18, 2022
बारिश के मौसम में वायरल बीमारियों से बचने के लिए पिएं ये आयुर्वेदिक चाय

मॉनसून का मौसम जितना आपके मन को सुकून देता है, उतना ही आपकी सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकता है। इस मौसम में  आपको काफी परहेज करने की जरूरत होती है। दरअसल बारिश के मौसम में वातावरण में कई तरह के बैक्टीरिया और वायरस पनपने और फैलने लगते हैं, जिनसे फ्लू, डेंगू, चिकनगुनिया जैसी वायरल बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है। इससे आपकी इम्यूनिटी कमजोर हो सकती है और आप जल्दी-जल्दी बीमार पड़ सकते हैं। इससे बचने के लिए आप मॉनसून में अच्छी डाइट के साथ-साथ कुछ खास तरह  की आयुर्वेदिक चाय का भी सेवन कर सकते हैं। इससे शरीर फिट रहने के साथ-साथ ऊर्जावान भी महसूस करता है। इसके एंटीबैक्टीरियल, एंटीवायरल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण आपके शरीर की सूजन, सर्दी-जुकाम और बुखार को ठीक करने में मदद कर सकते हैं। इसके अलावा अगर आपको बारिश के मौसम में सांस से संबंधित परेशानियां महसूस होती हैं, तो उस स्थिति में भी आप इन चाय का सेवन कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि मॉनसून के मौसम में आप कौन-कौन सी आयुर्वेदिक चाय का सेवन कर सकते हैं। 

मॉनसून में पिएं ये आयुर्वेदिक चाय

1. सूखे अदरक से बनी चाय 

सूखे अदरक से बनी चाय आपकी सेहत को कई तरह से लाभ पहुंचा सकती है। दरअसल इससे सर्दी-जुकाम, बुखार और गले की खराश ठीक करने में मदद मिलती है। साथ ही अदरक में मौजूद पोषक तत्व आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने में मददगार साबित हो सकता है। अगर आपको बहुत अधिक खांसी की दिक्कत हो रही है, तो उस स्थिति में भी आप सूखी अदरक यानी सोंठ से बनी चाय का सेवन कर सकते हैं। 

बनाने का तरीका 

ड्राई जिंजर या सोंठ से आयुर्वेदिक चाय बनाने के लिए आप  सोंठ पाउडर, दालचीनी, गुड़ और अजवाइन का इस्तेमाल कर सकते हैं। सारे इंग्रीडिएंट्स को पानी में मिक्स कर दें और 15 मिनट तक अच्छे से उबलने दें फिर इसे एक कप में निकालकर इसका सेवन करें। इसमें उबाल आने दें। अब इसे छान लें और पी लें।

herbal-tea-in-monsoon

2. तुलसी चाय 

तुलसी चाय कई घरों में सुबह-शाम पी जाने वाली आयुर्वेदिक चाय में से एक है। दरअसल तुलसी पत्ते में विटामिन सी, कैल्शियम, जिंक और आयरन पाए जाते हैं, जो बहुत ज्यादा म्यूकस बनने की समस्या और सर्दी-जुकाम से राहत दिला सकता है। इसके अलावा रोजाना तुलसी चाय का सेवन करने से कई तरह के इंफेक्शन से बचा जा सकता है। ये चाय आपको चेस्ट इंफेक्शन की समस्या से भी बचा सकती है। 

बनाने का तरीका 

तुलसी की पत्तियों से बनी चाय आप कई तरह से बना सकते हैं। इसका एक तरीका ये भी है कि आप तुलसी की पत्तियों को पानी में डालकर 10 मिनट के लिए उबाल लें। फिर इसमें अजवाइन, गुड़ और कच्चा अदरक डालकर इसका सेवन करें। हालांकि आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि बहुत अधिक मात्रा में अजवाइन और अदरक का इस्तेमाल न करें क्योंकि इनकी तासीर गर्म होती है। इनका बहुत अधिक सेवन करने से आपको नुकसान हो सकता है। 

इसे भी पढे़ं- रोज 'अदरक की चाय' पीना है आपके लिए फायदेमंद, 1 हफ्ते पिएं और खुद महसूस करें ये 4 बदलाव

3. मुलेठी चाय 

मुलेठी भी बारिश के मौसम में आपकी सेहत को कई तरह से लाभ पहुंचा सकती है। दरअसल मुलेठी में एंटीऑक्सीडेंट्स, कैल्शियम, एंटीबायोटिक और प्रोटीन जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर को अंदर से मजबूत बनाने के साथ-साथ बीमारियों से भी बचाते हैं। साथ ही मुलेठी गले की खराश और जलन को भी दूर करती है। मॉनसून में मुलेठी से बनी चाय पीने से कफ की समस्या भी दूर हो सकती है। अगर आपको बहुत अधिक खांसी हो रही है, तो आप मुलेठी का एक टुकड़ा अपने मुंह में रख सकते हैं। इन आयुर्वेदिक चाय की मदद से आप मॉनसून में बीमारियों से दूर रह सकते हैं। 

बनाने का तरीका 

मुलेठी की चाय बनाने के लिए आप 2 इंच मुलेठी का टुकड़ा, आधा चम्मच मिश्री और धनिया के बीजों को पानी में डालकर उबाल लें। जब पानी की मात्रा आधी हो जाए, तो इसे एक कप में छानकर पी लें। इससे आपको गले में काफी राहत मिलती है, साथ ही सूजन की दिक्कत भी दूर हो सकती है। आयुर्वेदिक चाय का सेवन आप रोजाना दिन में एक या दो बार कर सकते हैं। इससे सेहत अच्छी बनी रहती है। 

herbal-tea-benefits

हालांकि मॉनसून के मौसम में आयुर्वेदिक चाय पीने से आपकी सेहत को कोई नुकसान नहीं होता है। लेकिन आपको इसमें इस्तेमाल किए जाने वाले तत्वों की मात्रा का ध्यान जरूर रखना चाहिए क्योंकि इसमें मौजूद सभी तत्वों की तासीर गर्म होती है। इसके अधिक सेवन से आपको पेट की समस्याओं से दो-चार होना पड़ सकता है। इसके अलावा स्किन समस्याएं भी हो सकती है। इसलिए सावधानी के साथ आयुर्वेदिक चाय का सेवन करें।

(All Image Credit- Freepik.com)

Disclaimer