घाव, खुजली, जलन जैसी इन 5 समस्याओं को दूर करता है पित्तपापड़ा का पौधा, जानें इसके प्रयोग

पित्तपापड़ा पौधे के इस्‍तेमाल से त्‍वचा में खुजली, जलन, घाव, सर्दी-जुकाम, उल्‍टी, दस्‍त आद‍ि समस्‍याएं दूर होती हैं, जानें इसे इस्‍तेमाल करने का तरीका

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Sep 01, 2021 10:04 IST
घाव, खुजली, जलन जैसी इन 5 समस्याओं को दूर करता है पित्तपापड़ा का पौधा, जानें इसके प्रयोग

पित्तपापड़ा क्‍या होता है? पित्तपापड़ा ज्‍यादातर गेंहूं और चने के बीच उगने वाला पौधा है जिसका इस्‍तेमाल बीमार‍ियों को दूर करने के ल‍िए क‍िया जाता है। इस पौधे से आप चूरण, रस, काढ़ा आद‍ि बनाकर इस्‍तेमाल कर सकते हैं। पित्तपापड़ा देश के कई ह‍िस्‍सों में म‍िलता है जैसे- राजस्‍थान, द‍िल्‍ली, यूपी, पंजाब, ब‍िहार आद‍ि। कई बीमार‍ियों को दूर करने के ल‍िए पित्तपापड़ा का इस्‍तेमाल क‍िया जाता है जैसे जलन, खुजली, घाव, बुखार, मुंह की बदबू, सर्दी-जुकाम, उल्‍टी, आंख और लीवर से जुड़े रोग आदि। इस लेख में हम पित्तपापड़ा के फायदे और उसे इस्‍तेमाल करने के तरीके पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के व‍िकास नगर में स्‍थित प्रांजल आयुर्वेद‍िक क्‍लीन‍िक के डॉ मनीष स‍िंह से बात की।

pittapapda uses

(image source:efloraofindia.com)

1. जलन दूर करे पित्तपपड़ा (Pittapapada helps to cure burning sensation)

शरीर या त्‍वचा में जलन दूर करने के उपाय ढूंढ रहे हैं तो आप पित्तपपड़ा का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। शरीर में क‍िसी जगह जलन हो रही हो तो पित्तपपड़ा की पत्‍त‍ियों का रस जलन वाली जगह लगाएं तो जलन दूर हो जाएगी। इसके अलावा आप पित्तपपड़ा के फूल का रस बनाकर भी पी सकते हैं, उससे भी शरीर या त्‍वचा में हो रही जलन से राहत म‍िलती है। 

इसे भी पढ़ें- कब्ज, एनीमिया, टीबी जैसी बीमारियों में फायदेमंद है नीरा (ताड़ का रस), जानें इसके 5 प्रयोग

2. घाव को ठीक करता है पित्तपपड़ा (Pittapapada helps to cure wound)

अगर आपके शरीर में घाव है तो आप पित्तपपड़ा का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। पित्तपपड़ा के पत्‍त‍ियों के रस का इस्‍तेमाल औषध‍ि के रूप में क‍िया जाता है, पित्तपपड़ा की पत्‍तियों का रस न‍िकालकर इकट्ठा कर लें और उसे घाव पर लगाएं तो घाव जल्‍द ही भरने लगेगा। उल्‍टी होने पर आप पित्तपापड़ा की पत्‍त‍ियों के रस में शहद म‍िलाकर पानी के साथ उबालकर पी सकते हैं, इससे उल्‍टी आना बंद हो जाएगी। 

इसे भी पढ़ें- पथरी, डायबिटीज, त्वचा संबंधी रोगों में फायदेमंद है इंद्र जौ, जानें प्रयोग का तरीका

3. खुजली होने पर इस्‍तेमाल करें पित्तपपड़ा (Pittapapada helps to cure itching)

pittapapda benefits

(image source:wikimedia)

शरीर में खुजली है तो भी आप पित्तपपड़ा का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। इसकी पत्‍त‍ियों का रस लगाने से खुजली की समस्‍या दूर होती है। मौसम बदलने के कारण या इंफेक्‍शन के चलते अक्‍सर हमें सर्दी-जुकाम हो जाता है। इसे ठीक करने के ल‍िए आप पित्तपापड़ा का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। पित्तपापड़ा का काढ़ा बनाकर प‍ीएंगे तो इस समस्‍या से जल्‍दी न‍िकल सकते हैं। पित्तपापड़ा का रस आंखों के ल‍िए भी फायदेमंद माना जाता है। आंखों के बाहरी ह‍िस्‍से में सूजन या खुजली है तो आप इसका इस्‍तेमाल कर सकते हैं पर आंख के अंदर रस को डालने से बचें। 

4. मुंह की बदबू दूर करे पित्तपपड़ा (Pittapapada helps to cure bad smell from mouth)

अगर आपके मुंह से बदबू आती है तो आप पित्तपपड़ा का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। पित्तपपड़ा की पत्‍त‍ियों के रस को उबालकर काढ़ा बना लें अब इससे गरारे करें तो मुंह की बदबू चली जाएगी। पेट में कीड़े होने पर भी पित्तपापड़ा का इस्‍तेमाल फायदेमंद माना जाता है। पित्तपापड़ा का सेवन करने से पेट के कीड़े खत्‍म होते हैं, ज‍िन लोगों को लीवर से जुड़ी समस्‍या है उन्‍हें भी पित्तपापड़ा का सेवन करना चाह‍िए।

5. बुखार दूर करे पित्तपपड़ा (Pittapapada helps to cure fever)

बुखार दूर करने के उपाय ढूंढ रहे हैं तो पित्तपपड़ा का इस्‍तेमाल करें। पित्तपपड़ा का काढ़ा बनाकर प‍ी लें तो बुखार उतर जाता है। काढ़ा बनाने के ल‍िए पित्तपपड़ा की पत्त‍ियों के साथ सोंठ, खस, नागरमोथा औषध‍ि म‍िलाएं और काढ़ा तैयार करें फ‍िर इसे पी लें। बुखार के दौरान शरीर में जलन, ज्‍यादा प्‍यास लगना, पसीना जैसी समस्‍याओं में भी पित्तपपड़ा का सेवन फायदेमंद होगा। 

अगर आप क‍िसी गंभीर रोग या त्‍वचा संबंधी बीमारी का श‍िकार हैं तो डॉक्‍टर की सलाह पर ही पित्तपपड़ा का इस्‍तेमाल करें।

(main image source:syedastock.com)

Read more on Ayurveda in Hindi

Disclaimer