कब्ज, एनीमिया, टीबी जैसी बीमारियों में फायदेमंद है नीरा (ताड़ का रस), जानें इसके 5 प्रयोग

ताड़ या खजूर के पेड़ से न‍िकलने वाले ताजे रस को नीरा कहते हैं, इसका सेवन कई बीमार‍ियों को दूर करने में फायदेमंद माना जाता है

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Aug 31, 2021Updated at: Aug 31, 2021
कब्ज, एनीमिया, टीबी जैसी बीमारियों में फायदेमंद है नीरा (ताड़ का रस), जानें इसके 5 प्रयोग

नीरा क्‍या होता है? नीरा उस ताजे रस को कहते हैं जो नार‍ियल और खजूर के पेड़ से न‍िकलता है, जब तक रस ताजा होता है वो नीरा कहलाता है। इस रस में कई औषधिय गुण होते हैं। नीरा में करीब 84 प्रतिशत पानी होता है। इसमें कैल्‍श‍ियम, पोटैश‍ियम, आयरन, फॉस्‍फोरस की अच्‍छी मात्रा पाई जाती है। नीरा में व‍िटाम‍िन सी और व‍िटाम‍िन बी कॉम्‍प्‍लेक्‍स आद‍ि मौजूद होते हैं। नीरा का स्‍वाद मीठा होता है और द‍िखने में इसका रंग सफेद होता है। इस लेख में हम नीरा का सेवन करने से दूर होने वाली बीमार‍ियों के बारे में चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के व‍िकास नगर में स्‍थित प्रांजल आयुर्वेद‍िक क्‍लीन‍िक के डॉ मनीष स‍िंह से बात की।

neera for diseases

(image source:pbs.twimg.com)

नीरा और ताड़ी में क्‍या अंतर है?

बहुत से लोग ताड़ी और नीरा में अंतर नहीं समझ पाते, ताड़ और नीरा दोनों को ही नार‍ियल के पेड़ से न‍िकाला जाता है, लेक‍िन रस जब तक ताजा रहता है वो नीरा कहलाता है और जैसे-जैसे फर्मेंट होने लगता है उसे ताड़ी कहा जाता है इसल‍िए नीरा का सेवन पेड़ से न‍िकालकर तुरंत करना चाह‍िए। डॉ मनीष ने बताया क‍ि आप ताड़ी और नीरा में अंतर स्‍वाद से भी समझ सकते हैं, अगर रस मीठा है तो वो नीरा और अगर रस में खट्टा स्‍वाद है तो वो ताड़ी है। ताड़ी सेहत के ल‍िए नुकसानदायक माना जाता है जबक‍ि एक शोध में तो ये भी कहा गया है क‍ि नीरा का सेवन करने से 100 से अध‍िक बीमार‍ियां दूर होती हैं। 

इसे भी पढ़ें- नारियल पानी पीने के बाद कभी न फेकें नारियल की मलाई, डायटीशियन से जानें इसके 5 फायदे

1. कमजोरी दूर करे नीरा (Drinking neera could help you to get rid of weakness)

नीरा का सेवन करने से कमजोरी की समस्‍या भी दूर होती है। नीरा का सेवन करने से शरीर में ताजगी रहती है, अगर आप धूप या गर्मी से लौटे हैं तो नीरा का सेवन करें, शरीर में ताजगी लौट आएगी। नीरा आपको महाराष्‍ट्र, गुजरात, तमि‍लनाडु, केरल, आंध्रप्रदेश जैसे राज्‍यों में आसानी से म‍िल जाएगा। 

2. कब्‍ज की समस्‍या दूर करने नीरा (Neera helps to cure constipation)

neera water

(image source:thefederal)

पेट से जुड़ी बीमार‍ियों को दूर करने के ल‍िए नीरा का सेवन फायदेमंद माना जाता है। अगर आपको कब्‍ज की समस्‍या है तो नीरा का सेवन करना चाह‍िए। कई बार लोगों को यूरिन पास करने में जलन की समस्‍या होती है, ऐसा पानी की कमी के कारण भी हो सकता है। जलन कम करने के ल‍िए आप नीरा का सेवन कर सकते हैं। 

3. खून की कमी या एनीम‍िया दूर करे नीरा (Neera helps to cure anemia)

एनीम‍िया जैसी बीमार‍ी में नीरा का सेवन फायदेमंद माना जाता है। नीरा का सेवन करने से शरीर में खून की मात्रा बढ़ती है। अक्‍सर गर्भवती मह‍िलाओं को गर्भावस्‍था के दौरान खून की कमी हो जाती है ज‍िसके कारण ड‍िलीवरी के दौरान समस्‍या का सामना करना पड़ता है इसल‍िए आपको खून की पर्याप्‍त मात्रा शरीर में बनाए रखने के ल‍िए नीरा का सेवन करना चाह‍िए।

4. टीबी की बीमारी दूर करने में फायदेमंद है नीरा (Neera helps to get rid of tuberculosis)

टीबी जैसी गंभीर बीमार‍ी में भी नीरा का सेवन बीमारी को खत्‍म करने के ल‍िए फायदेमंद माना जाता है। आंखों से जुड़ी बीमार‍ियों को दूर करने के ल‍िए नीरा का सेवन फायदेमंद माना जाता है।

इसे भी पढ़ें- मॉर्निंग सिकनेस के लक्षणों को कम करता है नारियल पानी, जानें प्रेग्नेंसी में नारियल पानी पीने के 6 जबरदस्त लाभ

5. वजन बढ़ाना चाहते हैं तो करें नीरा का सेवन (Neera helps to gain weight)

जो लोग अपना वजन बढ़ाने के उपाय ढूंढ रहे हैं उन्‍हें नीरा का सेवन करना चाह‍िए। कमजोरी दूर करने में नीरा का सेवन फायदेमंद माना जाता है। जॉन्‍ड‍िस के लक्षण नजर आने पर भी नीरा का सेवन फायदेमंद माना जाता है। 

वैसे तो नीरा का कोई बुरा प्रभाव नहीं है ज‍िससे शरीर को नुकसान पहुंचें पर नीरा को पेड़ से न‍िकालकर तुरंत पीना चा‍ह‍िए क्‍योंक‍ि ज्‍यादा देर खुला छोड़ने पर उसके गुण खत्‍म होने लगते हैं। 

(main image source:netmeds)

Read more on Ayurveda in Hindi 

Disclaimer