मॉर्निंग सिकनेस के लक्षणों को कम करता है नारियल पानी, जानें प्रेग्नेंसी में नारियल पानी पीने के 6 जबरदस्त लाभ

नारियल पानी कम कैलोरी वाला होता है, जो गर्भवती महिलाओं को वजन कम रखने में भी मदद करता है। आइए जानते हैं इसके अन्य लाभ।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariUpdated at: Feb 28, 2021 09:42 IST
मॉर्निंग सिकनेस के लक्षणों को कम करता है नारियल पानी, जानें प्रेग्नेंसी में नारियल पानी पीने के 6 जबरदस्त लाभ

नारियाल पानी के फायदे के बारे में हम में से ज्यादातर लोग जानते हैं। वहीं गर्मी में इसका सेवन हमेशा से ही डिहाइड्रेशन से बचने का रामबाण इलाज रहा है। पर प्रेग्नेंसी में नारियल पानी पीने के लाभ (coconut water during pregnancy) के बारे में कम ही लोग जानते हैं। नारियल पानी कई महत्वपूर्ण खनिजों का एक अच्छा स्रोत है, जो स्वस्थ गर्भावस्था के लिए आवश्यक हैं जैसे कि फोलेट, विटामिन डी, बी -12, कोलीन, आयरन, ओमेगा -3 फैट और कैल्शियम सहित कुछ सूक्ष्म पोषक तत्व। नारियल पानी इसलिए भी फायदेमंद है क्योंकि कई महिलाएं भोजन या पानी के माध्यम से बढ़ी हुई पोषक मांगों को पूरा करने में सक्षम नहीं हो सकती हैं, ऐसे में नारियल पानी इनकी कमी को पूरा करता है। तो आइए जानते हैं प्रेग्नेंसी में नारियल पानी पीने के लाभ।

insidedrinkingcoconutwater

मॉर्निंग सिकनेस को कम करता है  (managing morning sickness)

गर्भावस्था के दौरान होने वाले भारी खाद्य पदार्थों की सूची में शामिल है। नारियल पानी पीने से गर्भावस्था की शुरुआती अवधि में के मॉर्निंग सिकनेस लक्षणों को कम करने में (coconut water reduces morning sickness) मदद मिलती है। वहीं जिन गर्भवती महिलाओं को अक्सर अपच का अनुभव होता है या पेट की परेशानी रहती है, उन्हें नारियल पानी हार्टबर्न या एसिड रिफ्लक्स से निजात दिला सकता है। दरअसल पेट की परेशानी हार्मोनल परिवर्तन और आपके पेट के खिलाफ बढ़ते बच्चे के दबाव के कारण हो सकता है।

आपको गर्भावस्‍था के बारे में कितनी जानकारी है? तो खेलें ये आसान क्विज:

Loading...

इसे भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में नहीं करने चाहिए ये 7 काम, मां और शिशु दोनों के लिए है हानिकारक

भ्रूण के विकास के लिए पोषक तत्व प्रदान करता है

अगर आप गर्भवती हैं, तो संतुलित आहार खाना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि आप जो खाते हैं वह आपके बच्चे के लिए पोषक तत्वों का मुख्य स्रोत है। गर्भावस्था के दौरान आपके शरीर की पोषण संबंधी जरूरतें भी बढ़ जाती हैं। इसलिए डॉक्टर गर्भवती महिलाओं को प्रसवपूर्व विटामिन लेने की सलाह देते हैं। चूंकि नारियल पानी विटामिन सी और कई महत्वपूर्ण खनिजों का एक अच्छा स्रोत है, इसलिए इसे अपने गर्भावस्था आहार में शामिल करने से आपको अतिरिक्त लाभ मिल सकता है।

insidemorningsickness

उल्टी से खोए हुए इलेक्ट्रोलाइट्स की जगह

कुछ गर्भवती महिलाओं में हाइपरमेसिस ग्रेविडेरम होता है, जो कि मॉर्निंग सिकनेस का एक चरम रूप, जो अत्यधिक उल्टी का कारण बनता है। इससे शरीर के द्रव और इलेक्ट्रोलाइट्स का नुकसान हो सकता है। नारियल पानी में पांच प्रमुख इलेक्ट्रोलाइट्स होते हैं: सोडियम, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम और फास्फोरस। नारियल पानी पीने से न केवल खोए हुए इलेक्ट्रोलाइट्स की भरपाई की जा सकती है, बल्कि मॉर्निंग सिकनेस इस लक्षण को भी कम किया जा सकता है।

इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है

नारियल पानी में मौजूद आवश्यक विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने में मदद करते हैं, जो कि माता और बच्चे को बीमारियों से बचाता है। वहीं ये मोनोलॉरिन नामक बीमारी से लड़ने वाले एसिड के उत्पादन के लिए जिम्मेदार लॉरिक एसिड बनाता है, जो बीच फ्लू और एचआईवी जैसी बीमारी को रोकता है।

insidecoconutwater

इसे भी पढ़ें : गर्भावस्था के दौरान होने वाली खुजली से हैं परेशान? तो इन घरेलू तरीकों का करें इस्तेमाल, जल्द मिलेगी राहत

ब्लड प्रेशर को कम करता है

नारियल पानी में पोटेशियम उन लोगों के लिए एक रक्षक हो सकता है, जिनके पास उच्च रक्तचाप या प्रीक्लेम्पसिया है। पोटेशियम रक्त के प्रवाह को विनियमित करने और रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकता है। एक अध्ययन में भई पाया गया है कि नारियल पानी पीने से गर्भवती महिलाओं में सिस्टोलिक रक्तचाप को कम करने में मदद मिलती है। इस तरह नारियल पानी को प्रीक्लेम्पसिया से बचे रहने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

प्रेग्नेंसी में पोस्ट-वर्कआउट ड्रिंक है नारियल पानी

नारियल पानी व्यायाम की लंबी लड़ाई के बाद शरीर को हाइड्रेट रखने में मदद करता है। वहीं वो महिलाएं जो प्रेग्नेंसी में एक्सरसाइज और योग कर रही हैं, उनके लिए ये ज्यादा फायदेमंद है। ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें पानी या अन्य ड्रिंक की तुलना में ज्यादा सोडियम होता है, जो शरीर में हाइड्रेशन को अच्छे से मैनेज करता है।

Read more articles on Women's Health in Hindi

Disclaimer