आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकती हैं ये 10 आदतें, एक्सपर्ट से जानें आंखें साफ करने का सही तरीका

आंखों के लिए आपकी कुछ आम आदतें नुकसानदेह हो सकती हैं। इसलिए ऐसी आदतों के बारे में जानें और इन्हें बदलने की कोशिश करें। 

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariPublished at: Sep 01, 2021Updated at: Sep 01, 2021
आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकती हैं ये 10 आदतें, एक्सपर्ट से जानें आंखें साफ करने का सही तरीका

हमारी आंखें हमारे शरीर के कुछ सबसे नाजुक अंगों में से एक हैं। पर हमारी कुछ आम आदतें हमारी आंखों को नुकसान पहुंचाती हैं और हमें उनके बारे में पता भी नहीं होता। जैसे कि आंखों को पानी मार कर साफ करना, कैसा भी चश्मा पहन लेना और बिना प्रोडक्ट्स की क्वालिटी देखे आंखों का मेकअप करना। ये सभी चीजें हम करते रहते हैं और आंखों को इनसे होने वाले नुकसानों के बारे में सोचते भी नहीं। ऐसी ही 10 आदतों (Eye damaging habits) के बारे में हमने फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हार्ट इंस्टीट्यूट, ओखला, नई दिल्ली की डॉ. आरती नांगिया (Dr Aarti Nangia) से बात की, जो कि एमएस (नेत्र विज्ञान), साईट एवेन्यू की वरिष्ठ सलाहकार हैं और साथ ही फेमटो लेजर(FEMTO Laser),मोतियाबिंद और रिफ्रेक्टिव व स्क्विंट सर्जरी (Refractive and Squint Surgery) की विशेषज्ञ भी हैं। 

Inside2sunglasses

image credit: AARP

आंखों को नुकसान पहुंचाने वाली आदतें-Habits that can damage your eyes

1. सनग्लासेस न पहनना

डॉक्टर आरती बताती हैं कि सनग्लासेस न पहनना आपकी उन आदतों में से है जो कि आपकी आंखों को नुकसान पहुंचाते हैं। लोगों को लगता है कि सनग्लासेस सिर्फ लोग फैशन के लिए पहनते हैं पर असल में ऐसा नहीं है। ये आंखों के लिए नुकसानदेह  है और यूवी रेज को कम करने में मदद करते हैं। जिसकी वजह से मोतियाबिंद और मैक्यूलर डिजनरेशन (Macular Degeneration) जैसी आंख की बीमारी हो सकती है। इसमें आंखों की रेटिना को नुकसान पहुंच सकता है। 

2. स्मोकिंग करना

स्मोकिंग आपकी आंखों को भी नुकसान पहुंचा सकता है। स्मोकिंग करने से स्मोक आपकी आंखों में जाता रहता है जिससे आपकी आंखें ड्राई होने लगती है। इसलिए ध्यान रखें कि स्मोकिंग करते हुए ग्लासेस पहनें ताकि स्मोक सीधे आपकी आंखों में ना जाए। 

3. नींद पूरी ना कर पाना

आज कल ज्यादातर लोगों की लाइफस्टाइल ऐसी है कि वे अपनी नींद पूरी नहीं कर पाते हैं।  नींद पूरी न कर पाने की वजह से ज्यादातर लोगों की आंखें लाल रहती हैं। इसके अलावा ये ड्राई आई की समस्या को भी पैदा करता है। दरअसल, अच्छी नींद सोने से आंखों को आराम करने का मौका मिलता है जिससे आंखों का स्ट्रेस कम होता है। इससे आंखों के सेल्स खुद को रिस्टोर कर पाते हैं जिससे आंखों के कार्य और बेहतर दृष्टि पान में मदद मिलती है। अगर आप पर्याप्त समय तक नहीं सोते हैं, तो आंखों का जलना और चुभने का कारण बन सकता है। ज्यादा ब्लिंक करने दें।

इसे भी पढ़ें : रात को क्यों आते हैं बुरे सपने? एक्सपर्ट से जानें इसका कारण और ऐसे सपने रोकने के आसान उपाय

4. डाइट सही ना होना

डाइट का सही ना होना आपकी आंखों को भी नुकसान पहुंचाता है। जैसे कि बैलेंस डाइट ना लेना और अनहेल्दी फैट्स का सेवन आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकता है। खास  कर कि अगर आप डायबिटीज और दिल की बीमारियों की मरीज हैं तो, कैमिकल्स से बनी हुई ये दवाइयां आपकी आखों को नुकसाव पहुंचा सकती हैं। ऐसे में कोशिश करें कि फैटी फूड्स, ऑयली फूड्स और प्रोसेस्ड फूड्स लेने से आपको माइग्रेन जैसी बीमारियों का शिकार बना सकता है।  

5. गलत नंबर वाले चश्नों को पहनना 

कभी भी गलत नंबर वाले चश्मों को ना पहनें। हमेशा आंखों के लिए चश्ना लेने से पहले अपनी आई टेस्ट करवा लें और डॉक्टर के सुझाव पर ही अच्छी क्वालिटी का चश्ना बनवा कर पहनें। दरअसल, खराब क्वालिटी और गलत नंबर वाले चश्मे को लंबे समय तक पहनते हैं तो यह आपको सिरदर्द भी दे सकता है। साथ ही समय समय पर अपना आई टेस्ट करवाते रहें क्योंकि ज्यादा नंबर या कम नंबर वाले चश्मे को पहनने से आपको अपनी आंखों में खिंचाव महसूस हो सकता है।

6. कॉन्टेक्ट लेंस का ज्यादा इस्तेमाल 

कुछ लोगों को लगातार कॉन्टेक्ट लेंस लगाए रहने की आदत होती है।  इससे आपको कंजक्टिवा की सूजन हो सकती है जो कि कंजक्टिवाइटिस का कारण बन सकती है। लंबे वक्त तक कान्‍टैक्‍ट लेंस लगाए रखने से आपको आंखों में खुजली, बेचैनी और पिंक आई जैसी समस्याएं हो सकती है। इसलिए लंबे समय जैसी की 8 घंटे से ज्यादा कान्‍टैक्‍ट लेंस पहन कर ना रहें। इसकी जगह अपना चश्मा पहनें।

7. लंबे समय तक स्क्रीन पर काम करना

लंबे समय तक कंप्यूटर और मोबाइल  जैसी स्क्रीन पर काम करने से आपकी आंखों को नुकसान पहुचता है। दरअसल, इनसे निकलने वाले ब्लू रेज आपकी आंखों को सीधे नुकसान पहुंचाते हैं। इसलिए कोशिश करें कि लंबे समय तक स्क्रीन पर ना काम करें। अगर काम करना भी पड़ रहा है तो काम के बीच में अपनी आंखों को आराम दें और इसमें आप आंखों के लिए एक्सरसाइज की मदद भी ले सकते हैं। 

8.  मास्क पहनने का गलत तरीका

 कोविड-19 के कारण इन दिनों मास्क पहनना हमारे जीवन का अभिन्न हिस्सा हो गया है। पर कुछ लोग गलत तरीके से मास्क पहनते हैं। वे किसी भी क्वालिटी का मास्क, बड़ा हो या छोटा आंखों के पास चिपका कर पहन लेते हैं। इस तरह गलत तरीके से मास्क पहनने से आपकी आंखों को नुकसान हो सकता है। आंखों में रेडनेस,जलन, खुजली और ड्राईनेस जैसे कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। 

इसे भी पढ़ें : क्या आप भी सोते समय हंसते या मुस्कुराते हैं? मनोचिकित्सक से जानें इसके पीछे की वजह

9. आंखों के लिए गलत प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल

आंखों को साफ करने का गलत तरीका भी आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकता है। दरअसल, कुछ लोग आंखों में जलन होते ही आयुर्वेदिक ड्रॉप  या फिर अपने मन से खरीदे हुए आई ड्राप का इस्तेमाल करते हैं जो कि आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकता है। इसके अलावा आंखों के लिए किसी भी प्रोडक्ट्स के इस्तेमाल से पहले अपने डॉक्टर से जरूर पूंछें।

10. आंख साफ करने का गलत तरीका

ज्यादातर लोगों को आंख साफ करने का सही तरीका मालूम नहीं होता है। ऐसे लोग आंखों में कुछ चले जाने पर शॉवर में खड़े हो या फिर पानी की तेज छींटे मार कर आंखों की सफाई करते हैं जिससे आंखों को नुकसान होता है। इससे आपकी आंखें डैमेज भी हो सकती हैं। 

Inside1cleaningyourface

image credit: Mother Vision

आंखें साफ करने का सही तरीका-How to clean your eyes properly in hindi 

डॉक्टर आरती कहती हैं कि आंखों को कभी भी पानी की छींटे ना मारे या पानी से आंख धोने की कोशिश ना करें। अगर आपकी आंखों में कुछ चला जाता है तो अपने हाथ में थोड़ा सा पानी लेनें और अपनी आंख में डालें और अपनी आंखों को चारों तरफ घुमाएं। गंदगी बाहर निकल आएगी। इसके अलावा 

  • -सुबह उठने के बाद आंखों को पानी से साफ करें।
  • -आप कॉटन बॉल की मदद से भी आंख साफ कर सकते हैं। 
  • -किसी भी हाल में आंखों को रब ना करें।

इसके अलावा आंखों को स्वस्थ रखने के लिए ध्यान रखें कि आंखों के लिए किसी भी एक्सपाइर प्रोडक्ट का इस्तेमाल ना करें। साथ ही रात को सोने से पहले मेकअप जरूर साफ कर लें ताकि ये आपकी आंखों को नुकसान ना पहुंचाए। 

Main image credit:Xenon Academy

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer