आई स्ट्रेन यानि आंखों की थकान के पीछे छिपे हैं ये 9 कारण, जानें लक्षण भी

आंखों में अगर थकान या भारीपन महसूस हो तो इसका असर हमारे काम पर भी पड़ता है। ऐसे में इसके कारण और बचाव जानने जरूरी हैं।

Garima Garg
Written by: Garima GargPublished at: Jan 17, 2021Updated at: Jan 17, 2021
आई स्ट्रेन यानि आंखों की थकान के पीछे छिपे हैं ये 9 कारण, जानें लक्षण भी

आंखों में थकान या भारीपन हो जाना  वैसे तो एक आम समस्या है लेकिन अगर ये गंभीर रूप ले लेते तो आंखों के सेहत के लिए अच्छा नहीं हैं। ऐसे में इससे बचाव जरूरी है। जब आंखों में ज्यादा थकान आ जाती है तो यह थकान किसी भी कारण हो सकती है। आजकल कि जिस प्रकार लाइफ स्टाइल जी रहे हैं ऐसे में आंखों में थकान आना स्वाभाविक है। ऐसे में कंप्यूटर के सामने लगातार बैठने या ड्राइविंग करते समय ज्यादा फोकस के कारण आंखों में यह समस्या हो सकती है। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि आंखों की थकान के लक्षण क्या हैं?  और इसके कारण और बचाव क्या है। पढ़ते हैं आगे..

आंखों की थकान के लक्षण (Eye Strain Symptoms)

आंखों में भारीपन और थकान के निम्न लक्षण देखने को मिलते हैं-

1- सिर दर्द महसूस करना,

2- गर्दन में तनाव महसूस,

3- पीठ में दर्द हो जाना,

4- आंखों में खुजली महसूस करना,

5- आंखों में जलन होना,

6- कभी घीली तो कभी सूखी आंखें महसूस करना,

7- आंखों में दर्द महसूस करना,

8- आंखें खोलने में दिक्कत महसूस करना,

9- कंधे में दर्द हो जाना

इसे भी पढ़ें- गुम चोट क्या है और कैसे पहचानें इसे? एक्सपर्ट से जानें गुम चोट के लक्षण, कारण और बचाव के तरीके

आंखों की थकान के कारण (Eye Strain Causes)

आंखों में थकान या भारीपन आने के पीछे निम्न कारण छिपे होते हैं-

1- तनाव थकान के कारण आंखों में थकान की समस्या हो जाती है।

2- जो लोग कम रोशनी में किसी भी चीजों देखने की कोशिश करते हैं उन्हें थकान हो जाती है।

3- लॉन्ग ड्राइव पर जाने का लगातार फोकस करने के कारण भी आंखों में थकान होती है।

4- आंखों को आराम ना मिलने के कारण थकान होती है।

5- लगातार पढ़ने से आंखों में थकान होती है।

6- हीटर, एसी, पंखे आदि की हवा के संपर्क में आने से आंखों में भारीपन आ जाता है।

7- आंखों में किसी प्रकार की त्रुटि, खुश्क, आंखें या अन्य किसी समस्या के कारण भी आंखों में थकान हो सकती है।

8- इसके अलावा कंप्यूटर के कारण भी आंख में समस्या हो सकती है। ऐसे में जो लोग ज्यादा समय स्क्रीन को देखते हैं या कांटेक्ट लेंस का उपयोग करते हैं उन लोगों को कंप्यूटर आई स्ट्रेन होने का खतरा बढ़ जाता है।

9- जो लोग गलत मुद्रा में बैठते हैं उन लोगों को भी आंखों में भारीपन महसूस होता है।

इसे भी पढ़ें- खटमल के काटने पर शरीर को हो सकती हैं ये समस्याएं, एक्सपर्ट से जानें बचाव

आंखों के थकान और भारीपन से बचाव (Eye Strain Treatment)

अगर आंखों में थकान भारीपन महसूस हो तो बचाव की जरूरत है-

1- लगातार पढ़ते वक्त या कप्यूटर के सामने लगातार बैठने की आदत से बचें। बीच-बीच में थोड़े-थोड़े समय ब्रेक लेते रहें। ऐसा करने से मांसपेशियों का तनाव कम होगा और आंखों को भी आराम मिलेगा।

2- स्क्रीन पर काम करने के समय को सीमित करें खासकर बच्चे ज्यादा समय स्क्रीन पढ़ना बताएं। ऐसा करने से आप न केवल अपनी आंखों को बल्कि पूरे शरीर को आराम पहुंचा पाएंगे। 

3- समय-समय पर अपनी आंखों को पानी से धोते रहें। ऐसा करने से खुश्क आंखों को राहत मिलती है। साथ ही आंखें साफ होती हैं।

4- अगर आप टीवी या लैपटॉप चला रहे हैं तो अपने आस-पास रोशनी सही रखें। कम रोशनी में विद्युत उपकरणों का इस्तेमाल आंखों के लिए हानिकारक है।

नोट-

बता दें कि आई स्ट्रेन गंभीर रूप नहीं लेता है। लेकिन अगर यह बढ़ जाए तो आंखों की रोशनी के लिए नुकसानदेह हो सकता है ऐसे में ध्यान केंद्रित करने की क्षमता भी कम हो जाती है। गंभीर स्थिति पैदा हो जाने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

Read More Articles on Other Diseases in hindi

Disclaimer