पानी पीने के तुरंत बाद आ जाता है पेशाब? जानें किन कारणों से होता है ऐसा

Frequent Urination in Hindi: डायबिटीज, प्रेगनेंसी में पानी पीने के तुरंत बाद पेशाब आ सकता है। जानें इसके दूसरे कारण भी-

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: May 30, 2022Updated at: Jun 09, 2022
पानी पीने के तुरंत बाद आ जाता है पेशाब? जानें किन कारणों से होता है ऐसा

Frequent Urination After Drinking Water: पेशाब शरीर से अपशिष्ट पदार्थों को निकालता है। जिस तरह से पेशाब कम आना एक समस्या होती है,  उसी तरह बार-बार पेशाब आना भी कई समस्याओं का संकेत हो सकता है। ज्यादातर लोगों को दिन में 6-7 बार पेशाब आता है, यह सामान्य है। लेकिन अगर 7 से अधिक बार पेशाब आता है तो यह असामान्य हो सकता है। इतना ही नहीं कई लोगों को तो पानी पीने के तुरंत बाद ही पेशाब आ जाता है। बार-बार पेशाब आना व्यक्ति की दिनचर्या को बाधित कर सकता है। अगर आपको भी पानी पीने के बार पेशाब जाना पड़ता है, तो जानिए ऐसा क्यों होता है। 

चलिए कामिनेनी अस्पताल, एलबी नगर, हैदराबाद के वरिष्ठ सामान्य चिकित्सक डॉक्टर जे सत्यनारायण राव से विस्तार से जानते हैं पानी पीने के बाद पेशाब लगने के कौन-कौन से कारण (Pani Peene ke Bad Turant Peshab Aana) हो सकते हैं।

frequent urination in pregnancy

1. प्रेगनेंसी (Frequent Urination in pregnancy)

बार-बार पेशाब लगने का पहला कारण प्रेगनेंसी हो सकती है। प्रेगनेंट महिलाओं को पेशाब अधिक आ सकता है। दरअसल, गर्भावस्था में जैसे-जैसे पेट में बच्चा बढ़ता है, मूत्राशय पर जोर पड़ता है। ऐसे में पेशाब जल्दी जाने की इच्छा होती है। गर्भावस्था के दौरान पानी पीने के तुरंत बाद पेशाब निकलने का अहसास हो सकता है। यह सामान्य है, लेकिन अगर पेशाब में जलन, दर्द हो या फिर पेशाब में खून निकले तो तुरंत डॉक्टर से मिलें।

2. किडनी की पथरी (frequent urination kidney stone in bladder)

किडनी की पथरी में भी लोगों को बार-बार पेशाब आ सकता है। मिनरल्स और नमक किडनी में छोटे रॉक्स बना सकते हैं। ऐसे में आपको बार-बार पेशाब आने का अहसास हो सकता है। लेकिन कई बार पेशाब आता नहीं है, सिर्फ महसूस होता है। अगर आप पानी पीने के तुरंत बाद पेशाब जा रहे हैं, तो यह किडनी की पथरी का संकेत हो सकता है। इस दौरान आपको बुखार, ठंड लगना, पीठ में दर्द जैसी समस्या भी हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें - पेशाब में जलन क्यों होती है? एक्सपर्ट से जानें समस्या को ठीक करने के लिए 6 आयुर्वेदिक उपाय

3. यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (frequent urination in urine infection)

अगर आपको बार-बार पेशाब आता है, तो यह यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन का एक लक्षण हो सकता है।  क्योंकि इस दौरान बैक्टीरिया किडनी, मूत्राशय और उन नलियों को संक्रमित कर देते हैं, जो एक-दूसरे को आपस में जोड़ती हैं। यह समस्या महिलाओं में देखने को मिलती है। यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन में मूत्राशय सूज सकता है, ऐसे में महिला पेशाब रोक नहीं पाती है। झागदार पेशाब, बदबूदार पेशाब, जी मिचलाना, पेट के निचले हिस्से में दर्द होना भी यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन के लक्षण हो सकते हैं। 

frequent urination in diabetes

4. डायबिटीज (frequent urination diabetes in hindi)

बार-बार पेशाब आना डायबिटीज का एक मुख्य लक्षण होता है। दरअसल, टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज दोनों शरीर में ब्लड शुगर लेवल को बढ़ाते हैं। किडनी से फिल्टर करने की कोशिश करते हैं, लेकिन हमेशा नहीं हो पाता है। ऐसे में पेशाब में शुगर खत्म हो जाती है। शरीर अधिक पानी खींचता है और बार-बार पेशाब आता है। अगर आपको पानी पीने के तुरंत बाद पेशाब आ रहा है, तो यह डायबिटीज का संकेत हो सकता है। इसलिए इस स्थिति को बिल्कुल नजरअंदाज न करें। अचानक से सामान्य से अधिक पेशाब आने पर डॉक्टर से बात करें।

5. शराब या कैफीन

अगर आप बहुत अधिक शराब या कैफीन लेते हैं, तो इस स्थिति में आपको पानी पीने के तुरंत बाद पेशाब आ सकता है। शराब या कैफीन मूत्रवर्धक के रूप में कार्य कर सकते हैं, इससे पेशाब अधिक बार आ सकता है। दरअसल, शराब और कैफीन शरीर के वैसोप्रेसिन के उत्पादन को भी रोकते हैं। बार-बार पेशाब आता है, तो आपको शराब या कैफीन का सेवन कम मात्रा में ही करना चाहिए। शराब या कैफीन के बाद भी पेशाब आ सकता है। शराब सेहत के लिए हानिकारक होता है, कैफीन भी सीमित मात्रा में ही लेना चाहिए।

इसे भी पढ़ें - पेशाब के बाद कैसे करें वजाइना की सफाई और ये क्यों जरूरी है? डॉक्टर से जानें टॉयलेट हाइजीन की जरूरी बातें

6. कमजोर पेल्विस

पेल्विस, निचले पेट का एरिया होता है। जब पेल्विस कमजोर पड़ता है, तो ऐसे में बार-बार पेशाब आने की शिकायत हो सकती है। दरअसल, गर्भावस्था और प्रसव के दौरान पेल्विस की मांसपेशियां खिंच जाती हैं और कमजोर हो जाती हैं। ऐसे में पेशाब को रोक पाना मुश्किल हो जाता है। इस स्थिति में कई बार पेशाब लीक भी हो सकता है।

7. मेनोपॉज

मेनोपॉज वह समय होता है, जब महिलाओं में पीरियड्स आना बंद हो जाता है। यह एक महिला को 50 साल की उम्र में हो सकता है। इस स्थिति में शरीर एस्ट्रोजन हार्मोन का उत्पादन कम करता है और बार-बार पेशाब करने की इच्छा हो सकती है। ऐसे में आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

अगर आप कम पानी पीते हैं, फिर भी बार-बार पेशाब जाते हैं तो यह स्थिति गंभीर हो सकती है। लेकिन अगर आप 3-4 लीटर तक पानी पीते हैं और पेशाब अधिक बार जाते हैं, तो यह सामान्य हो सकता है। लेकिन अगर आप दिन में 7 बार से अधिक पेशाब करने जा रहे हैं, तो डॉक्टर से कंसल्ट जरूर करें।

Disclaimer