हार्ट ब्लॉक और हार्ट फेलियर में क्या अंतर है? जानें इनके लक्षण और कारण

दिल हमारे शरीर का एक अहम अंग है। लेकिन कई बार हृदय को कई बीमारियों का सामना करना पड़ता है। जानें हार्ट ब्लॉकेज और हार्ट फेलियर में अंतर

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Jun 14, 2022Updated at: Jun 14, 2022
हार्ट ब्लॉक और हार्ट फेलियर में क्या अंतर है? जानें इनके लक्षण और कारण

Heart Blockage and Heart Failure in Hindi: हृदय यानी हार्ट हमारे शरीर का एक बहुत महत्वपूर्ण अंग है। आजकल लोगों में हृदय रोगों का खतरा बढ़ता जा रहा है। देशभर में करोड़ों लोग हार्ट से जुड़ी बीमारियों का सामना कर रहे हैं। इसमें कई लोग हृदय रोग के शुरुआती चरण में हैं, तो कुछ लोग गंभीर बीमारियों से परेशान हैं। हार्ट फेलियर, हार्ट अटैक, हार्ट ब्लॉकेज ऐसी बीमारियां हैं, जो अधिकतर लोगों में देखने को मिल सकती है। लेकिन इनके शुरुआती लक्षण थोड़े बहुत एक समान हो सकते हैं। ऐसे में कई लोग हार्ट ब्लॉकेज और हार्ट फेलियर के बीच अंतर नहीं समझ पाते हैं।

तो चलिए जानते हैं हार्ट ब्लॉकेज और हार्ट फेलियर में क्या-क्या अंतर है- 

हार्ट फेलियर क्या है? (What is Heart Failure in Hindi)

हार्ट फेलियर को कंजेस्टिव हार्ट फेलियर के रूप में भी जाना जाता है। यह समस्या तब होती है, जब हृदय की मांसपेशियां उस तरह से रक्त को पंप नहीं करती हैं, जिस तरह से करना चाहिए। अकसर ऐसा तब होता है, जब रक्त बैकअप लेता है और फेफड़ों में तरल पदार्थ का निर्माण होने लगता है। इसकी वजह से सांस लेने में तकलीफ हो सकती है। हृदय में संकुचित धमनियां, हाई ब्लड प्रेशर हार्ट फेलियर का कारण बन सकते हैं। इससे बचने के लिए हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज और मोटापे को कंट्रोल में रखना बहुत जरूरी है।

heart failure

हार्ट फेलियर के लक्षण (Heart Failure Symptoms in Hindi)

अगर आपको हार्ट फेलियर की समस्या है, तो कई लक्षण नजर आ सकते हैं। इसमें शामिल हैं-

  • सांस लेने में दिक्कत
  • घरघराहट
  • तेज खांसी होना
  • अनियमित दिल की धड़कन 
  • थकान 
  • टखनों, पैरों या पेट के आसपास सूजन 

हार्ट फेलियर के कारण (Heart Failure Causes in Hindi)

अगर आपका हृदय एक संकीर्ण, अवरुद्ध जगह से रक्त को धकेल रहा है, तो इससे हृदय कमजोर हो जाता है। ऐसे में इसे रक्त की आपूर्ति नहीं मिल पाती है। यह हार्ट फेलियर की शुरुआत हो सकती है। इसके अलावा हार्ट फेलियर के कई अन्य कारण भी हो सकते हैं। इसमें शामिल हैं-

  • हृदय वाल्व रोग 
  • जन्मजात हृदय दोष 
  • संक्रमण 
  • दिल की अनियमित धड़कन 
  • हृदय की मांसपेशियों के साथ समस्याएं 
  • एचआईवी/एड्स 
  • कीमोथेरपी 
  • थायराइड की बीमारी 
  • शराब का अधिक सेवन
  • नशीली दवाइयों का सेवन
  • फेफड़ों की बीमारी 
heart bloackage

हार्ट ब्लॉकेज क्या है? (What is Heart Blockage)

हर बार जब आपका दिल धड़कता है, तो एक विद्युत संकेत ऊपरी से निचले कक्षों तक जाता है। इस दौरान हृदय को अनुबंधित करने और रक्त पंप करने के लिए कहा जाता है। जब सिग्नल धीमा हो जाता है, संदेश भेजन में रुकावट आती है तो यह स्थिति हार्ट ब्लॉकेज की होती है। यह हृदय गति को प्रभावित करता है। 

हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण (Heart Blockage Symptoms)

लक्षण इस बात पर निर्भर करते हैं कि आपको किस प्रकार का हार्ट ब्लॉक है। हार्ट ब्लॉकेज के लक्षण हर व्यक्ति में अलग-अलग हो सकते हैं। ये लक्षण पुरुषों और महिलाओं में भिन्न हो सकते हैं। हार्ट ब्लॉकेज के अधिक सामान्य लक्षणों में शामिल हैं-

  • छाती के बीच में दर्द या दबाव महसूस होना
  • सीने में दर्द 
  • ऊपरी शरीर में दर्द होना
  • बेचैनी 
  • सांस लेने में कठिनाई 
  • मतली या उल्टी
  • चक्कर आना
  • थकान और कमजोरी महसूस होना
  • पसीना निकलना

हार्ट ब्लॉकेज के कारण (Heart Blockage Causes)

कुछ लोग हार्ट ब्लॉक के साथ पैदा होते हैं। वहीं कुछ लोगों में यह बाद में विकसित हो सकता है। अगर आप इसके साथ पैदा हुए हैं, तो इसे जन्मजात हृदय ब्लॉक कहा जाता है। 

हो सकता है कि गर्भ में आपका दिल ठीक से विकसित नहीं हुआ हो। अगर आपका हार्ट ब्लॉक है, जिसके साथ आप पैदा नहीं हुए हैं, तो इसे एक्वायर्ड हार्ट ब्लॉक कहा जाता है।  कारणों में शामिल हैं- एक ऑटोइम्यून बीमारी। जैसे ल्यूपस 

  • एक जन्म दोष
  • कुछ प्रकार की सर्जरी, जो हृदय की विद्युत प्रणाली को प्रभावित करती हैं
  • जीन में बदलवा
  • हृदय समस्याएं जैसे दिल का दौरा पड़ना,  बंद धमनियां और हृदय की मांसपेशियों में सूजन
  • दिल की विफलता 
  • कुछ प्रकार की दवाइयां

अगर आपको भी सांस लेने में दिक्कत होती है या फिर सीने में दर्द होता है, तो ये हार्ट ब्लॉकेज या हार्ट फेलियर के लक्षण हो सकते हैं। ऐसे में आप डॉक्टर से कंसल्ट कर सकते हैं।

Disclaimer