Doctor Verified

डेंगू के लक्षण क्‍या हैं? जानें इस जानलेवा बीमारी का कारण और इलाज

डेंगू एक जानलेवा बीमारी है ज‍िससे बचने के ल‍िए आपको उसके लक्षण, कारण और इलाज के बारे में इस लेख के जर‍िए जानकारी ले लेनी चाह‍िए 

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Feb 08, 2022Updated at: Jul 11, 2022
डेंगू के लक्षण क्‍या हैं? जानें इस जानलेवा बीमारी का कारण और इलाज

डेंगू एक गंभीर बीमारी है जो एडीज मच्‍छर के काटने से या संक्रम‍ित व्‍यक्‍त‍ि के संपर्क में आने से फैलती है। डेंगू के लक्षण, संक्रमण होने के 3 से 14 के बाद ही नजर आते हैं। अगर इस दौरान आप लक्षणों को समझकर इलाज करवा लें तो गंभीर स्‍थ‍ित‍ि से बचा जा सकता है। डेंगू होने पर अगर आप इलाज न करवाएं तो ये गंभीर रूप लेकर रक्तस्रावी बुखार में बदल सकता है या ब्‍लीड‍िंग, बीपी में ग‍िरावट यहां तक की मौत का खतरा भी हो सकता है। डेंगू हो जाने पर आपको खुद से इलाज करने के बजाय डॉक्‍टर से संपर्क करना चाह‍िए। इस लेख में हम डेंगू के लक्षण, डेंगू के कारण, बचाव और इलाज आद‍ि पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर बेहतर जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के केयर इंस्‍टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज की एमडी फ‍िजिश‍ियन डॉ सीमा यादव से बात की।

symptoms of dengue

image source: google

डेंगू के लक्षण क्‍या हैं? (Dengue symptoms in hindi)

डेंगू एक तरह का संक्रमण है जो डेंगू वायरस के कारण होता है, अगर समय पर इसका इलाज न क‍िया जाए तो व्‍यक्‍त‍ि की मौत भी हो सकती है। डेंगू होने पर ये लक्षण (dengue ke lakshan) नजर आ सकते हैं- 

  • स‍िर में तेज दर्द 
  • बुखार आना 
  • आंखों में दर्द 
  • रैशेज की समस्‍या  
  • जोड़ों में तेज दर्द 
  • हड्डी या मसल्‍स पेन 
  • जी म‍िचलाना या उल्‍टी 

इसे भी पढ़ें- डेंगू होने पर महसूस हो सकती हैं ये 6 समस्याएं, डॉक्टर से जानें इसके लक्षण और बचाव के उपाय

डेंगू के कारण (Causes of dengue)

  • एडीज मच्‍छर के काटने से डेंगू होता है।
  • डेंगू से संक्रम‍ित व्‍यक्‍त‍ि के संपर्क में आने से डेंगू हो सकता है।
  • जल भराव वाले क्षेत्र में रहते हैं तो आपको डेंगू हो सकता है। 

डेंगू का पता लगाने के ल‍िए जरूरी टेस्‍ट (Tests for dengue)

डेंगू का पता कैसे लगाया जाता है? डेंगू का पता लगाने के ल‍िए कंप्‍लीट ब्‍लड काउंट टेस्‍ट, एल‍िसा टेस्‍ट, पीसीआर टेस्‍ट, सीरम आईजीजी, आईजीएम टेस्‍ट क‍िया जाता है। डॉ सीमा ने बताया क‍ि डेंगू की शुरूआत में एंटीजन टेस्‍ट एनएन 1 क‍िया जाता है अगर आप बुखार आने के 4 से 5 द‍िन बाद टेस्‍ट करवा रहे हैं तो डॉक्‍टर आपको डेंगू स‍िरॉलजी टेस्‍ट करने की सलाह देंगे इसके अलावा डॉक्‍टर ब्‍लड टेस्‍ट भी करवाते हैं ज‍िससे टोटल सैल्‍स काउंट और वाइट ब्‍लड सैल्‍स काउंट का पता चलता है। ज्‍यादातर टेस्‍ट की र‍िपोर्ट 24 घंटे में आ जाती है और कीमत करीब 500 से 1500 के बीच हो सकती है, वहीं सरकारी अस्पताल में कई जांचें मुफ्त होती हैं।

डेंगू का इलाज (Treatment of dengue)

dengue fever

image source: apollohealthlib

डेंगू के ल‍िए फ‍िलहाल कोई खास दवा उपलब्‍ध नहीं है। बचाव ही एकमात्र बेहतर उपाय है (dengue treatment)। हालांक‍ि डॉक्‍टर डेंगू बुखार (Dengue ke lakshan) को कम करने के ल‍िए पैरास‍िटामॉल दवा खाने की सलाह देते हैं लेकि‍न इसका ये मतलब नहीं है क‍ि आप ब‍िना डॉक्‍टर की सलाह ल‍िए दवा का सेवन कर सकते हैं। गंभीर लक्षण (Dengue ke lakshan) नजर आने पर मरीज को अस्‍पताल में भर्ती करने की जरूरत पड़ सकती है और इस केस में उसे नसों के जर‍िए इलेक्‍ट्रोलाइट दिया जाता है। 

डेंगू की पुष्टि होने पर क्‍या करें? 

  • डॉक्‍टर की सलाह पर दवाओं का सेवन समय पर करें। 
  • सबसे पहले बुखार उतारने की कोश‍िश करनी है। 
  • शरीर में फ्लूड की कमी न होने दें।
  • दवा लेने के कुछ घंटे बाद भी बुखार न उतरे तो डॉक्‍टर से संपर्क करें।

डेंगू से बचाव के उपाय (How to prevent dengue)

  • डेंगू से बचने के ल‍िए (dengue prevention) घर में क‍िसी गड्डे, बर्तन या पॉट में पानी न भरने दें। इन्‍हीं में डेंगू मच्‍छर अंडे देते हैं।
  • सोते समय आपको मच्‍छर दानी का इस्‍तेमाल करना चाह‍िए, समय-समय पर घर की सफाई करवाते रहें।
  • अगर आपके घर में किसी ऐसी जगह पानी इकट्ठा होता है ज‍िसे आप हटा नहीं सकते तो आपको उसे तुरंत ढक देना चाह‍िए।
  • आपको अपने ख‍िड़की और दरवाजे शाम होने से पहले बंद कर देने चाह‍िए वहीं छोटे बच्‍चों को खासकर शाम के समय फुल स्‍लीव कपड़े पहनाएं।

इसे भी पढ़ें- बुखार कितने प्रकार के होते हैं? डॉक्टर से जानें बुखार के लक्षण और बचाव के उपाय

डेंगू से बचने के ल‍िए डाइट में करें बदलाव (Dengue diet in hindi)

  • आपको पर्याप्‍त मात्रा में पानी का सेवन करना है, पानी के साथ आप नींबू पानी, छाछ, नार‍ियल पानी भी पी सकते हैं।
  • डेंगू से बचाव के ल‍िए खाने में तुलसी, हल्‍दी, दालचीनी, अदरक, लौंग, काली म‍िर्च जैसे इम्‍यून‍िटी बढ़ाने वाले इंग्रीड‍िएंट्स का यूज करें।
  • बासी खाना न खाएं, ताजा खाना खाएं और फाइबर र‍िच फूड्स को अपनी डाइट में शाम‍िल करें।
  • मीट, मछली, सी फूड, तला-भुना खाना, स्‍ट्रीट फूड आद‍ि का सेवन कम से कम करें।

डेंगू एक संचारी रोग है जो एक व्‍यक्‍त‍ि से दूसरे में फैल सकता है इसल‍िए डेंगू से बचाव ही इसका सबसे बेहतर इलाज है। अपने आसपास सफाई का ध्‍यान रखें।

main image source:google

Disclaimer