शरीर में इन 3 चीजों की कमी होती है माइग्रेन के दर्द का कारण, जानें दर्द को दूर करने के 4 आसान तरीके

माइग्रेन का दर्द सामान्य सिरदर्द से अलग होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ये शरीर में किन चीजों की कमी के कारण ऐसा होता है।

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Jan 24, 2020Updated at: Jan 24, 2020
शरीर में इन 3 चीजों की कमी होती है माइग्रेन के दर्द का कारण, जानें दर्द को दूर करने के 4 आसान तरीके

माइग्रेन सामान्य रूप से सिर में होने वाला दर्द नहीं है। माइग्रेन का दर्द वहीं व्यक्ति जान सकता है, जो इस दर्द भरी स्थिति से गुजर रहा हो या इस दर्द को आयदिन सहन करता हो। मतली, उल्टी, प्रकाश और शोर के प्रति संवेदनशीलता के साथ सिर का दर्द आपके पूरे दिन को बर्बाद करने के लिए पर्याप्त है। ऐसी स्थिति में आप सिर्फ एक कोने में बैठकर इस दर्द के कम होने का इंतजार करते हैं लेकिन दर्द से आपकी परेशानी बढ़ती चली जाती है और आपका मन सिर को दीवार में मारने का करने लगता है।

migrain

ऐसी बहुत सी चीजें हैं, जैसे तनाव, चिंता, सदमा, टेंशन, नींद न आना और अन्य कारक जो माइग्रेन के दर्द को बढ़ाने के लिए काफी हैं। हम में से ज्यादातर लोग इस स्थिति से राहत पाने के लिए मेडिकल शॉप से जाकर दवा लेने या फिर कुछ घरेलू नुस्खों को अपनाते हैं, जो कभी कारगर होते हैं तो कभी नहीं। लेकिन एक नए अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ है कि लगातार माइग्रेन का दर्द शरीर में किसी जरूरी पोषक तत्व की कमी के कारण हो सकता है।

हाल ही में हुए एक अध्ययन में सामने आया है कि रिबोफ्लेविन और कोएनजाइम क्यू 10 सहित विटामिन डी की कमी लगातार माइग्रेन के दर्द का कारण हो सकती है।

सिनसिनैटी चिल्ड्रन हॉस्पिटल मेडिकल सेंटर की हेडएक मेडिसिन फेलो सुजैन हैग्लर द्वारा किए गए अध्ययन में ये खुलासा हुआ है कि माइग्रेन का दर्द विटामिन डी के साथ रिबोफ्लेविन और कोएनजाइम क्यू 10 की कमी से जुड़ा हुआ है। अध्ययन के लिए हैग्लर ने माइग्रेन की समस्या से जूझ रहे कुछ किशोरों, बच्चों और व्यस्कों से प्राप्त डेटा का अध्ययन किया। उन्होंने विटामिन डी, रिबोफ्लेविन, कोएनजाइम क्यू 10 और फोलेट के बेसलाइन ब्लड लेवल की जांच की, जो कई बार माइग्रेन की समस्या से जुड़े हुए हैं।

इसे भी पढ़ेंः क्या सोते समय मुंह से लार निकलना है बीमारी? एक्सरपर्ट से जानें इस समस्या से छुटकारा पाने के उपाय

अध्ययन में खुलासा हुआ कि पुरुषों की तुलना में अधिक महिलाएं कोएनजाइम क्यू 10 की कमी से जूझ रही हैं, जबकि ज्यादातर पुरुषों में विटामिन डी की कमी को आम बताया गया है। 

अध्ययन से ये निष्कर्ष निकलकर आया है कि वे लोग, जो काफी अरसे से माइग्रेन की समस्या से जूझ रहे हैं उनमें रिबोफ्लेविन और कोएनजाइम क्यू 10 की कमी होने की संभावना अधिक है विशेषकर उन लोगों के मुकाबले, जिन्हें सिरदर्द रहता है।

migrain

माइग्रेन से तुरंत राहत पाने के लिए अपनाएं ये टिप्स

मेडिकल शॉप से खरीदी गई दवाएं माइग्रेन के उपचार में निश्चित रूप से प्रभावी होती है लेकिन ऐसे कुछ प्राकृतिक नुस्खे हैं, जिन्हें आप घर पर भी ट्राई कर सकते हैं।

एसेंशियल ऑयल

तनाव, चिंता और सिरदर्द की समस्या से निजात दिलाने में लैवेंडर ऑयल एक प्रभावी नुस्खा है।

इसे भी पढ़ेंः सिर के एक हिस्से में तेज दर्द की हैं ये खास वजह, एक्सपर्ट से जानें बचाव के आसान टिप्स

अदरक

अदरक की चाय या फिर अदरक से बने सप्लीमेंट सिर में दर्द की समस्या से छुटकारा दिलाने में मदद करते हैं। साथ ही ये सुरक्षित हैं और इनके कोई साइड इफेक्ट भी नहीं हैं।

योग

अपने तनाव के स्तर को प्रंबधित करने के लिए ध्यान और स्ट्रेचिंग करने की कोशिश करें। इस बात का ध्यान रखें कि तनाव का स्तर माइग्रेन के दर्द की समस्या को बढ़ाने में मदद करता है।

मसाज

अपनी गर्दन और कंधे पर मसाज करें। ऐसा करने से टेंशन कम करने में मदद मिलेगी और आपको माइग्रेन के दर्द से राहत भी मिलेगी।

Read More articles On Other Diseases In Hindi 

Disclaimer