ब्रेस्टफीडिंग के दौरान निप्पल में दरार (क्रैक्ड निप्पल) का कारण और इसे ठीक करने के घरेलू उपाय

स्तनपान कराने के दौरान कई महिलाओं काे क्रैक्ड निप्पल से परेशान हाेना पड़ता है। इस स्थिति में उन्हें खुजली, दर्द महसूस हाेता है। जानें इसके कारण, उपाय

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Aug 06, 2021Updated at: Aug 06, 2021
ब्रेस्टफीडिंग के दौरान निप्पल में दरार (क्रैक्ड निप्पल) का कारण और इसे ठीक करने के घरेलू उपाय

क्या स्तनपान के दौरान आपके निप्पलाें में दरार (क्रैक्ड निप्पल) आ गई है? किसी भी महिला के लिए मां बनना एक सबसे बेहतरीन सुख हाेता है। इस अवस्था में वह अपने बच्चे में ही मग्न रहती है। मां बनने पर महिलाओं काे अपने बच्चे के विकास के लिए उन्हें स्तनपान करवाना बेहद जरूरी हाेता है। लेकिन कई बार स्तनपान के दौरान महिलाओं काे दर्द का सामना भी करना पड़ता है। यह दर्द मुख्य वजह से निप्पलाें में दरार पड़ने की वजह से हाेता है। वॉकहार्ट अस्पताल, मुंबई सेंट्रल की स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर इंद्रायणी सालुंखे (Dr Indrayani Salunkhe, Gynaecologist, Wockhardt Hospital, Mumbai Central) बताती हैं कि ब्रेस्टफीडिंग या स्तनपान के दौरान निप्पल में दरार पड़ना या निप्पल फटना सामान्य नहीं हाेता है। इसलिए आपकाे इसके लक्षणाें, कारणाें के बारे में जानना बेहद जरूरी हाेता है। जानें इसे ठीक करने के घरेलू उपाय भी-

Cracked Nipples

क्रैक्ड निप्पल के लक्षण (Symptoms of Cracked Nipples)

निप्पलाें में दरार पड़ने या निप्पल क्रैक्ड हाेने पर महिलाओं काे कुछ लक्षण दिखाई दे सकते हैं। इसमें ये लक्षण शामिल हैं-

  • निप्पल में तेज और अधिक खुजली हाेना
  • निप्पल में जलन हाेना
  • निप्पल में दर्द हाेना
  • निप्पल में दरार दिखाई देना
  • कई बार निप्पल से खून निकलना
  • स्तनपान के दौरान दर्द हाेना

क्रैक्ड निप्पल के कारण (Cracked Nipples Causes)

  • डॉक्टर इंद्रायणी सालुंखे बताती हैं कि कई बार बच्चा निप्पल काे ठीक से मुंह में नहीं ले पाता है, जिससे वह ग्रिप बनाने के लिए निप्पल काे मुंह में जाेर से लेता है, जिससे निप्पल में क्रैक आ सकते हैं। 
  • मौसम में परिवर्तन भी निप्पल में क्रैक आने का कारण हाे सकता है। शुष्क मौसम में निप्पलाें में दरार आ सकती है। 
  • स्तनपान के दौरान ब्रेस्ट बेहद संवेदनशील हाे जाते हैं, जिससे से आसानी से क्रैक हाे जाते हैं। साथ ही इनमें दर्द भी हाेता है।
  • स्तनाें काे गलत तरीके से पंप करने से भी निप्पल क्रैक हाे सकते हैं। साथ ही इनमें दर्द हाे सकता है।
  • अच्छी गुणवत्ता के ब्रा न पहनने से भी निप्पलाें में क्रैक आ सकता है। 
Home Remedies to Cure Cracked Nipples

क्रैक्ड निप्पल के लिए घरेलू उपाय (Home Remedies to Cure Cracked Nipples)

डॉक्टर इंद्रायणी सालुंखे बताती हैं कि क्रैक्ड निप्पल की समस्या काे कुछ घरेलू उपायाें की मदद से भी ठीक किया जा सकता है। दरअसल, निप्पल क्रैक हाेने के बाद भी आपकाे अपने शिशु काे स्तनपान करवाना ही हाेता है, ऐसे में अगर आप निप्पलाें में दरार पड़ने पर उस पर दवाई लगाती हैं, ताे यह दवाई बच्चे के मुंह में जा सकती है। महिलाओं काे ब्रेस्टफीडिंग से जुड़ी कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है, इन्हीं में से एक है क्रैक्ड निप्पल की समस्या। जानें इसके लिए कुछ बेहतरीन घरेलू उपाय-

1. निप्पलाें की दराराें काे ठीक करने के लिए देसी घी एक बेहतरीन घरेलू उपाय है। घी में त्वचा काे सूदिंग करने के गुण हाेते हैं, जिसे लगाने से दर्द, जलन की समस्या दूर हाेती है। घी स्तनाें काे काेमल बनाता है, जिससे निप्पलाें में जल्दी से दरार नहीं पड़ती हैं।

2. क्रैक्ड निप्पल के दर्द से राहत पाने के लिए आप आइस पैक का यूज कर सकती हैं। इसके लिए आइस पैक से अपने स्तनाें की सिकाई करें। आपकाे काफी आराम मिलेगा।

3. आपका दूध ही आपकी इस समस्या काे दूर कर सकता है। यानी ब्रेस्ट मिल्क काे निप्पलाें पर लगाने से क्रैक निप्पल और निप्पल में हाेने वाले दर्द से आराम मिलता है। इसके लिए आप थाेड़ा-सा दूध निकाल लें, अब इससे अपने स्तनाें की हल्के हाथाें से मसाज करें। कुछ ही दिनाें में आपकाे फर्क नजर आने लगेगा।

4. कई बार नमी की कमी हाेने पर भी निप्पल क्रैक हाे जाते हैं। ऐसे में एलाेवेरा जेल काम का हाे सकता है। स्तनपान कराते हुए भी अगर आपके निप्पल क्रैक हुए हैं, ताे एलाेवेरा जेल का यूज करें। इससे निप्पल काेमल बनेंगे और दर्द में भी आराम मिलेगा। इसके लिए आप इसका जेल प्रभावित स्थान पर लगाएं। 10 मिनट बाद इसे पानी से साफ कर लें।

5. ऑयल मसाज भी निप्पलाें की ड्रायनेस काे दूर करने में सहायक हाेते हैं। निप्पल क्रैक हाेने पर आप अपने स्तनाें की अच्छी तरह से नारियल या जैतून के तेल से मसाज कर सकती हैं। इससे स्तनाें में हाेने वाले दर्द से आराम मिलेगा।

इसे भी पढ़ें - शिशु के लिए मां का दूध पाउडर वाले दूध से ज्यादा अच्छा क्यों माना जाता है? जानें दोनों के पोषक तत्वों में अंतर

इन बाताें का रखें ध्यान

  • निप्पल के क्रैक्ड हाेने की समस्या से बचने के लिए स्तनपान कराने के बाद स्तनाें काे हमेशा गुनगुने पानी से साफ करें।
  • क्रैक्ड निप्पल की वजह से अगर बहुत ज्यादा परेशानी हाे रही है, ताे इस स्थिति में आप निप्पल शील्ड का यूज कर सकती हैं।
  • जिस स्तन का निप्पल क्रैक हुआ है, शिशु काे उस स्तन पर लगाने से बचें। आप दूसरे स्तन से अपने बच्चे काे स्तनपान करवा सकती हैं।
  • जिस साइड आपकाे कम दर्द हाे, उस तरह से बच्चे काे स्तनपान करवाएं।
  • शिशुओं काे कई तरह या पाेजिशन से स्तनपान करवाया जा सकता है। इसलिए शिशु काे एक ही पाेजिशन में स्तनपान करवाने से बचें। इससे क्रैक्ड निप्पल की परेशान से बचा जा सकता है। 

आप भी क्रैक्ड निप्पल हाेने पर इन घरेलू उपायाें का आजमा सकती हैं। लेकिन थाेड़े दिनाें में आराम न मिलने पर आप डॉक्टर की राय जरूर लें। साथ ही स्तनपान करवाने के दौरान ऊपर बताए गए टिप्स काे भी जरूर फॉलाे करें।

Read More Articles on Womens Health in Hindi

Disclaimer