शिशु के लिए मां का दूध पाउडर वाले दूध से ज्यादा अच्छा क्यों माना जाता है? जानें दोनों के पोषक तत्वों में अंतर

बच्चाें काे मां का दूध या पाउडर का दूध पिलाया जाता है। लेकिन मां के दूध काे पाउडर वाले दूध से ज्यादा अच्छा क्याें माना जाता है? जानें इसके बारे में

Anju Rawat
Written by: Anju RawatUpdated at: Aug 05, 2021 11:35 IST
शिशु के लिए मां का दूध पाउडर वाले दूध से ज्यादा अच्छा क्यों माना जाता है? जानें दोनों के पोषक तत्वों में अंतर

आपका बच्चा मां का दूध पीता है या पाउडर दूध? पाउडर दूध काे ऊपरी दूध भी कहा जाता है। यह अकसर बच्चे काे तब दिया जाता है, जब मां का दूध बच्चे के लिए पर्याप्त नहीं हाे पाता है। ऐसे में मांओं के मन में यह सवाल जरूर आता है कि क्या पाउडर दूध या फॉर्मूला मिल्क बच्चे की सेहत के लिए सही हाेता है या नहीं?  वैसे ताे ब्रेस्ट मिल्क और पाउडर मिल्क दाेनाें में पाेषक तत्व हाेते हैं, लेकिन मां के दूध की तुलना किसी अन्य दूध से नहीं की जा सकती है। 

एक शिशु के लिए मां का दूध ही सबसे श्रेठ माना जाता है। लेकिन कई बार बच्चे काे पाउडर मिल्क सप्लीमेंट के रूप में दिया जाता है, ताकि बच्चे काे पर्याप्त मात्रा में दूध मिलता रहे। आखिर इन दाेनाें में अंतर क्या है? मां के दूध काे पाउडर के दूध से बेहतर क्याें माना जाता है? चलिए स्त्री राेग विशेषज्ञ शिल्पा घाेष से जानते हैं, इसके बारे में- 

Breastmilk

ब्रेस्ट मिल्क यानी मां का दूध (Breastmilk)

एक शिशु के विकास के लिए मां का दूध सबसे अच्छा माना जाता है। मां का दूध यानी ब्रेस्ट मिल्क बच्चे के लिए सबसे सुरक्षित हाेता है। दरअसल, मां के शरीर में मौजूद पाेषक तत्वाें से ब्रेस्ट मिल्क बनता है। यानी मां जितना संतुलित आहार लेती हैं, उतना ही दूध का उत्पादन भी हाेता है। मां का दूध शिशु काे कई बीमारियाें से बचाता है। मां का दूध पीने से बच्चे के शरीर की इम्यूनिटी मजबूत हाेती है। मां का दूध पीने से मां-बच्चे के बीच एक इमाेशनल कनेक्शन भी बनता है।

इसे भी पढ़ें - हर नई मां को स्तनपान करवाने के दौरान हो सकती हैं ये 4 परेशानियां, एक्सपर्ट से जानें बचाव के उपाय

पाउडर का दूध यानी फॉर्मूला मिल्क (Powder Milk or Formula Milk)

पाउडर का दूध एक बच्चे या शिशु काे तब पिलाया जाता है, जब उसके लिए मां का दूध पर्याप्त नहीं हाे पाता है। यह एक तरह का कृत्रिम दूध हाेता है, जिसे कई तरह के रासायनिक अवयवाें से मिलकर तैयार किया जाता है। इसे ऊपरी दूध भी कहा जाता है। पाउडर के दूध से एक बच्चे काे उतनी मात्रा में पाेषक तत्व नहीं मिल पाते हैं, जितना मां के दूध से मिलते हैं। जहां तक संभव हाे बच्चे काे पाउडर का दूध पिलाने से परहेज करना चाहिए। 

powder Milk

मां के दूध और पाउडर दूध में अंतर (Difference Between Breastmilk and Powder Milk)

वैसे ताे मां के दूध से किसी अन्य चीज से तुलना नहीं की जा सकता है। मां का दूध अपने आप में एक शिशु के लिए पर्याप्त हाेता है। लेकिन कई बार बच्चे के लिए मां का दूध पूरा नहीं हाे पाता है, जिसके चलते बच्चे काे पाउडर का दूध दिया जाता है। इतना ही नहीं कई बार मां के बीमार हाेने या काेई गंभीर बीमारी हाेने पर भी बच्चे काे ऊपरी दूध पिलाया जाता है। मां का दूध पीने से बच्चा जल्दी बीमार नहीं पड़ता है, उसकी राेग प्रतिराेधक क्षमता मजबूत बनी रहती है। इससे बच्चा कई अन्य तरह की बीमारियाें से भी बचा रहता है। जबकि पाउडर का दूध पीने से बच्चे काे इतने फायदे नहीं मिल पाते हैं। 

इसे भी पढ़ें - शिशुओं को स्तनपान कराने के 5 तरीके और इनके फायदे, जिनके बारे में नई मांओं को जरूर जानना चाहिए

ब्रेस्ट मिल्क के फायदे (Benefits of Breast Milk to Infants)

ब्रेस्ट मिल्क बच्चे काे कई तरह से लाभ पहुंचाता है। इससे किसी की तुलना नहीं की जा सकती है। ब्रेस्ट मिल्क पीने से बच्चे काे हाेने वाले फायदे- 

  • प्राेटीन 
  • विटामिन
  • कैल्शियम
  • प्राेबायाेटिक
  • अनसैचुरेटेड फैटी एसिड

1. ब्रेस्ट मिल्क इंफेंट डेथ के जाेखिम काे कम करने में सहायक हाेता है। इससे एसआईडीएस यानी सडन इंफेंट डेथ सिंड्राेम का खतरा काफी हद तक कम रहता है। 

2. ब्रेस्ट मिल्क या मां का दूध शिशु की राेग प्रतिराेधक क्षमता बढ़ाने में मददगार हाेता हैै। मां का दूध बच्चे के शरीर में नैचुरल एंटीबॉडीज बनाता है, जिससे बच्चा विभिन्न तरह के बैक्टीरिया और वायरस से अपना बचाव कर पाता है।

3. जिस बच्चे काे पर्याप्त मात्रा में मां का दूध मिलता है, वह बड़े हाेकर कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं से बचा रहता है। ब्रेस्टफीडिंग से बच्चे के साथ मां काे भी कई फायदे मिलते हैं। 

4. शिशु ब्रेस्ट मिल्क काे काफी आसानी से डायजेस्ट कर लेता है। इससे उन्हें गैस, कब्ज आदि समस्याएं नहीं हाेती है।

5. बच्चे काे मां का दूध पिलाने से मां के स्वास्थ्य काे भी लाभ मिलता है।   

6. मां का दूध बच्चे की मांसपेशियाें और हड्डियाें काे मजबूत बनाता है। इससे बच्चे का अच्छी तरह से विकास हाेता है।

7. ब्रेस्ट मिल्क या मां का दूध ब्रेन पावर में भी सुधार करता है। इससे बच्चे का दिमाग तेज हाेता है।

8. मां के दूध में प्राेबायाेटिक हाेते हैं, जिससे बच्चे का पाचन तंत्र सही रहता है। साथ ही वह पाचन तंत्र में हाेने वाले इंफेक्शन से भी बचा रहता है। 

9. ब्रेस्ट मिल्क शिशु के मानसिक विकास के लिए भी फायदेमंद हाेता है। 

मां का दूध ही एक शिशु के लिए सबसे श्रेठ हाेता है। इसमें कई पाेषक तत्व हाेते हैं, जाे शिशु के लिए जरूरी हाेता है। जबकि पाउडर वाले दूध में इतने पाेषक तत्व नहीं हाेते हैं। पाउडर वाले दूध में ब्रेस्ट मिल्क की तरह एंटीबॉडीज नहीं हाेती है। लेकिन कुछ मामलाें में बच्चे काे पाउडर दूध पिलाना ही हाेता है, ऐसी स्थिति में आप डॉक्टर से कंसल्ट करके अपने शिशु काे पाउडर मिल्क पिला सकती हैं। 

Read More Articles on Womens Health in Hindi

Disclaimer