डिलीवरी के बाद कैसे बढ़ाएं ब्रेस्ट मिल्क (स्तनों में दूध)? एक्सपर्ट से जानें 7 आसान उपाय

ड‍िलीवरी के आद ब्रेस्‍टम‍िल्‍क बढ़ाने के लि‍ए बच्‍चे को 8 से 12 बार स्‍तनपान करवाने की कोश‍िश करें, सही डाइट लें और दोनों तरफ से स्‍तनपान करवाएं

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurUpdated at: Aug 04, 2021 13:42 IST
डिलीवरी के बाद कैसे बढ़ाएं ब्रेस्ट मिल्क (स्तनों में दूध)? एक्सपर्ट से जानें 7 आसान उपाय

स्‍तनपान श‍िशु को जीवनभर कई गंभीर बीमार‍ियों से सुरक्षित रखने में मदद करता है लेक‍िन अगर ड‍िलीवरी के बाद आप बच्‍चे को स्‍तनपान न करवा पाएं तो इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं। ड‍िलीवरी के बाद बच्‍चे के ल‍िए पर्याप्‍त ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क न बन पाए तो क्‍या करें? ड‍िलीवरी के बाद आपको बच्‍चे को द‍िन में 8 से 12 बार स्‍तनपान करवाने की कोश‍िश करनी चाह‍िए उसी से ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क बढ़ेगा। इसके अलावा सही डाइट, फीड‍िंग के दौरान दूध पंप करना, दोनों तरफ से स्‍तनपान करवाना आद‍ि तरीकों से भी ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क बढ़ाया जा सकता है। इस लेख में हम ड‍िलीवरी के बाद ब्रेस्‍टम‍िल्‍क की मात्रा बढ़ाने के तरीके और ब्रेस्‍टम‍िल्‍क की मात्रा न बढ़ पाने के कारणों पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के झलकारीबाई अस्‍पताल की गाइनोकोलॉज‍िस्‍ट डॉ दीपा शर्मा से बात की। 

increase breast milk

क‍िन कारणों से ड‍िलीवरी के बाद ब्रेस्‍टफीड‍िंग में परेशानी होती है? (Causes of no or less breastfeeding after delivery)

  • अगर मां स्‍ट्रेस में है तो उसे स्‍तनपान करवाने में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। 
  • अगर आपको हाई ब्‍लड प्रेशर या डायब‍िटीज है तो भी इसका असर म‍िल्‍क सप्‍लाई पर पड़ सकता है। 
  • अगर आप क‍िसी तरह की हार्मोनल दवा ले रही हैं तो स्‍तनपान करवाने में परेशानी हो सकती है इसल‍िए अपने डॉक्‍टर से संपर्क करें। 
  • अगर आप धूम्रपान के नुकसान से वाक‍िफ हैं तो आपको बता दें क‍ि एल्‍कोहॉल, धूम्रपान का असर लैक्‍टेशन पर पड़ता है ज‍िससे ब्रेस्‍ट सप्‍लाई कम हो सकती है। अगर ड‍िलीवरी के दौरान ब्रेस्‍ट में स‍िस्‍ट न‍िकलती है तो भी स्‍तनपान में बाधा आ सकती है। 

 इसे भी पढ़ें- World Breastfeeding Week 2021: ब्रेस्टफीडिंग बंद करने के बाद दोबारा शुरू कैसे करें? जानें एक मां का निजी अनुभव

ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क बढ़ाने के लि‍ए क्‍या करें? (Ways to get breast milk faster after delivery)

 कुछ आसान चीजों की मदद से आप ब्रेस्‍टमि‍ल्‍क की सप्‍लाई बढ़ा सकते हैं। लैक्‍टेशन एक्‍सपर्ट की मदद से आप सही सप्‍लीमेंट या डाइट फॉलो करके म‍िल्‍क सप्‍लाई बढ़ा सकते हैं। ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क को बढ़ाने के ल‍िए इन ट‍िप्‍स को फॉलो करें-

1. ब्रेस्‍टफीड‍िंग के दौरान मिल्‍क पंप करें

pump breast milk 

अगर आपको लग रहा है क‍ि बच्‍चे को स्‍तनपान करवाने के बाद भी दूध बचा है तो उसे पंप की मदद से स्‍टोर करें। दूध को फीड‍िंग के दौरान पंप करने से भी ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क की मात्रा बढ़ती है। मां का दूध कमरे के तापमान पर स्‍टोर क‍िया जा सकता है। 

2. ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क बढ़ाने के ल‍िए क्‍या खाएं? 

ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क बढ़ाने के ल‍िए आप स्‍तनपान के दौरान हेल्‍दी फूड जैसे फ्लैक्‍स सीड्स, होल वीट ग्रेन आद‍ि चीजों का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा आप ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क बढ़ाने के ल‍िए आप लहसुन, अदरक, मेथी दाना, सौंफ आद‍ि का सेवन भी कर सकते हैं। इन सब फूड और हर्ब्स में गैलेक्टागॉग्स (galactagogues) होता है ज‍िससे ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क बढ़ता है। 

3. बच्‍चे को दोनों तरफ से स्‍तनपान करवाएं  

ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क बढ़ाने के ल‍िए आपको बच्‍चे को दोनों स्‍तनों से दूध प‍िलाना चाह‍िए। जब एक तरफ से बच्‍चा दूध पीना बंद कर दे तो उसे दूसरी तरफ से दूध प‍िलाने का प्रयार करना चाह‍िए  इससे ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क की मात्रा बढ़ती है और कई र‍िसर्च में बताया गया है क‍ि इससे दूध में फैट की मात्रा भी बढ़ती है।

4. ब्रेस्‍टफीड करवाने की कोश‍िश करें

breast feeding tips 

दो बातें एक-दूजे से जुड़ी हुईं हैं, बच्‍चा स्‍तनपान तभी करेगा जब उसे पर्याप्‍त मात्रा में दूध म‍िलेगा और जब बच्‍चा स्‍तनपान करेगा तभी मां के शरीर में दूध की मात्रा बढ़ेगी इसल‍िए आपको बच्‍चे को द‍िन में 8 से 12 बार ब्रेस्‍टफीड करवाने की कोश‍िश करनी चाह‍िए। इससे दूध की मात्रा भी बढ़ेगी। बच्‍चे के स्‍तनपान करने से हार्मोन पर असर पड़ता है और दूध की मात्रा बढ़ती है।  

5. ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क बढ़ाने के ल‍िए खुश रहना सीखें 

अगर आप बच्‍चे को ब्रेस्‍टफीड करवाना चाहती हैं तो तनाव से दूर रहें क्‍योंक‍ि इसका असर हार्मोन पर पड़ता है और इससे दूध की मात्रा घटने लगती है। आप खुश रहेंगी तो ही स्‍तनों में दूध की मात्रा बढ़ेगी। 

6. ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क की मात्रा बढ़ाने के लिए नींद पूरी करें 

stay happy while you breastfeed

अगर आप नींद पूरी नहीं करेंगे तो बच्‍चे को स्‍तनपान करवाने में परेशानी हो सकती है, आपको नींद पूरी करनी चाहि‍ए। फ्रेश माइंड से च‍िंतामुक्‍त होकर बच्‍चे को स्‍तनपान करवाएंगी तो म‍िल्‍क सप्‍लाई भी अच्‍छी होगी। 

7. ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क की मात्रा बढ़ाने के लिए हाइड्रेशन जरूरी है 

अगर मां का शरीर हाइड्रेट नहीं तो ड‍िलीवरी के बाद स्‍तनपान करवाने में परेशानी आ सकती है इसल‍िए आपको अपने हाइड्रेशन का खास खयाल रखना है, रोजाना 2 से 3 लीटर पानी जरूर प‍िएं। 

क्‍या ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क की मात्रा कम है? (How to check breastfeeding is enough for baby or not) 

कई मांओं को ये च‍िंता होती है क‍ि कहीं ब्रेस्‍ट म‍िल्‍क की मात्रा कम तो नहीं है। ज्‍यादातर मांओं के शरीर में प्राकृत‍िक तौर पर बच्‍चे की जरूरत से एक चौथाई ज्‍यादा दूध बनता है, अगर आप बच्‍चे को स्‍तनपान नहीं करवा पा रही हैं तो उसके पीछे कई कारण हो सकते हैं जैसे तनाव में रहना, बीमार होना आद‍ि। कई लक्षण हैं ज‍िनसे पता चल सकता है क‍ि बच्‍चे का पेट स्‍तनपान से नहीं भर रहा है या दूध उसके ल‍िए कम पड़ रहा है जैसे स्‍तनपान के दौरान बच्‍चे का रोना, उसका ध्‍यान ब्रेस्‍टफीड‍िंग की ओर न होना आद‍ि। 

उम्र के साथ बढ़ती है बच्‍चे के दूध पीने की क्षमता 

हर बच्‍चे की भूख अलग होती है। कुछ नवजात श‍िशुओं को 24 घंटे में 8 से 12 बार दूध पीने की जरूरत होती है और जैसे-जैसे बच्‍चे की उम्र बढ़ती है उसकी जरूरत बढ़ती जाती है। मां अगर बच्‍चे को स्‍तनपान करवाने में सक्षम नहीं हो तो बच्‍चे को फॉर्मूला म‍िल्‍क देने की मजबूरी हो जाती है पर फॉर्मूला म‍िल्‍क बच्‍चे की सेहत के ल‍िए अच्‍छा नहीं होता, उससे बच्‍चे का पेट तो भर जाता है पर उसे जरूरी पोषक तत्‍व नहीं म‍िल पाते।

इसे भी पढ़ें- World Breastfeeding Week 2021: स्तनपान से जुड़ी इन 6 बातों पर कंफ्यूज रहती हैं महिलाएं, डॉक्टर से जानें जवाब

बच्‍चे का पेट स्‍तनपान से भरा या नहीं ये कैसे पता करें? (Baby is hungry or not) 

आपको ड‍िलीवरी के बाद डॉक्‍टर से लगातार संपर्क बनाए रखना है ज‍िससे पता चल सके क‍ि बच्‍चे को सही मात्रा में दूध म‍िल रहा है या नहीं। कई तरह से डॉक्‍टर इस बात का पता लगाते हैं जैसे बच्‍चे के क‍ितने डायपर द‍िन भर में इस्‍तेमाल हुए हैं या बच्‍चे का वजन क‍ितना बढ़ा है आद‍ि। अगर बच्‍चे का वजन हर माह बढ़ रहा है तो च‍िंता की बात नहीं है। अगर बच्‍चे के पैदा होने के चौथे द‍िन से हर द‍िन तीन से चार बार नैपी या डायपर बदलना पड़ रहा है तो मतलब मतलब बच्‍चा सही ढंग से ब्रेस्‍टफीड कर पा रहा है। 

अगर आपको बच्‍चे को स्‍तनपान करवाने में परेशानी हो रही है तो आप लैक्‍टेशन एक्‍सपर्ट से संपर्क कर सकते हैं। 

Read more on Women Health in Hindi 

Disclaimer