युवावस्था (35 से कम उम्र) में अचानक मृत्यु होने के संभावित कारण

दुनिया भर में 35 से कम उम्र के लोगों में अचानक होने वाली मृत्यु दर बढ़ी है। इसके क्या कारण हो सकते हैं, आइए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से। 

Monika Agarwal
विविधWritten by: Monika AgarwalPublished at: Jul 18, 2021Updated at: Jul 19, 2021
युवावस्था (35 से कम उम्र) में अचानक मृत्यु होने के संभावित कारण

दुनिया भर में कम उम्र में लोगों की अचानक होने वाली मृत्यु दर में अब तेजी से बढ़तोरी हो रही है। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण है खराब होती लाइफस्टाइल और इससे जुड़ी बीमारियां। दरअसल, लाइफस्टाइल खराब होने से मोटापा और डायबिटीज जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ता है। इसके अलावा इन बीमारियों के साथ स्ट्रेस का बढ़ना ब्लड प्रेशर पर गहरा प्रभाव डालता है जिससे, दिल की बीमारियां बढ़ती हैं। गौरतलब है कि पिछले कुछ सालों में हार्ट अटैक के मामले बढ़े हैं। ऊपर से महामारी इस दौरान तो काफी जवान मौतें हुई हैं। लोगों की अचानक मृत्यु (causes of sudden death) के अधिकतर कारण हृदय संबंधी रोग ही होते हैं।  पर क्या सिर्फ हार्ट अटैक ही लोगों की अचनाक होने वाली मृत्यु का कारण है? आइए जानते हैं इस बारे में क्या कहते हैं एक्सपर्ट।

inside2suddendeath

क्या कहते हैं एक्सपर्ट?

डॉक्टर भूपेंद्र सिंह कार्डियोलॉजिस्ट, कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल गाजियाबाद, के अनुसार यदि आप अपना लाइफ स्टाइल, खाने पीने की आदतो या पोल्यूशन से खुद को नहीं बचाते तो आप भी अचानक होने वाली मृत्यु के रिस्क पर है। दरअसल ऐसा आम तौर पर किसी फिजिकल गतिविधि के दौरान या खेलते समय होता है। अब कम उम्र के लोगों की भी दिल की बीमारियों से होने वाली मृत्युदर बढ़ी है। जिस ने सभी को चिंता में डाल दिया है। स्टडीज के मुताबिक हर 50 हजार में से एक यंग की मृत्यु इसी कारण की वजह से होती है।

इसे भी पढ़ें : बारिश के मौसम में सामान्य हैं आंखों से जुड़ी ये 3 समस्याएं, जानें इनसे बचाव के टिप्स

अचानक मृत्यु हो जाने के कारण -causes of sudden death 

1. कोरोनरी आर्टरी असामान्यता 

कई बार कुछ लोग पैदा ही इस स्थिति में होते हैं। इस स्थिति के अनुसार उनकी हृदय की आर्टरीज सामान्य रूप से नहीं जुड़ी हुई होती हैं। एक्सरसाइज के दौरान यह आर्टरीज दबाव में आ जाती हैं और हृदय को प्रॉपर ब्लड फ्लो नहीं पहुंचा पाती हैं।

2. हाइपरट्रोफिक कार्डियोपैथी

इस स्थिति में हृदय की मसल्स मोटी हो जाती हैं। यह मोटी हुई मसल्स हृदय के इलेक्ट्रिकल सिस्टम को व्यस्त कर देती है। इसकी वजह से धड़कन तेज या अनियमित धड़कन हो जाती है। 30 से कम उम्र के लोगों की अचानक मृत्यु (causes of sudden death) का मुख्य और बहुत कॉमन कारण यही होता है।

3. लॉन्ग क्यूटी सिंड्रोम 

यह एक हार्ट रिदम डिसऑर्डर होता है जिस कारण हमारी धड़कन तेज और थोड़ी असामान्य हो जाती है जिस कारण हम बेहोश भी हो सकते हैं। अगर कम उम्र के लोगों को यह स्थिति होती है तो उनकी अचानक मृत्यु (causes of sudden death) इस कारण की वजह से अधिक होती है।

अन्य कारण

कुछ अन्य कारणों में वह स्थितियां होती हैं जो जन्म से ही बच्चे में मौजूद होती है लेकिन उन्हें डिटेक्ट नहीं किया जाता है या इग्नोर कर दिया जाता है।

inside1heartattack

इसे भी पढ़ें : पेट में छालों के कारण सोने में हो रही है परेशानी? इन आसान उपायों से आएगी चैन की नींद

अचानक मृत्यु के कोई लक्षण भी हैं ?

1. आपके परिवार में पहले भी ऐसा हो चुका है 

अगर आप के परिवार में पहले भी बिना चेतावनी के 50 से कम उम्र के व्यक्ति की अचानक मृत्यु (causes of sudden death) हो चुकी है तो आपको भी इसका रिस्क होता है।

2. बिना कारण वश बेहोश हो जाना 

अगर यह आपकी किसी फिजिकल एक्टिविटी के दौरान होता है तो यह हृदय रोग का एक लक्षण हो सकता है।

क्या आप इससे बच सकते हैं?

कई बार आप अचानक मृत्यु (causes of sudden death) से अपना बचाव भी कर सकते हैं। अगर आप इसके अधिक रिस्क पर हैं तो आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। उन गतिविधियों से दूर रहें जिनसे अधिक खतरा है। कुछ स्थितियों में आपके शरीर के अंदर एक यंत्र डाला जाता है जिससे आप हृदय रोगों के कारण होने वाली मृत्यु से खुद को बचा सकें।

अगर आप इसके लिए स्क्रीनिंग करवाने की सोच रहे हैं तो तो सोच समझ कर करवाएं क्योंकि यह आज भी एक बहस का मुद्दा है अन्य देशों में कुछ नतीजे गलत भी मिले हैं। इससे आपका धन का नुकसान तो होगा ही साथ में आपको बहुत अधिक चिंता भी होने लग जायेगी।

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer