बारिश के मौसम में सामान्य हैं आंखों से जुड़ी ये 3 समस्याएं, जानें इनसे बचाव के टिप्स

Common Eye Problems in Monsoon:मानसून में आंखाें से जुड़ी समस्याएं हाेना बेहद सामान्य हाेता है। आप चाहें ताे कुछ टिप्स भी मदद से इन समस्याओं से बचें

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Jul 15, 2021Updated at: Jul 15, 2021
बारिश के मौसम में सामान्य हैं आंखों से जुड़ी ये 3 समस्याएं, जानें इनसे बचाव के टिप्स

मानसून का मौसम हर किसी काे पसंद हाेता है। यह तपती गर्मी से राहत देता है, सभी इस सुहाने मौसम का लुत्फ उठाते हैं। लेकिन यह सुहावना मौसम अपने साथ कई तरह की बीमारियाें काे लेकर आता है। इसमें सबसे सामान्य है आंखाें का संक्रमण। इस मौसम में ज्यादातर लाेग आंखाें के संक्रमण का शिकार हाेते हैं। आंखें हमारे शरीर का एक अहम अंग हाेता है, इसे लेकर थाेड़ी-सी भी लापरवाही भारी पड़ सकती है। इसलिए आपकाे इस मौसम में आंखाें का खास ध्यान रखने की जरूरत हाेती है। मानसूम में आंखाें से संक्रमण से बचाना जरूरी हाेता है। डॉक्टर रमन कुमार से जानें मानसून में हाेने वाली आंखाें की सामान्य समस्याओं के बारे में (Common Eye Problems During Monsoon) -

Conjunctivitis  in Monsoon

1. कंजेक्टिवाइटिस यानी आंख आना (Conjunctivitis  in Monsoon)

कंजेक्टिवाइटिस यानी आंख आना यह आंखाें से जुड़ी एक सामान्य समस्या है। बारिश के मौसम में यह संक्रमण अकसर लाेगाें में देखने काे मिलता है। यह संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है। बारिश और उमस भरे इस मौसम में वायरस और बैक्टीरिया बढ़ जाते हैं, जिससे कंजेक्टिवाइटिस की समस्या हाेती है। इसमें आंखाें में सूजन आती है और पलकाें काे झपकाने पर दर्द हाेता है। आंखें आने की समस्या धूल और पराण कणाें के कारण हाेता है। ऐसे में आंखाें का बचाव करना बहुत जरूरी हाेता है। इस समस्या से बचने के लिए बार-बार आंखाें काे छूने से बचें।

इसे भी पढ़ें - आंख और सिर में दर्द जैसे लक्षणों से शुरू होता है 'आंखों का लकवा', डॉक्टर से जानें इसके लक्षण, कारण और इलाज

2. आंखाें का सूखापन (Dry Eyes in Monsoon)

मानसून में आंखाें की दूसरी सबसे आम समस्या सूखी आंखें या आंखाें का सूखापन है। यह समस्या ज्यादातर उन लाेगाें में देखने काे मिलती है, जाे एयर कंडीशनर रूम में अपना समय बिताते हैं। दरअसल, एसी घर में मौजूद सारी नमी साेख लेता है। नमी की कमी की वजह से आंखें सूखी या शुष्क हाे जाती हैं। अगर आपकाे अकसर ही आंखाें से जुड़ी यह समस्या हाेती है, ताे मानसून के दौरान खुद काे सुरक्षित रखें। मानसून में वायरस और बैक्टीरिया के संपर्क में आने से आंखाें का संक्रमण बढ़ सकता है। अगर आप डायबिटीज राेगी हैं, ताे आपकाे इस समस्या का खतरा अधिक हाे सकता है।

Eye styes in Monsoon

3. आई स्टाई (Eye styes in Monsoon)

आई स्टाई आंख पर हाेने वाले फुंसी काे कहा जाता है। आई स्टाई काे बिलनी और गुहेरी के नाम से भी जाना जाता है। यह आंखाें की पलकाें पर एक छाेटा सा उभार हाेता है, जिसमें पस भरा हाेता है। बिलनी दर्दनाक हाे सकता है। मानसून में आई स्टाई की समस्या हाेना बेहद आम हाेती है। अकसर ही लाेग इस समस्या से परेशान रहते हैं। आई स्टाई पीड़ादायक हाेती है। यह समस्या आंखाें पर संक्रमण फैलने की वजह से हाेता है। इस संक्रमण से बचने के लिए आपकाे आंखाें पर हाथ लगाने से बचना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें - आंखों की जांच के लिए डॉक्‍टर के पास कब जाएं? पढ़ें नेत्र रोग विशेषज्ञ की सलाह 

आंखाें का ऐसे रखें ध्यान (Prevention Tips For Eye Problems)

  • 1. इस मौसम में दिन में कम से कम 2-3 बार आंखाें काे ठंडे पानी से धाेएं। आंखाें काे पानी से धाेने पर पराग कण निकल जाते हैं, जिससे संक्रमण का खतरा कम रहता है।
  • 2. बार-बार आंखाें पर हाथ लगाने से बचें। इससे आंखें सुरक्षित रहती हैं।
  • 3. अपना निजी सामान जैसे तौलिया, चश्मा आदि किसी अन्य व्यक्ति के साथ शेयर करने से बचें।
  • 4. आंखाें काे संक्रमण से बचाने के लिए घर से बाहर जाते समय चश्मा पहनकर जाएं। इससे आंखें धूल, मिट्टी से सुरक्षित रहती हैं।
  • 5. मानसून में किसी भी तरह के संक्रमण से बचने के लिए अपनी राेग प्रतिराेधक क्षमता काे मजबूत बनाकर रखें।

मानसून में आंखाें से जुड़ी ये समस्याएं हाेना बेहद आम हाेती है। ऐसे में आप ऊपर बताए गए बचाव टिप्स की मदद से आंखाें काे सुरक्षित रख सकते हैं। मानसून आंखाें काे कई तरह से प्रभावित कर सकता है, ऐसे में उनका बचाव करना जरूरी हाेता है।

Read More Articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer