प्रेगनेंसी के दौरान साइटिका (कमर से पैर तक) दर्द का कारण और इसे ठीक करने के लिए एक्सरसाइज

प्रेगनेंसी के दौरान कमर से लेकर पैरों तक अक्सर रहने वाले दर्द का कारण साइटिका हो सकता है। जानें इसे दूर करने के लिए आसान योगासन

Monika Agarwal
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: Monika AgarwalPublished at: Aug 29, 2021Updated at: Aug 29, 2021
प्रेगनेंसी के दौरान साइटिका (कमर से पैर तक) दर्द का कारण और इसे ठीक करने के लिए एक्सरसाइज

साइटिका (Sciatica) जिसको डॉक्टरी भाषा में लुम्बा सैक्रल रेडिक्युलर सिंड्रोम भी कहते हैं। हमारी रीढ़ की हड्डी के सबसे नीचे वाले हिस्‍से से शुरू होता है और जांघ के आखिरी सिरे तक पहुंचता है। क्योंकि रीढ़ की हड्डी (Spinal Cord) से शुरू होकर जांघ के इस सिरे तक ये नस होती है। इस नस में तकलीफ के कारण साइटिका का तीव्र दर्द होता है। अगर आपको भी प्रेगनेंसी के दौरान गंभीर कमर में दर्द होता है तो यह साइटिका हो सकता है। अगर आप इस दर्द से मुक्ति पाना चाहती हैं तो आपको सबसे पहले दर्द का कारण पता होना चाहिए। अगर दर्द का कारण साइटिका होगा तो आप इसके उपचार के लिए उपयुक्त स्टेप ले सकेंगी। नहीं तो आपको डॉक्टर के पास भी जाना पड़ सकता है। यह नर्व आपकी जांघों और पैरों तक सेंसेशन पहुंचने में मदद करती है। इसलिए अगर इसमें कुछ बाधा उत्पन्न होती है तो आपकी कमर के साथ साथ आपके पैरों में भी दर्द होने लगता है।

scitica pain

(image source:Firstcry.com)

क्या है साइटिका का कारण? (Causes Of Sciatica)

मदरहुड हॉस्पिटल की गाइनेकोलॉजिस्ट डॉक्टर रंजना बेकन के अनुसार साइटिका का कारण प्रेग्नेंसी नहीं होती। यह समस्या केवल प्रेग्नेंसी के दौरान ही नहीं होती, बल्कि कभी भी हो सकती है। केवल 1% प्रेगनेंट महिलाओं में ही साइटिका (Sciatica) की समस्या होती है। कुछ लोग मानते हैं कि बच्चे के प्रेशर के कारण आपको इस स्थिति का सामना करना पड़ता है, जोकि पूरी तरह से झूठ है। असल कारण यह है कि जब आपकी स्पाइन की डिस्क में कोई डेमेज होता है तो इस कारण से आपको साइटिका का सामना करना पड़ता है। इससे आपकी नर्व के आसपास सूजन आ जाती है। अगर आप पोस्चर सीधा नहीं रखती हैं और बिल्कुल इनएक्टिव (Inactive) रहती हैं तो इस वजह से भी आपको इस स्थिति का सामना करना पड़ सकता है। प्रेगनेंसी के दौरान अधिक एक्टिव रहने का एक कारण यह भी होता है।

इसे भी पढ़ें- प्रेग्नेंसी के दौरान सोंठ का सेवन करने से दूर होती हैं ये 5 समस्याएं, जानें जरूरी सावधानियां

साइटिका के कारण (Causes of Sciatica)

1. अधिक वजन बढ़ना (Weight gain)

अगर आप अधिक वजन बढ़ा लेती हैं तो इससे आपकी सियाटिक नर्व पर अधिक प्रेशर पड़ने लग जाता है जिस कारण आपके पेल्विस में भी दर्द होना शुरू हो जाता है।

2. बढ़ता हुआ यूटरस (Growing Uterus)

कई बार यूटरस के बढ़ने से आपकी स्पाइन पर अधिक प्रेशर पड़ता है जिस कारण आपकी रीढ़ की हड्डी में एक छेद सा हो जाता है जिसमें से फ्लूइड लीक होता रहता है।

3. बढ़ती हुई ब्रेस्ट और बेली (Expanding Belly and Breasts)

अगर आपके शरीर के यह दो भाग बढ़ रहे हैं तो इससे ग्रेविटी के सेंटर में एक बदलाव आता है जिससे आपकी लॉर्डोटिक कर्व स्ट्रेच होती है।

4. बच्चे का शिफ्ट होना (When Baby Shifts in Third Trimester)

तीसरी तिमाही में जब आपका बच्चा जन्म लेने की अवस्था में आ जाता है तो उसका सिर इसी नर्व पर टिका होता है जिससे आपकी नर्व और काफी हिस्सों में दर्द हो सकता है।

5. डायबिटीज और ट्यूमर (Diabetes and Tumor)

डायबिटीज और ट्यूमर के कारण भी यह नर्व प्रभावित हो सकती है।

साइटिका के लक्षण (Symptoms of Sciatica)

  • एकदम से दर्द होना जो एक ही साइड में अधिकतर होता है। लेकिन कई बार दोनों साइड में भी हो जाता है।
  • थोड़ा हल्का दर्द जो आपके कूल्हों से शुरू होता है और आपके पैरों तक जाता है।
  • पैर में सुन्नपन या फिर झनझनाहट महसूस होना।
  • मसल क्रैंप्स होना।

इसे भी पढ़ें- प्रेग्नेंसी के दौरान कान में इंफेक्शन का बढ़ जाता है खतरा, जानें इसका कारण और बचाव के आसान उपाय

प्रेग्नेंसी के दौरान साइटिका के दर्द से कैसे बचें? (Preventive Measurements)

प्रेग्नेंसी के दौरान इस दर्द से बचने के लिए आपको एक्टिव और हेल्दी लाइफस्टाइल रखना पड़ता है। इसके लिए अपने और बच्चे के लिए सुरक्षित एक्सरसाइज करती रहें और अधिक ओवर ईटिंग न करें।

साइटिका के दर्द से राहत दिलाने वाली एक्सरसाइज

1. टेबल स्ट्रेच:

  • इस एक्सरसाइज को करने के लिए एक टेबल लें।
  • इस पर अपने पैर रख लें।
  • आगे की तरफ लेटने की कोशिश करते हुए हाथ टेबल पर रख लें
  • अपने हिप्स को पीछे ले जाने की कोशिश करें।

2. कपोतासन:

  • इस आसन में आपको नीचे बैठ कर एक पैर पीछे की ओर फैलाने हैं।
  • एक पैर को अपने आगे मोड़ कर रखें। आपको एक खिंचाव महसूस होगा।

3. ग्लुट और हैमस्ट्रिंग फोम रोलिंग:

  • एक फोम रोलर लें
  • उसके ऊपर बैठ जाएं।
  • पीछे अपने हाथों को टिकाएं।
  • अपने शरीर को आगे और पीछे करें। ताकि रोलर मूव कर सके।

4. टोरसो ट्विस्ट:

  • एक कुर्सी पर बैठ जाएं।
  • अपने हाथ से कुर्सी का पिछला कोना पकड़ें।
  • अपने शरीर के दाएं हिस्से को पीछे की ओर मोड़ने की कोशिश करें।

इन एक्सरसाइज को करने से आपको साइटिका के दर्द में आराम महसूस होगा। अगर आप प्रेग्नेंसी में इस दर्द से परेशान हैं तो आपको वह काम नहीं करने चाहिए जिनसे यह दर्द ट्रिगर होता है। दर्द की जगह पर हीट कॉम्प्रेस भी करना चाहिए।

Read more on Women Health in Hindi 

Disclaimer