क्या जोड़ों का दर्द ठीक करने के लिए नाभि पर तेल की मालिश वाकई कारगर उपाय है? जानें डॉक्टर की राय

नाभि में मालिश करने से जोड़ों के दर्द से राहत पाया जा सकता है। चलिए एक्सपर्ट से जानते हैं इस बारे में विस्तार से-

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Jul 21, 2021Updated at: Jul 21, 2021
क्या जोड़ों का दर्द ठीक करने के लिए नाभि पर तेल की मालिश वाकई कारगर उपाय है? जानें डॉक्टर की राय

आयुर्वेद ने हमें उपचार के कुछ सबसे सुंदर और जादुई तरीकों का उपहार दिया है, जिनका इस्तेमाल हमारे पूर्वज सदियों से करते आ रहे है। बेली बटन थेरेपी (नाभि की मालिश) उन भूले-बिसरे क्रियाओं में से एक है, जो कि हाल के दिनों में लोगों को अपने तात्कालिक प्रभावों के लिए बहुत ध्यान आकर्षित कर रहा है। आयुर्वेदाचार्य श्रेयांश जैन बताते हैं कि आयुर्वेद में नाभि को शक्ति का केंद्र बिंदु माना गया है जिससे हमारे शरीर की काफी तंत्रिकाएं जोड़ी होती है। इसीलिए नाभि पर तेल की मालिश करने से हमे शारीरिक और मानसिक फायदे मिलते है। आयुर्वेदाचार्य का कहना है कि नाभि की तेल से मालिश करने से न सिर्फ आम बीमारियों को दूर किया जा सकता है, बल्कि इससे जोड़ों में होने वाले दर्द को भी दूर किया जा सकता है। जोड़ों में दर्द हमारी जीवनशैली पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

आयुर्वेदिक एक्सपर्ट का कहना है कि जोड़ों में दर्द होने पर हमारी रोज़मर्रा के कार्य प्रभावित होते हैं। जैसे- खड़े होना, बैठना, चलना, वजन उठाना, झुकना आदि करने में सक्षम नहीं रह पाते हैं। किन्तु नाभि की प्रतिदिन तेल से मालिश करने से जोड़ों में होने वाली परेशानियों से काफी राहत पाया जा सकता है। इससे जोड़ों में दर्द से काफी हद तक राहत पा सकते हैं। आयुर्वेदाचार्य का कहना है कि कुछ आयुर्वेदिक तेल हैं, जिससे नाभि में मालिश करने से आप जोड़ों में दर्द से तुरंत राहत पा सकते हैं। चलिए जानते हैं उन तेल के बारे में- 

1. अरंडी का तेल

अरंडी का तेल ओमेगा-9 और रिसिनोलिक एसिड से भरपूर होता है, जो दर्द कम करने वाले गुणों के लिए जाना जाता है। अरंडी का तेल गठिया से होने वाले घुटने और जोड़ों के दर्द को दूर करने के लिए सबसे लाभकारी माना गया है। साथ ही यह गठिया की वजह से होने वाले सूजन से भी राहत दिला सकता है। गठिया में दर्द और सूजन से राहत पाने के लिए सोते समय अपनी नाभि में तेल डालकर सोएं।

इसे भी पढ़ें -  रत्ती (गुंजा) के पौधे में होते हैं कई औषधीय गुण, आयुर्वेदाचार्य से जानें इसके फायदे, प्रयोग और नुकसान

2. तिल का तेल

तिल का तेल शरीर में बढ़े हुए वात दोष को शांत करने और अवरुद्ध कोशिकाओं को साफ करने में मदद करता है। यह सभी प्रकार के जोड़ों के दर्द और मांसपेशियों से संबंधित विकारों के उपचार में उपयोगी पाया जाता है। अगर आप वात दोष को दूर करना चाहते हैं, तो रात को सोते समय अपनी नाभि में तिल का तेल डालकर सोएं। इससे वात दोष से तुरंत राहत पाया जा सकता है।

3. जैतून का तेल

आयुर्वेदिक एक्सपर्ट श्रैयांश बताते हैं कि जैतून का तेल आवश्यक बायोएक्टिव यौगिकों और एंटीऑक्सिडेंट से समृद्ध होता है। इस तेल को नाभि पर लगाने से ऑस्टियोआर्थराइटिस के कारण उपास्थि क्षति को रोकने में उत्कृष्ट परिणाम मिलता है। इसलिए रात में सोते समय अपने नाभि में जैतून की कुछ बूंदें डालकर सोएं। इससे आपको काफी बेहतर परिणाम मिलेगा।

4. लैवेंडर का तेल

डॉक्टर का कहना है कि लैवेंडर का तेल से नाभि पर मालिश करने से मांसपेशियों के दर्द और पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस से घुटने के दर्द को कम करने में मदद मिलती हैं| इसलिए अगर आप जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द से राहत पाना चाहते हैं, तो रात के समय अपने नाभि की लैवेंडर तेल से मालिश करेँ।

इसे भी पढ़ें - पुरुषों में प्रोस्टेट बढ़ने का लक्षण हैं पेशाब की समस्याएं, आयुर्वेदिक जूस से कम करें प्रोस्टेट का बढ़ना

नाभि में तेल लगाने के अन्य फायदे 

नाभि में तेल लगाने से न सिर्फ जोड़ों का दर्द ठीक हो सकता है। बल्कि इससे कई अन्य परेशानियों को दूर किया जा सकता है। चलिए जानते हैं इस बारे में-

  • नाभि में तेल डालने से चेहरे और बालों की सुंदरता बढ़ती है। यह ड्राई स्किन से परेशान लोगों के लिए फायदेमंद हो सकता है। नाभि में तेल लगाने से आपकी स्किन मॉइश्चराइज होती है। साथ ही आपके लिप्स भी फटते नहीं है। चेहरे से दाग-धब्बों और पिंपल्स को दूर करने के लिए अपने नाभि में नियमित रूप से तेल डालें। यह आपके लिए काफी असरकारी हो सकता है।
  • नाभि में तेल डालने से नाभि में जमे बैड बैक्टीरिया से शरीर का बचाव किया जा सकता है। इससे आप कई तरह के इंफेक्शन से बच सकते हैं। इतना ही नहीं अगर आपके शरीर में कहीं घाव हो जाए, तो उसमें इंफेक्शन होने से बचाव करने में असरकारी होता है। ऐसे में अपने नाभि में तेल की कुछ बूंदें जरूर डालें।
  • नाभि में तेल डालने से शरीर में होने वाले सूजन से राहत पा सकते हैं। 
  • नियमित रूप से नाभि में तेल डालने से प्रजनन क्षमता को बेहतर किया जा सतता है। इसके साथ ही इससे आपके शरीर का हार्मोंस संतुलित रहता है। 
  • पीरियड्स में दर्द होने पर अपने नाभि में तेल डालें। इससे आपके शरीर में होने वाली ऐंठन, दर्द और मरोड़ से राहत मिलेगा।
  • नाभि में तेल डालने से पेट दर्द, गैस, अपच जैसी परेशानियों से भी राहत दिलाने में असरकारी होता है।

नाभि में तेल डालना आपके स्वास्थ्य के लिए कई मायनों में लाभकारी है। इसलिए रात को सोते समय अपने नाभि में 2 से 3 बूंदें तेल डालें। इससे आपकी कई सारी परेशानियां दूर होंगी। 

ये आर्टिकल medy365.com के सीईओ और आयुर्वेदिक एक्सपर्ट श्रेयांश के बताए गए इनपुट के आधार पर लिखा गया है। 

Read More Articles on ayurveda in hindi 

Disclaimer