पुरुषों में प्रोस्टेट बढ़ने का लक्षण हैं पेशाब की समस्याएं, आयुर्वेदिक जूस से कम करें प्रोस्टेट का बढ़ना

प्रोस्टेट की समस्या बढ़ने पर पेशाब करने के लिए काफी ज्यादा बार जाना पड़ता है। आयुर्वेद में इस समस्या का इलाज मौजूद है। साथ ही इसे कम करने के नुस्खे भी

Kishori Mishra
Written by: Kishori MishraPublished at: Jun 24, 2021Updated at: Jun 24, 2021
पुरुषों में प्रोस्टेट बढ़ने का लक्षण हैं पेशाब की समस्याएं, आयुर्वेदिक जूस से कम करें प्रोस्टेट का बढ़ना

बढ़ती उम्र में प्रोस्सेट की समस्या एक आम बात हो चुकी है। जैसे-जैसे व्यक्ति की उम्र बढ़ती है, वैसे-वैसे अधिकतर लोगों को प्रोस्टेट बढ़ने लगता है। ऐसी स्थिति में प्रोस्टेट बढ़ने के कारण प्रोस्टेट कैंसर होने का खतरा भी बढ़ने लगता है। दिल्ली के संजीवनी क्लीनिक के आयुर्वेदाचार्य डॉक्टर एम मुफिक बताते हैं कि उम्र बढ़ने के साथ-साथ प्रोस्टेट भी बढ़ने लगता है। इस स्थिति में कुछ लोगों का प्रोस्टेट 100 ग्राम तक पहुंच जाता है। जिसकी वजह से प्रोस्टेट कैंसर होने का खतरा होता है। इस समस्या में सबसे दुखद बात यह है कि प्रोस्टेट का ऑपरेशन होने के बावजूद भी इसके बढ़ने की संभावना रहती है। ऐसे में प्रोस्टेट को बढ़ने से रोकने के लिए इसका स्थायी समाधान अपनाने की आवश्यकता होती है। प्रोस्टेट को रोकने के लिए हमें अपने दिनचर्या और खानपान में बदलाव की आवश्यकता होती है। इस समस्या से बचाव के लिए एक बेहतरीन आयुर्वेदिक जूस है, जिसका सेवन करने से प्रोस्टेट को बढ़ने से रोका जा सकता है। जूस बनाने की विधि जानने से पहले आइए जानते हैं आखिर क्या है प्रोस्टेट?

क्या है प्रोस्टेट?

प्रोस्टेट पुरुषों में एक अखरोट के आकार की ग्रंथि होती है। इसमें वीर्य का उत्पादन होता है, जो स्पर्म के लिए पोषण जुटाने का कार्य करता है। अगर व्यक्ति को प्रोस्टेट कैंसर हो जाए, तो इससे इसका विकास धीमा और सीमित हो जाता है। 

इसे भी पढ़ें - नाक में घी डालकर की जाती है 'घृत नेति' की क्रिया, एक्सपर्ट से जानें इसके 10 फायदे और सावधानियां

प्रोस्टेट बढ़ने से होने वाली समस्याएं

  • प्रोस्टेट बढ़ने से प्रोस्टेट कैंसर होने का खतरा रहता है। 
  • इसके अलावा जिन लोगों का प्रोस्टेट बढ़ता है, उन्हें बार-बार पेशाब आती है। 
  • बार-बार पेशाब होने की वजह से नींद पूरी न होने की समस्या हो सकती है। 
  • पेशाब एक बार में क्लियर न होना।
  • पेशाब में जलन होना। 

इत्यादि लक्षण प्रोस्टेट बढ़ने पर आपको नजर आ सकते हैं। इस तरह के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। ताकि कैंसर की संभावना होने पर आपका सही समय पर इलाज किया जा सके। 

प्रोस्टेट बढ़ने से रोके ये आयुर्वेदिक जूस

प्रोस्टेट को बढ़ने से रोकने के लिए लौकी से तैयार आयुर्वेदिक जूस काफी फायदेमंद हो सकता है। अगर आप नियमित रूप से इस जूस का सेवन करते है, तो आपको प्रोस्टेट को बढ़ने से रोकने के लिए ऑपरेशन करने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी। 

  • जूस बनाने के लिए सबसे पहले 1 लौकी लें।  
  • इस लौकी को अच्छे से छील कर छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें। 
  • लौकी को काटने के बाद इसे एक मिक्सर जार में डालें। 
  • अब इस जार में तुलसी की कुछ पत्तियों को मिक्स करें। 
  • दोनों चीजों को मिक्स करने के बाद अच्छे से ग्राइंड करें।
  • जब लौकी और तुलसी की पत्तियां महीन हो जाए, तो इसे छलनी की मदद से छानें। 
  • जूस के हिस्से को आप एक गिलास में भरकर पिएं।
  • बाकि के भाग को आप किसी सब्जी या फिर दाल में मिक्स कर सकते हैं। यह आपके स्वास्थ्य के लिए गुणकारी हो सकता है।

कब पिएं ये जूस

एम मुफिक बताते हैं कि इस जूस का सेवन आप किसी भी समय कर सकते हैं। बढ़ती उम्र के दौरान आप इसे नियमित रूप से अपने डाइट में शामिल करें। सुबह शाम कभी भी एक गिलास लौकी और तुलसी का जूस पिएं। इससे प्रोस्टेट बढ़ने की परेशानी से राहत पा सकेंगे।   

इसे भी पढ़ें - वरुण का पौधा है इन 8 बीमारियों का आयुर्वेदिक इलाज, एक्सपर्ट से जानें इसके फायदे, नुकसान और प्रयोग

प्रोस्टेट को कम करने के कुछ अन्य टिप्स

  • डॉक्टर मुफिक का कहना है कि प्रोस्टेट को कम करने के लिए आप नियमित रूप से प्राणायाम करें। अगर आपका प्रोस्टेट 50 से 100 ग्राम तक बढ़ गया है, तो कपालभाति प्राणायाम आपके लिए काफी लाभकारी हो सकता है। 
  • इसके अलावा सुबह उठकर एक्यूप्रेशर करें। प्रोस्टेट को कम करने के लिए हथेली के बीच में प्रेश करें। इससे प्रोस्टेट बढ़ने की परेशानी से छुटकारा मिल सकेगा।
  • सुबह जल्दी उठने की आदत डालें। 
  • खाने में ज्यादा मसाले यूज न करें।
 

प्रोस्टेट बढ़ना पुरुषों में काफी आम बीमारी है। अगर आपको बार-बार पेशाब या फिर रुक-रूक कर पेशाब हो रहा है, तो किसी अच्छे यूरोलॉजिस्ट से संपर्क करें। ताकि प्रोस्टेट का सही इलाज हो सके। साथ ही आयुर्वेदिक तरीकों से आप प्रोस्टेट का इलाज करवाना चाहे हैं, तो अपने आसपास किसी आयुर्वेदाचार्य से अपना इलाज कराएं।

Read More Articles on ayurveda in hindi 
Disclaimer