पेट की चर्बी कम करने के लिए बेस्ट योगासन है हलासन, जानें करने का तरीका

Can Halasana Reduce Belly Fat: हलासन करने से आपका बैली फैट तेजी से कम हो सकता है। इससे आपके शरीर में लचीलापन आता है। 

Dipti Kumari
Written by: Dipti KumariPublished at: Aug 31, 2022Updated at: Aug 31, 2022
पेट की चर्बी कम करने के लिए बेस्ट योगासन है हलासन, जानें करने का तरीका

Can Halasana Reduce Belly Fat: आज के समय में बढ़ा हुआ वजन लोगों के लिए बीमारी का कारण बन सकता है। ऐसे में लोग अपने वजन और बैली फैट को कम करने के लिए कई तरह की मेहनत करते हैं। लेकिन इसके लिए सबसे जरूरी है कि आप रोजाना योगासन का अभ्यास करें। इससे न केवल आपके पेट की चर्बी कम हो सकती है बल्कि आप तेजी से वजन भी कम कर सकते हैं। इससे आपके पेट की मांसपेशियां भी मजबूत होती है। अगर भागदौड़ में आपको जिम जाने या एक्सरसाइज करने का अलग से समय नहीं मिल पाता है, तो आप घर पर ही ट्रेनर की मदद से इस योगासन का अभ्यास कर सकते हैं। इससे रीढ़ की हड्डी भी मजबूत होती है और आपके शरीर में लचीलापन भी बढ़ता है। इसके नियमित अभ्यास से शरीर अंदर से मजबूत बनता है और सुडौल बनता है। आइए बैली फैट कम करने के लिए हलासन के फायदे और इसे करने के सही तरीके के बारे में विस्तार से जानते हैं। 

halasana-benefits-for-reduce-belly-fat

हलासन करने के फायदे

1. हलासन करने से आप तेजी से वजन घटा सकते हैं। इससे शरीर और पेट की मांसपेशियां मजबूत होती है। 

2. यह हिप्स और कंधों को मजबूत बनाता है और जांघों की अतिरिक्त चर्बी को कम कर सकता है। 

3. अगर आप ऑफिस या लैपटॉप में काम करने के कारण गलत पोश्चर में बैठते हैं, तो इस योगासन की मदद से आप अपने पोश्चर को ठीक कर सकते हैं। 

4. हलासन का अभ्यास करने से आपका पाचन तंत्र मजबूत होता है और मेटाबॉलिज्म रेट बढ़ाने में भी मदद मिलती है। 

5. इस योगासन के अभ्यास से आप अपने तनाव, पीरियड्स और गर्दन की चोट के दौरान होने वाले दर्द को दूर कर सकते हैं। 

6. यह लोअर बैली फैट को भी कम कर सकता है और शरीर को लचीला बनाता है। 

7. इससे गैस, कब्ज और अपच की दिक्कत दूर हो सकती है। 

इसे भी पढ़ें- बैली फैट कम करने के लिए करें ये 3 प्लैंक वेरिएशन, तेजी से घटेगी चर्बी

how-to-reduce-belly-fat

हलासन करने के लिए अपनाएं ये स्टेप्स

1. हलासन करने के लिए सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएं। 

2. इसके बाद सांस अंदर लेते हुए पैरों को धीरे-धीरे उठाएं। 

3. पैरों को पहले 30 डिग्री फिर 90 डिग्री तक उठाने के बाद पैरों को सिर के पीछे की ओऱ ले जाएं। 

4. इसके साथ में पीठ को भी ऊपर उठाते हुए श्वास बाहर निकालते हुए ले जाएं।

5. बाद में पैरों को सिर के पीछे जमीन पर टिका दें। इस दौरान सांस लेते रहें। 

6. अपनी सुविधा के लिए आप कमर के पीछे हाथ लगा सकते हैं। 

7. इस स्थिति में 30 सेकेंड के लिए रहें। 

8. फिर धीरे-धीरे आप प्रांरभिक अवस्था में आ सकते हैं।

(All Image Credit- Freepik.com)

Disclaimer