घाव, दर्द और त्वचा रोगों में फायदेमंद है 'खोकली का पौधा', जानें इस आयुर्वेदिक औषधि के 5 लाभ

कई बीमार‍ियों को दूर करने के ल‍िए खोकली का पौधा फायदेमंद होता है, जानि‍ए इसके बारे में

Yashaswi Mathur
Written by: Yashaswi MathurPublished at: Aug 11, 2021Updated at: Aug 11, 2021
घाव, दर्द और त्वचा रोगों में फायदेमंद है 'खोकली का पौधा', जानें इस आयुर्वेदिक औषधि के 5 लाभ

खोकली औषध‍ि के कई आयुर्वेद‍िक फायदे हैं। खोकली औषध‍ि क‍िन समस्‍याओं में लाभदायक है? इस औषध‍ि के इस्‍तेमाल से आप स‍िर के दर्द, मांसपेश‍ियों के दर्द, त्‍वचा रोग, घाव आद‍ि समस्‍याओं से न‍िजात पा सकते हैं। खोकली को कॉपर लीफ भी कहा जाता है। खोकली हर्ब में एंटी-फंगल और एंटी-बैक्‍टीर‍ियल गुण होते हैं। इस लेख में हम खोकली औषधि के फायदे और इस्‍तेमाल करने के तरीकों पर चर्चा करेंगे। इस व‍िषय पर ज्‍यादा जानकारी के ल‍िए हमने लखनऊ के व‍िकास नगर में स्‍थित प्रांजल आयुर्वेद‍िक क्‍लीन‍िक के डॉ मनीष स‍िंह से बात की।

khokli herb

(image source:wikimedia)

1. कीड़ा काट लें तो करें खोकली औषध‍ि का इस्‍तेमाल (Khokli herb cures insect wound)

कीड़े के काटने पर भी खोकली औषध‍ि का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। खोकली औषध‍ि की पत्‍त‍ियों के रस को घाव वाली जगह पर लगा दें और छोड़ दें, इससे त्‍वचा में जलन या सूजन की समस्‍या दूर हो जाएगी। फंगल इंफेक्‍शन होने पर भी खोकली औषध‍ि का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। कुछ लोग इसका इस्‍तेमाल पाइल्‍स और पेट के इंफेक्‍शन में भी करते हैं पर इंटरनल यूज करने से कुछ लोगों को उल्‍टी की समस्‍या होती है इसल‍िए डॉक्‍टर इसकी सलाह नहीं देते। 

इसे भी पढ़ें- मांसपेशियों का दर्द (मसल पेन) दूर करने के लिए इन 5 तेलों से करें मसाज

2. सि‍र का दर्द दूर करने के ल‍िए फायदेमंद है खोकली (Khokli herb cures headache)

खोकली की पत्‍त‍ियों के इस्‍तेमाल से स‍िर का दर्द दूर होता है, इसका इस्‍तेमाल करने के ल‍िए आप खोकली की पत्‍त‍ियों का रस स‍िर पर लगा लें। इससे आपको स‍िर के दर्द से न‍िजात म‍िलेगा। आप खोकली की पत्‍त‍ियों से रस न‍िकालकर उस रस को सीसम के तेल में म‍िलाकर गरम कर लें और तेल के गुनगुना होने पर उस तेल से बॉडी की माल‍िश कर लें, इससे भी दर्द दूर हो जाएगा। 

3. मांसपेश‍ियों में दर्द होने पर इस्‍तेमाल करें खोकली (Khokli herb cures muscle pain)

khokli herb benefits

(image source:blogspot.com)

खोकली में एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं, अगर आपकी मांसपेश‍ियों में दर्द या सूजन है तो आप खोकली औषध‍ि का इस्‍तेमाल करें। इसके ल‍िए आपको खोकली की पत्‍त‍ियों का रस न‍िकालना है और उसे नीलग‍िरी या नार‍ियल के तेल में मिलाना है, इसके बाद उस जगह माल‍िश करें जहां दर्द है। माल‍िश करने के बाद उस ह‍िस्‍से को ढककर आराम करें, दर्द से राहत म‍िलेगी।  

4. त्‍वचा रोगों में फायदेमंद है खोकली (Benefits of khokli herb in skin diseases)

अगर आपको खुजली या त्‍वचा में रैशेज की समस्‍या है तो आप खोकली औषध‍ि का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। अगर त्‍वचा में फफोले या दाने हो गए हैं तो भी आप खोकली औषध‍ि का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। स्‍क‍िन रैशेज या खुजली की समस्‍या दूर करने के लि‍ए खोकली औषध‍ि के पत्‍त‍ियों को पीसकर उसका लेप बना लें और उसमें गुलाब जल म‍िलाकर त्वचा पर लगाएं, इससे त्‍वचा की बदबू, खुजली, रैशेज आद‍ि समस्‍या दूर होगी। 

इसे भी पढ़ें- कमर दर्द, योनि में दर्द, कब्ज जैसी इन 5 समस्याओं में फायदेमंद है 'रास्ना' औषधि, जानें प्रयोग का तरीका

5. त्‍वचा में घाव को ठीक करती है खोकली औषधि (Khokli herb cures wound)

खोकली के पौधे की पत्‍त‍ियों को हल्‍दी में म‍िलाकर घाव पर लगाने से घाव भरने लगता है, ये घाव ठीक करने का आयुर्वेद‍िक इलाज है। आपको खोकली की पत्‍तियों को पीसकर पेस्‍ट बनना है और पेस्‍ट में हल्‍दी म‍िलानी है। अब इस पेस्‍ट को चोट या घाव वाले ह‍िस्‍से में लगा लें, अगर चोट ज्‍यादा गहरी है तो देरी न करें, डॉक्‍टर के पास जाएं। बेड सोर्स की समस्‍या होने पर खोकली की सूखी पत्‍त‍ियों का पाउडर बनाकर इस्‍तेमाल किया जाता है। 

अगर आपको कोई गंभीर बीमारी या त्‍वचा से संबंधी रोग है तो आप डॉक्‍टर की सलाह पर ही इस औषध‍ि का इस्‍तेमाल करें। 

(main image source:indiabiodiversity)

Read more on Ayurveda in Hindi

Disclaimer