मांसपेशियों में अकड़न और मरोड़ का कारण और बचाव के टिप्स

मांसपेशियों में अकड़न और मरोड़ की समस्या का सही समय पर इलाज करना जरूरी है। जानें ये समस्या क्यों होती है और इसे कैसे रोकें।

Monika Agarwal
विविधWritten by: Monika AgarwalPublished at: May 27, 2021
मांसपेशियों में अकड़न और मरोड़ का कारण और बचाव के टिप्स

मांसपेशियों में मरोड़ (Muscle Twitching) की समस्या को मसल फेसिकुलेशन (Muscles Fasciculation) भी कहा जाता है। जो कि किसी ना किसी वजह से हो ही जाती है और दर्द का कारण बनने लगती है। मरोड़ (Twitching) में शरीर की छोटी छोटी मांसपेशियों में भी संकुचन होती हैं। हमारी मांसपेशियां फाइबर से बनी होती हैं जिसे नसें कंट्रोल करती हैं। हद से ज्यादा योग, एक्सरसाइज़ आपकी मांसपेशियों को कभी कभी प्रभावित कर सकती हैं। ज्यादातर लोग मांसपेशियों में हो रही मरोड़ (Twitching) की ओर ध्यान नहीं देते। सामान्य तौर पर ये चिंता का कारण नहीं है लेकिन कुछ स्थिति में जब समस्या ज्यादा लगने लगे तो आपको अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लेनी चाहिए। आज का हमारा ये लेख इसी समस्या पर आधारित है।

muscle twiching causes

क्या है मांसपेशियों में मरोड़ का कारण (Common Causes For Muscle Twitching)

मांसपेशियों में मरोड़ की समस्या का कारण आमतौर पर मामूली होता है। लेकिन ये मामूली वजह कभी-कभी बड़ी मुसीबत बन सकती है। ये कारण क्या है आइये जानते हैं।

  • शारीरिक गतिविधि के बाद मांसपेशियों में लैक्टिक एसिड जमा हो जाता है और तब ये हाथ व पैर और पीठ को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है।
  • तनाव और चिंता के कारण भी मांसपेशियों में मरोड़ की समस्या होने लगती है। इसे मेडिकल टर्म में नर्वस टिक्स भी कहते हैं।
  • ज्यादा कैफीन या एल्कोहल के सेवन की वजह से भी मांसपेशियों में मरोड़ होने लगती है।
  • शरीर में विटामिन डी, विटामिन बी और कैल्शियम जैसे पोषक तत्वों की कमी की वजह से भी ये समस्या हो सकती है।
  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स और एस्ट्रोजन गोलियों के सेवन से भी शरीर की मांसपेशियों में ऐंठन हो सकती है।

क्या है गम्भीर कारण (Serious Causes of Muscle Twitching)

हमारी रोजमर्रा की जिंदगी और खाने पीने की आदतें मांसपेशियों में मरोड़ या ऐंठन का कारण बनती है। जो ज्यादा गम्भीर कारणों की वजह भी होती हैं। कभी कभी हमारे शरीर के अंदर किसी कमी की वजह से भी हमें ये समस्या झेलनी पड़ सकती है जो दिमाग और रीढ़ को प्रभावित कर सकती है।

  • मस्कुलर डिस्ट्रॉफी नाम की एक ऐसी बीमारी है जो जितनी पुरानी होती जाएगी, मांसपेशियों को उतनी ही प्रभावित करती हैं। जो चेहरे, गर्दन, कंधे और कूल्हों की मांसपेशियों में ऐंठन का कारण बनती है।
  • एमियोट्रोफिक लेटरल स्क्लेरोसिस नाम की बीमारी में शरीर के अंदर की तंत्रिका कोशिकाएं खत्म होने लगती हैं। जिससे पहले हाथ और फिर पैर बुरी तरह से प्रभावित होने लगते हैं।
  • स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी नाम की बिमारी से रीढ़ की हड्डी की मांसपेशियों को काफी नुकसान पहुंचता है।
  • आइजैक सिंड्रोम नाम की बिमारी से मांसपेशियों के उपर की नसों को काफी प्रभावित करती है। जिससे बार बार मांसपेशियों में मरोड़ की समस्या होने लगती है।

मांसपेशियों में मरोड़ का उपचार (Treatment For Muscle Twitching)

अगर आप भी मांसपेशियों में मरोड़ या ऐंठन की समस्या से जूझ रहे हैं तो आप डॉक्टर से सम्पर्क करें। इसके लिए डॉक्टर आपको टेस्टिंग की सलाह दे सकता है।

  • इलेक्ट्रोलाइट स्तर और थायराइड की टेस्टिंग से उपचार शुरू किया जा सकता है।
  • एमआरआई स्कैन और सिटी स्कैन की सलाह भी डॉक्टर आपको दे सकता है।
  • इलेक्ट्रोमोग्राफी के जरिये मांसपेशियों की समस्या को कंट्रोल किया जा सकता है।
  • शारीरिक परीक्षण के जरिये आपका डॉक्टर आपकी मांसपेशियों में मरोड़ की समस्या के उपचार में मदद कर सकते हैं।

मांसपेशियों की मरोड़ का क्या है बचाव (Preventions)

मांसपेशियों में मरोड़ (Muscle Twitching) की समस्या आम तो है लेकिन इसका उपचार कभी कभी आम भी हो सकता है। लेकिन समस्या गहरी है तो आप डॉक्टर से सम्पर्क करें, वो आपको इससे निजात दिलाने के लिए कुछ दवाओं को लिख सकता है।

how to treat muscle twiching

मांसपेशियों की ऐंठन को कैसे रोकें (Precautions)

कभी कभी मांसपेशियों में ऐंठन या मरोड़न (Muscle Twitching) असहनीय हो जाती है। आप इसे रोकने के लिए कुछ जरूरी काम कर सकते हैं। जो बेहद आसान है।

  • अपने आहार में संतुलित पोषक तत्वों को शामिल करें।
  • ताजे फल और सब्जियों को ज्यादा से ज्यादा खाएं।
  • साबुत अनाज का सेवन करें।
  • पर्याप्त नींद के साथ प्रोटीन का सेवन भी जरूरी है।
  • तनाव कम करने के लिए योग और ध्यान की मदद लें।
  • कैफीनयुक्त ड्रिंक्स और खाद्य पदार्थों का सेवन कम करें।
  • स्मोकिंग छोड़ने की कोशिश करें, क्योंकि इससे होने वाली अन्य गम्भीर समस्याओं का खतरा कम होता है।
  • अगर आप कोई उत्तेजक दवा ले रहे हैं तो इसे मांसपेशियां प्रभावित होती हैं। आप इसे तुरंत बदल लें।

मांसपेशियों में ऐंठन या मरोड़ की समस्या से ज्यादातर लोग जूझ रहे हैं। इस समस्या का समय से उपचार किया जाये तो वही बेहतर होगा। आप हमारी बताई हुई टिप्स से काफी हद तक मदद ले सकते हैं।

Read More Articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer