पीरियड्स के दर्द में ट्राई करें ये सेल्फ एक्युप्रेशर टिप्स, एब्डोमिनल पेन और मूड स्विंग्स से भी मिलेगी राहत

पीरियड्स में ऐंठन और दर्द को कम करना चाहते हैं, तो आप इस आसान सेल्फ एक्युप्रेशर टिप्स को एक बार जरूर आजमाएं।

Pallavi Kumari
Written by: Pallavi KumariUpdated at: Aug 29, 2020 14:43 IST
पीरियड्स के दर्द में ट्राई करें ये सेल्फ एक्युप्रेशर टिप्स, एब्डोमिनल पेन और मूड स्विंग्स से भी मिलेगी राहत

एक्यूप्रेशर एक पुरानी लेकिन व्यवहार्य तकनीक है, जो पारंपरिक चीनी चिकित्सा से ली गई है। ऐसा माना जाता है कि शरीर पर कुछ नरम बिंदुओं पर दबाव डालने से दर्द से राहत मिलती है। पर क्या पीरियड्स के दर्द में भी एक्युप्रेशर काम आ सकता है। दरअसल आयुर्वेद भी महिलाओं को पीरिएड्स के दर्द में दवाइयों की जगह घरेलू उपचारों की मदद लेने को कहता है। ऐसे में एक्यूप्रेशर आपकी मदद कर सकता है। दरअसल शरीर के कुछ एक्यूप्रेशर प्वाइंट्स हैं, जिन पर दबाव बना कर पीरियड के दर्द (acupressure for period pain) से राहत मिल सकती है। वहीं इसका मू़ड स्विंग्स पर भी सकारात्मक परिणाम होता है। तो आइए जानते हैं पीरियड्स के दर्द को कम करने के लिए सेल्फ एक्युप्रेशर टिप्स।

periodspain

एक्यूप्रेशर पीरियड्स के दर्द में कैसे मदद कर सकता है (acupressure for periods)?

पीरियड्स में दर्द, एब्डोमिनल पेन और मूड स्विंग्स महिला द्वारा सामना किए जाने वाले सबसे सामान्य लक्षणों में से एक है। लगभग हर 50 से 90 प्रतिशत युवा महिलाओं को हैवी पीरियड्स का अनुभव होता है और इसमें उन्हें बहुत दर्द होता है। कई बार, यह इतना गंभीर होता है कि इससे कुछ महिलाओं में पेट में ऐंठन, पीठ में दर्द और दस्त होने लगते हैं। तो वहीं कुछ महिलाों को इसके कारण बुखार भी हो जाता है। साथ ही शरीर थकान का अनुभव करता है और ठीक से काम नहीं कर पाता है। ऐसे में एक्यूप्रेशर प्रभावी माना जाता है और पीरियड्स के दर्द को कम करने में मदद करता है। 

insideacupressurepointsinperiods

इसे भी पढ़ें : Period Flu: पीरियड्स से पहले या बुखार, सिरदर्द या मतली आना हो सकते है पीरियड फ्लू के लक्षण, जानें क्‍या है ये

पीरियड्स के दर्द से निजात पाने के लिए दबाएं शरीर के ये 7 एक्युप्रेशर प्वाइंट्स

आपको और कुछ नहीं करना बस इन दोनों प्रेशर पॉइंट्स को एक-एक करके दबाना है। पहले एक पॉइंट को दबाएं, थोड़ी देर होल्ड करें और फिर दूसरा पॉइंट दबाएं। दोनों पॉइंट्स को बारी-बारी 5 मिनट तक दबाएं और फिर दूसरे हाथ के प्रेशर पॉइंट्स पर जाएं।

  • 1.सबसे पहले, अपने अंगूठे और तर्जनी का उपयोग करके दूसरे हाथ के अंगूठे और तर्जनी के बीच के स्थान पर एक्युप्रेशर प्वाइंट को दबाएं।
  • 2. इसके बाद, घुटने के नीचे और पैरों के बीट जो मांसपेशियां है, उन पर चार अंगुलियों से चौड़ाई बनाते हुए दबाव डालें।
  • 3. अब अपने हाथों को अपने पीठ के टेलबोन के विपरीत रखें और दो मिनट के लिए उन पर लेट जाएं। यह आपके वैजाइनल एरिया को आराम पहुंचाएगा और दर्द को दूर करने में मदद करेगा।
  • 4.फिर, अपने हाथों को अपनी पीठ से हटा दें और अपने पेट के नीचे (बैली बटन) दो इंच दबाव डालें। अगर आपको दर्द हो तो इसे हल्के से दबाएं।
  • 5.अपने हाथों को थोड़ा और नीचे ले जाएं और अपनी जांघ की हड्डी के केंद्र पर दबाव डालें। इससे आपको बेहचर महसूस होगा।
  • 6.फिर, हल्के दबाव बनाते हुए अपने हाथों को प्रत्येक तरफ आधा इंच घुमाएं। आपको दर्द से थोड़ा राहत महसूस होगा।
  • 7.अंत में, वैजाइनल एरिया के दोनों तरह दोनों अंगूठे से दबाव बनाएं। इसके बाद एक मिनट के लिए अपनी तर्जनी के साथ फिर दबाव डालें। अब आरामा हाथ हटाएं और लेट जाएं। आपको अच्छा महसूस होगा।

इसे भी पढ़ें : पीरियड्स के दौरान खून के थक्‍के आने से हैं परेशान, तों जानिए क्‍या हैं इसके कारण और उपाय

साथ ही इन एक्यूप्रेशर प्वाइंट्स दबाने का आपके मानसिक स्वास्थ्य पर भी असर दिखता है, जिसकी वजह से पीरिड्स के दौरान महसूस होने वाला चिढ़चिढ़ापन और गुस्से में भी कमी आती है। साथ ही ये एंग्जायटी और मूड स्विंग्स को कंट्रोल करने में भी मदद करता है। तो इस बार पीरियड्स में दर्द हो, तो एक बार सेल्फ एक्युप्रेशर के इन टिप्स को आजमा कर जरूर देखें।

Read more articles on Women's Health in Hindi

Disclaimer