हिप्स की चर्बी काे कम करने के लिए रोज करें ये 3 याेगासन

Yoga to Reduce Hips Fat : हिप्स की चर्बी काे कम करने के लिए आप राेजाना 3 याेगासन कर सकते हैं। इससे आपकी फिगर एकदम परफेक्ट नजर आएगी।

Anju Rawat
Written by: Anju RawatPublished at: Oct 11, 2021
हिप्स की चर्बी काे कम करने के लिए रोज करें ये 3 याेगासन

क्या आप हिप्स की चर्बी काे कम करना चाहते हैं? कई लाेग अपने बैली फैट से परेशान हाेते हैं, ताे कुछ लाेग आर्म फैट से। इतना ही नहीं कुछ थाई फैट ताे कुछ लाेग अपने हिप्स फैट काे कम करना चाहते हैं। शरीर के किसी भी हिस्से पर फैट जमा हाेना खूबसूरती काे खराब कर देता है। फैट किसी भी व्यक्ति काे फिट बनने से राेकता है। इसलिए नियमित रूप से याेगा करना बहुत जरूरी हाेता है। आज हम आपकाे हिप्स के फैट कम (Burn Hips Fat) करने के लिए बेहद ही कारगर याेगासनाें के बारे में बताने जा रहे हैं। अगर आप राेजाना इन याेगासनाें काे करेंगे, ताे जल्दी ही आपके हिप्स का फैट बर्न हाेने लगेगा।

butterfly pose benefits

(Image : Freepik)

हिप्स की चर्बी कम करने के लिए याेगासन (Yoga Asanas to Reduce Hips Fat)

अधिकतर लाेग अपने कूल्हाें या हिप्स पर जमी चर्बी से परेशान हैं। वे किसी भी तरीके से इससे छुटकारा पाना चाहते हैं। अकसर लाेग इस फैट काे कम करने के लिए जिम में हैवी वेट उठाते हैं, हैवी एक्सरसाइज करते हैं। जबकि आप चाहें ताे घर पर ही राेजाना 15 मिनट निकालकर भी हिप्स की चर्बी काे कम (Burn Hips Fat) कर सकते हैं। 

1. तितली आसन (Titli Asana Burn or Reduce Hips Fat) 

हिप्स के फैट काे कम करने के लिए तितली आसन करना बेहद कारगर साबित हाे सकता है। इस आसन काे करना बहुत ही आसान है। यह दाे शब्दाें तितली और आसन से मिलकर बना है। इसमें व्यक्ति काे अपने पैराें काे तितली की तरह ऊपर-नीचे हिलाना हाेता है। इस आसन काे बटरफ्लाई पाेज और बद्धकाेणासन (पैराें में सुन्नपन के लिए तितली आसन) भी कहा जाता है। इस राेज करने से स्वास्थ्य काे कई लाभ मिलते हैं।

कैसे करें तितली आसन (Titli Asana Steps)

  • तितली आसन करने के लिए सबसे पहले याेगा मैट पर सुखासन में बैठ जाएं।
  • अब अपने शरीर और सांसाें काे सामान्य करें। 
  • अपने दाेनाें पैराें काे घुटनाें से माेड़ते हुए तलवाें काे आपस में मिला लें।
  • इसके बाद दाेनाें हाथाें की उंगुलियाें काे इंटरलॉक करें।
  • फिर पैराें के पंजाें काे मुट्ठी से हाेल्ड कर लें। 
  • आखिरी में पैराें काे तितली के पंखाें की तरह धीरे-धीरे ऊपर-नीचे मूव करें।
  • इस आसन काे आप 5-8 मिनट तक कर सकते हैं।

तितली आसन के लाभ (Titli Asana Benefits)

  • तितली आसन (Butterfly Posture) काे राेजाना करने से आप अपने हिप्स की चर्बी काे काफी हद तक कम कर सकते हैं। 
  • यह हिप के साथ ही जांघाें या थाई और बैली फैट काे भी कम करता है। 
  • इसे राेज करने से पेल्विक मसल्स टाेन हाेती हैं।
  • कमर, पीठ दर्द में आराम मिलता है।
  • पीरियड्स के दौरान हाेने वाले क्रैंप्स, दर्द और अनियमितता से निजात दिलाता है।
  • घुटनाें काे आराम मिलता है और आप एनर्जेटिक महसूस करेंगे।

तितली आसन करते हुए सावधानियां (Precautions During Titli Asana or Butterfly Posture)

  • तितली आसन भले ही पीरियड्स के क्रैंप्स काे कम करता है, लेकिन पीरियड्स के दौरान इस नहीं करना चाहिए। 
  • घुटनाें और पीठ में चाेट लगने पर इस आसन काे करने से बचें।
  • गर्भवती महिलाओं काे भी इस याेगासन काे नहीं करना चाहिए।
malasana to hips fat burn
 
(Image : Freepik)

2. मलासन (Malasana Reduce Hips Fat)

अगर आप हिप्स के फैट काे कम करना चाहते हैं, ताे इसके लिए राेजाना मलासन कर सकते हैं। यह एक स्क्वाटिंग एक्सरसाइज है। इस आसन काे गारलैंड पाेज के नाम से भी जाना जाता है। इस अवस्था में आपकाे नमस्कार की मुद्रा में बैठना हाेता है। इसमें व्यक्ति मल त्याग की अवस्था में बैठता है, इसलिए इसे मलासन (गैस-कब्ज के छुटकारा दिलाए मलासन) कहा जाता है।

मलासन करने का तरीका (How to do Malasana)

  • मलासन करने के लिए सबसे पहले किसी शांत वातावरण में सीधे खड़े हाे जाएं।
  • इस दौरान अपने पैराें के बीच एक से डेढ़ फीट की दूरी बनाकर रखें।
  • अब अपने घुटनाें काे माेड़ते हुए तलवाें काे जमीन पर रख लें। कुर्सी पर बैठने की पाेजिशन मेंटेन करें। लेकिन इस दौरान कुर्सी पर नहीं बैठना है।
  • अपनी दाेनाें हथेलियाें काे काेहनियाें से माेड़ते हुए छाती के पास ले जाएं और नमस्कार की मुद्रा बना लें।
  • इस अवस्था में अपनी क्षमतानुसार बैठे रहें। इस प्रक्रिया काे आप 10-15 बार दाेहरा सकते हैं।

मलासन के फायदे (Health Benefits of Malasana)

  • मलासन करने से तन और मन दाेनाें स्वस्थ रहते हैं। यह शारीरिक और मानसिक रूप से व्यक्ति काे स्वस्थ रखता है।
  • मलासन करने से कूल्हाें या हिप्स पर जमी चर्बी से छुटकारा मिलता है।
  • मलासन करने से पेल्विक एरिया पर खिंचाव महसूस हाेता है। जिससे इसकी मसल्स मजबूत बनती हैं।
  • गैस, कब्ज की समस्या से छुटकारा दिलाता है।
  • यह मेटाबॉलिज्म और पाचन तंत्र काे मजबूत बनाता है।
  • टखनाें और घुटनाें काे मजबूत बनाता है।

मलासन करते हुए सावधानियां (Precautions During Malasana)

  • मलासन काे हमेशा खाली पेट ही करें। खाना खाने के तुरंत बाद इस याेगासन काे करने से बचें। 
  • खाने पर आसन के बीच 3-4 घंटे का गैप हाेना चाहिए।
  • गर्भवती महिलाओं काे इस आसन काे नहीं करना चाहिए।
  • पैराें, घुटनाें पर दर्द हाेने की स्थिति में इस आसन काे करने से बचें।
navasana to burn belly fat
 
(Image : Vyoga.world)

3. नौकासन (Navasana Burn Hips Fat)

नौकासन हिप्स की चर्बी काे कम करने के लिए एक बेहतरीन याेगासन है। इस राेजाना करने से आपके संपूर्ण स्वास्थ्य काे लाभ मिलता है। इस आसन में शरीर की मुद्रा नाव के आकार की बनती है, इसलिए इसे नौकासन कहा जाता है। इस बाेट पाेज के नाम से भी जाना जाता है। जानें नौकासन के फायदे (Navasana Benefits)

नौकासन काे करने का तरीका (Navasana Steps)

  • इस आसन काे करने के लिए सबसे पहले याेगा मैट पर पीठ के बल लेट जाएं।
  • लंबी गहरी सांस लेते हुए दाेनाें पैराें काे उठाएं।
  • धीरे-धीरे हाथाें काे एकदम सीधा रखें और हाथाें के साथ ही अपनी अपर बॉडी काे भी ऊपर उठाएं।
  • इस अवस्था में आपका शरीर नाव के आकार का नजर आता है।
  • 10-15 सेकेंड तक इसी अवस्था में बने रहें। 
  • आप इस प्रक्रिया काे 3-5 बार दाेहरा सकते हैं।

नौकासन के फायदे (Health Benefits of Navasana)

  • इस आसन काे राेज करने से कूल्हाें या हिप्स की चर्बी दूर हाेती है।
  • यह कब्ज, गैस और एसिडिटी की समस्या काे दूर करता है।
  • इससे पैर, पेट, पीठ की मांसपेशियां मजबूत बनती हैं।

नौकासन करते हुए सावधानियां (Navasana Precautions)

  • पीठ, पैराें में दर्द हाेने पर इस आसन काे करने से बचें।
  • गर्भवती महिलाओं काे नौकासन का अभ्यास नहीं करना चाहिए।
  • पीरियड्स के दिनाें में भी इस आसन काे न करें।
  • पेट में दर्द या चाेट, सर्जरी की स्थिति में भी इस आसन काे करने से बचें।

अगर आप भी अपने हिप्स पर जमी चर्बी से परेशान हैं, ताे इस स्थिति में ऊपर बताए गए 3 याेगासनाें का अभ्यास राेजाना करें। इसकी सावधानियाें का ध्यान जरूर रखें। शुरुआत में किसी याेगा एक्सपर्ट की सलाह पर ही इन आसनाें काे करें।

Disclaimer