अक्सर रहता है पैरों में सुन्नपन और होती है झनझनाहट तो ट्राई करें ये तितली आसन, जानें करने का तरीका

घर पर तितली आसन कर पैरों में होने वाली झनझनाहट और सुन्नपन को दूर किया जा सकता है, लेख में जानें इसे करने का तरीका।

Jitendra Gupta
Written by: Jitendra GuptaPublished at: Jan 31, 2020Updated at: Jan 31, 2020
अक्सर रहता है पैरों में सुन्नपन और होती है झनझनाहट तो ट्राई करें ये तितली आसन, जानें करने का तरीका

योग हमारी स्वास्थ्य से संबंधित कई समस्याओं को दूर करने में काम आता है इसमें कोई दो राय नहीं है। योग में कोई एक आसन नहीं बल्कि हर समस्या के लिए एक विशेष आसन होता है, जो हमारी हर परेशानी को दूर करने का काम करता है। सभी योगासन से शरीर को अलग-अलग लाभ मिलते है। इन सभी योगासन में से कुछ को करना बहुत ही आसान होता है, तो कुछ को करने के लिए बहुत ज्यादा सावधानी बरतनी होती है। खासकर जब आप किसी आसन को घर पर कर रहे होते हैं तो और ज्यादा ध्यान देने की जरूरत होती है। इन्हीं में से एक है तितली आसन, जिसके फायदे जानकर आपके इस आसन के मुरीद हो सकते हैं। ये आसन आपके पैरों में सुन्नपन और झनझनाहट को दूर करने में मदद करता है। इतना ही नहीं ये आपके पैरों की थकी मांसपेशियों को आराम पहुंचाने का भी काम करता है।

BUTTERFLY POSE

तितली आसन को अंग्रेजी भाषा में बटरफ्लाई पोज भी कहा जाता है, जिसे घर पर आसानी से किया जा सकता है। इस आसन को करते वक्त आपके शरीर की मुद्रा तितली जैसी होनी चाहिए, जिस कारण ही इसे तितली आसन कहते हैं। इस आसन को गलत तरीके से करने पर यह शरीर के लिए नुकसानगदायक भी हो सकता है। इस लेख में हम आपको बताने जा रहे हैं कि कैसे तितली आसन आपके पैरों के दर्द और सुन्नपन को दूर कर सकता है।

दिन भर काम की व्यस्त्ता और इस भागदौड़ भरी जिंदगी में आपके शरीर का थकना स्वभाविक है लेकिन पैरों का दर्द और उनमें झनझनाहट चैन की नींद नहीं आने देती है। इन सभी भागदौड़ के लिए पैरों की मांसपेशियां का मजबूत होना बहुत जरूरी है। अगर आपके पैरों में अक्सर सुन्नपन और झनझनाहट रहती है तो आप सुबह उठकर तितली आसन कीजिए। ऐसा करने करने से आपकी पैरों की मांसपेशियां को आराम मिलेगा और वह मजबूत हो जाएंगी।

क्यों होता है पैरों में सुन्नपन

आपने  गौर किया होगा कि ज्यादा वक्त तक आलती-पालती मारकर बैठने, जमीन पर पैर मोड़कर बहुत देर तक बैठे रहने या फिर एक ही स्थिति में पैर लटकार बैठे रहने से पैरों में झनझनाहट शुरू हो जाती है। इसी स्थिति को पैर में सुन्नपन होना भी कहते हैं। बहुत से लोगों को आपने ये कहते हुए सुना होगा कि 'पैर सो गया' है या पैरों में झनझनाहट हो रही है। इस स्थिति का आपने बहुत बार सामना भी किया होगा लेकिन इसका हल आपके पास शायद ही हो।

इसे भी पढ़ेंः योग के शौकीन ये 5 योगासन करते वक्त बरतें जरूरी सावधानियां, हो जाएंगे गंभीर चोट का शिकार

गंभीर बीमारी की वजह भी हो सकता पैरों में सुन्नपन

पैरों के कई बार सुन्न होने या फिर उनमें झनझनाहट की दिक्कत होने पर कुछ लोग हिला-डुलना शुरू कर देते हैं, जिसके बाद आपको इस समस्या से छुटकारा मिल जाता है। लेकिन बार-बार ये परेशानी किसी गंभीर बीमारी का संकेत भी हो सकती है। योग ने कई रोगों को दूर किया है। इसी कड़ी में तितली आसान आपके पैरों को राहत देने में मदद कर सकता है। इस आसन को करने से पैरों में लचीलापन बढ़ता है, पैर मजबूत होते हैं और साथ ही दूसरी समस्याओं से छुटकारा मिलता है।

BUTTERFLY YOGA

तितली योगासन के फायदे

  • नियमित रूप से तितली आसन करने पर पैरों में जकड़न की परेशानी समाप्त होती है। 
  • रोजाना ये आसान करना पैरों की कमजोरी दूर करता है।
  • रोजाना तितली आसन करने से पैरों में भारीपन  नहीं रहता है। 
  • सुन्नपन की समस्या समाप्त हो जाती है। 
  • नियमित रूप से तितली आसन करने पर वैरीकोज वेन्स और एड़ी का दर्द भी दूर हो जाता है। 
  • पैर की नस खींचने पर इस आसन से उसे ठीक किया जा सकता है। 
  • जांघ की मांसपेशियों और कूल्हे की हड्डी को मजबूत बनाने का काम करता है तितली आसन। 
  • डिप्रेशन, एंग्जाइटी और थकान भी होती है दूर। 
  • मासिक धर्म के दर्द, ऐंठन और मेनोपॉज से भी मिलता है आराम। 
  • जांघों की मांसपेशियों में आया तनाव या खिंचाव कम होता है। 
  • पैरों में खून का बहाव ठीक रहता है। 
  • गठिया और जोड़ों के दर्द में आराम मिलता है।

इसे भी पढ़ेंः आपकी मेंटल और फिजिकल हेल्थ को दुरुस्त बनाने में कारगर हैं योग के ये नए ट्रेंड्स, जानें इन्हें करने का तरीका

कैसे करें तितली आसन

दोनों पैरों को सामने की ओर फैलाकर बैठें।

घुटनों को मोड़कर पैरों के पंजों को आपस में मिला लें। 

हाथों को घुटनों पर रखें और घुटनों को ऊपर की ओर उठा लें। 

घुटनों को उठाने के बाद आपस में मिलाने का प्रयास करें। 

ऐसा करने के बाद घुटनों को नीचे लाएं और जमीन से सटाने की कोशिश करें। 

4 से 5 बार तक ऐसा करें। 

जब घुटने जमीन से छूने लगें तो हाथों से पैरों के पंजों को पकड़ें और घुटनों को जल्दी-जल्दी ऊपर नीचे करने लगे। ठीक तितली की तरह। 

इस आसन को करते हुए सांस की गति सामान्य रखें।

तितली आसन करते वक्त बरतें ये सावधानियां

घुटने और कमर में दर्द हो तो इस योगासन को करने से बचें। 

आसन को करते समय पैरों को ज्यादा जोर से न हिलाएं। 

जैसा कहां गया है ठीक वैसा करें। 

कमर के नीचले हिस्से में दर्द हो तो ये आसन करना आपके लिए घातक साबित हो सकता है।

Read more articles on Yoga in Hindi

Disclaimer