घबराहट महसूस होने पर कौन से योगासन करने चाहिए? ये 4 योग कम करेंगे तनाव

घबराहट महसूस करने पर आपको खुद को शांत करने के लिए कुछ खास योगासन करने की जरूरत होती है, जिससे आपको स्ट्रेस कम करने में मदद मिलती है। 

Dipti Kumari
Written by: Dipti KumariPublished at: Jun 16, 2022Updated at: Jun 16, 2022
घबराहट महसूस होने पर कौन से योगासन करने चाहिए? ये 4 योग कम करेंगे तनाव

कई बार आपके साथ ऐसा होता होगा कि आपको बिना किसी कारण के घबराहट और स्ट्रेस का अनुभव होता होगा। जिसीक वजह से आप तनाव और सिरदर्द का अनुभव कर सकते हैं। हालांकि आजकल के खानपान और दिनचर्या के कारण भी लोगों में घबराहट और स्ट्रेस बढ़ती जा रही है। ऐसी स्थिति में आपकी सांसों की गति तेज हो जाती है और साथ में हाथ-पैर ठंडे हो सकते हैं। सांस फूलने और धड़कन तेज होने की दिक्कत हो सकती है। अगर आप भी बिना बात के तनाव और स्ट्रेस का अनुभव करते हैं, तो आपको इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए कुछ खास योगासन करने की जरूरत होती है ताकि आप अपने मन मस्तिष्क को शांत कर सकें और तनाव से राहत पा सकें। हालांकि आपको योगासन के साथ-साथ अपने दिमाग को घबराहट और गलत विचारों से दूर रखने के लिए दोस्तों से बात भी कर सकते हैं। साथ ही खुद को काम में भी व्यस्त रख सकते हैं। इससे आपको काफी फायदा मिल सकता है। 

घबराहट होने पर करें ये योगासन 

1. बद्धकोणासन 

इस आसन के अभ्यास से आपको काफी लाभ मिल सकता है। इसे बटरफ्लाई पोज़ भी कहते हैं। इससे आपके पैरों को आराम मिलने के साथ-साथ आपने मस्तिष्क को एकाग्र करने में भी मदद मिलती है। इससे आपकी घबराहट और बैचेनी कम हो सकती है। इसके लिए आप एक मैट पर सीधे बैठ जाएं। अपने दोनों पैरों को सामने की और सीधा रखें। इसके बाद पैरों को मोड़ लें फिर हाथों की उंगलियों को पैरों के पंजो के ऊपर ला के मिला लें। इस दौरान कोशिश करें कि आपकी एड़ियां शरीर से सटी हुई होने चाहिए। सांस लेते हुए दोनों पैरों को एक साथ बटरफ्लाई की तरह घुटनों को ऊपर ले जाएँ और फिर नीचे ले आएं। आप इसे रोज़ाना 15 से 20 बार कर सकते हैं। इससे पैरों की मांसपेशियां भी मजबूत होती है। 

stress-management

2. दण्डासन 

इस आसान में आपको दिनभर के स्ट्रेस को सहने या कम करने की ताकत मिलती है। इसे आप किसी भूी समय खाना खाने के 4-5 घंटे बाद कर सकते हैं। इससे आपकी एकाग्रता क्षमता बढ़ती है। इसके अलावा हृदय गति भी सामान्य होती है। यह आसान करने के लिए आप सीधे बैठ जाएं और अपनी टांगों को सीधा फैला लें। इसके बाद पैरों की उंगलियों को अंदर की तरफ मोड़ ले लेकिन तलवों को बाहर की ओर ही रहने दे। अब अपने बाजुओं को कमर के बराबर सीधा रखें और कूल्हे को जमीन पर बराबर सटा लें। उसके बाद अपने सिर को नीचे की ओर झुका कर अपनी नज़र को नाक पर फोकस करने का प्रयास करें। इस अभ्यास को आप रोजाना 6 से 7 बार कर सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें- किन कारणों से होती है घबराहट या बेचैनी? डॉक्टर से जानें इसके गंभीर लक्षण और बचाव के तरीके

3. पश्चिमोत्तानासन

इस आसन की मदद से आप भी अचानक उठी घबराहट और स्ट्रेस को कम कर सकते हैं। इससे आप अपनी मांसपेशियों के दर्द को कम कर सकते हैं और साथ ही रीढ़ की हड्डी और कमर दर्द से भी आपको राहत मिलती है। दरअशल जब आपको घबराहट होती है, तो अचानक आपके शरीर में थकान और दर्द का अनुभव होने लगता है। ऐसे में इसे काम करने के लिए आप पश्चिमोत्तानासन का अभ्यास कर सकते हैं। इस आसन को करने के लिए अपने दोनों पैरों को आगे की दिशा में फैला लें। अपने बाजुओं को सीधा करें और उन्हें आगे की ओर ले जाएं। इसके दौरान अपने दोनों पैरों की उंगलियां यानी अंगूठे को पकड़ने की कोशिश करें और अपनी नाक से घुटने को टच करने का प्रयास करें। रोजाना आसन को दो बार करने से आपको काफी फायदा मिल सकता है। 

stress-management

4. उष्ट्रासन 

यह आपके पूरे शरीर को लचीला बनाने में मदद करता है और साथ ही कंधे के दर्द से निजात दिलाता है। साथ ही आपके पैरों की मांसपेशियों को भी ये मजबूत बनाता है और इससे आप अंदर से मजबूती का अनुभव करते हैं। इस मुद्रा के लिए आप अपने पैरों को पिछली दिशा की ओर मोड़ कर सीधा कर लें। अपने शरीर को पीछे की ओर ले जाने की कोशिश करें और दोनों हाथों को एड़ियों पर रख लें। अब इस बात का ध्यान रखें कि इस आसन को करते समय अपने दोनों बाजुओं को सीधा रखें। इसे आप सुबह से समय खाली पेट में करें। इससे आपको काफी फायदा मिल सकता है। 

(All Image Credit- Freepik.com)

Disclaimer