Expert

लिंग मुद्रा का अभ्यास करने से मिलते हैं कई फायदे, दूर होती हैं सर्दी-खांसी सहित ये 7 समस्याएं

Linga Mudra Benefits In Hindi: लिंग मुद्रा का अभ्यास करने से शरीर की कई समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है, जानें लिंग मुद्रा के फायदे और करने का तरीका।

Vineet Kumar
Written by: Vineet KumarPublished at: Jun 15, 2022Updated at: Jun 15, 2022
लिंग मुद्रा का अभ्यास करने से मिलते हैं कई फायदे, दूर होती हैं सर्दी-खांसी सहित ये 7 समस्याएं

योग करना सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद होता है। साथ ही कई ऐसी हस्त मुद्राएं भी जिनका अभ्यास करने से शरीर के कई  रोगों में राहत पाई जा सकती है। हस्त मुद्राओं की खास बात यह है कि आप इन्हें कहीं भी और किसी भी समय कर सकते हैं। ऐसी ही एक मुद्रा है लिंग मुद्रा (Linga Mudra), जो सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद है। लिंग मुद्रा एक ऐसी मुद्रा है, जिसमें दोनों हथेलियों को इंटरलॉक किया जाता है। इससे शरीर के भीतर ध्यान केंद्रित करने और उनके प्रवाह को बनाए रखने में सक्षम होती है। इसमें अंगूठे पर ध्यान केंद्रित किया जाता है और अंगूठा मनुष्य के शरीर में अग्नि तत्व का प्रतीक होता है। लिंग मुद्रा अग्नि तत्व को मजबूत बनाने का कार्य करती है। लिंग मुद्रा भी योग की तरह है, इसमें व्यक्ति को ध्यान लगाना होता है। लिंग मुद्रा का अभ्यास करने से तन, मन और शरीर में सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है। यह मन को शांत करने में मदद करता है।

योगाचार्य और हस्त मुद्रा एक्सपर्ट, सर्टिफाइड योगा एंड वेलनेस कोच संगीता पोरवाल बताती हैं कि लिंग मुद्रा का अभ्यास करने से शरीर में ऊर्जा का संचार होता है। यह सर्दी, जुकाम आदि की समस्याओं को दूर करने के साथ ही कई अनेक स्वास्थ्य लाभ प्रदान करती है। इस लेख में हम लिंग मुद्रा के फायदे और करने का तरीका (Linga Mudra Benefits In Hindi How To Do) बता रहे हैं।

Ling Mudra Benefits In Hindi

सेहत के लिए कैसे फायदेमंद है लिंग मुद्रा का अभ्यास (Linga Mudra Benefits In Hindi)

    1. लिंग मुद्रा का अभ्यास करने से फेफड़े स्वस्थ रहते हैं, जिससे अस्थमा, टीबी जैसी गंभीर समस्याओं में इस मुद्रा का अभ्यास बहुत उपयोगी है।
    2. यह शरीर में मौजूद अतिरिक्त कफ को खत्म करने में मदद करती है।
    3. इसके अभ्यास से कब्ज की समस्या दूर होती है, महिलाओं के पीरियड्स रेगुलर होते हैं और वजन घटाने में भी मदद मिलती है।
    4. साइनस जैसी समस्याओं में लिंग मुद्रा का अभ्यास एक प्रभावी उपचार के रूप में काम करता है। साथ ही इससे लो बीपी, पैरालिसिस, एलर्जी जैसी समस्याओं से छुटकारा पाने में भी मदद मिलती है।
    5. लिंग मुद्रा का अभ्यास करने से शरीर में कफ के निर्माण को रोकने और फेफड़ों को मजबूत बनाने में मदद मिलती है। साथ ही फेफड़ों को ऊर्जा मिलती है।
    6. इसके अभ्यास से सर्दी-खांसी जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलता है और सीने में जलन या संक्रमण को कम करने में मदद मिलती है।
    7. फेफड़ों संबंधी समस्याएं दूर होती हैं और फेफड़े स्वस्थ होते हैं।
    8. लिंग मुद्रा का अभ्यास करने से शरीर का तापमान बढ़ता है जिससे ठंड के मौसम में भी गर्मी का एहसास हो सकता है और शरीर से पसीना निकल सकता है।
 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by sangitasyogasutra (@sangitasyogasutra)

कैसे करें लिंग मुद्रा का अभ्यास (How To Do Ling Mudra In Hindi)

लिंग मुद्रा को बहुत आसानी से किया जा सकता है। इसे करने के लिए आपको किसी शांत वातावरण की जरूरत होती है। आप इसे शांत, साफ वातावरण में ही करें।

इसे भी पढें: प्रजनन क्षमता बढ़ाने के लिए महिलाएं करें इन 3 मुद्राओं का अभ्यास, गर्भधारण में होगी आसानी

  • इस मुद्रा को करने के लिए सबसे पहले आप किसी शांत वातावरण में योग मैट बिछा लें।
  • इस पर सिद्धासन में बैठ जाएं।
  • अपनी दोनों आंखों को बंद कर लें। इस दौरान अपनी सांसों पर ध्यान केंद्रित करें।
  • इसके बाद अपने बाएं हाथ को पेट के पास लाएं और उस पर दाएं हाथ को मुट्ठी बांधकर रखें।
  • अब अपने अंगूठे को एकदम सीधा में रखें। इस पर ध्यान केंद्रित करें।
  • इस मुद्रा में आप 10-15 मिनट तक रह सकते हैं।
  • लिंग मुद्रा को सुबह-शाम किसी भी समय किया जा सकता है।

All Image Source: Freepik.com

Disclaimer